डीएम ने एलर्ट किया मानसून सीजन की आपदा के प्रबंधन तंत्र को, 15 तक हो जांय तैयार

Spread the love

जयनत प्रतिनिधि
पौड़ी। आगामी मानसून सीजन से पूर्व आपदा प्रबंधन की तैयारियों को लेकर कल बुधवार देर सांय तक जिलाधिकारी गढ़वाल डा. विजय कुमार जोगदण्डे ने वर्चुअल माध्यम से आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक ली। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से आपदा के दृष्टिगत चिन्हित किए गए संवेदनशील/ अतिसंवेदनशील स्थलों, राहत शिविर, पर्याप्त उपकरण/संसाधन, मैन पावर, कंट्रोल रूम, खाद्य सामग्री, हेलीपैड, पुल, जर्जर/जीर्ण शीर्ण भवनों, पेयजल, साफ-सफाई आदि पर चर्चा कर जानकारी लेते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि आपदा से पूर्व तहसील स्तर पर एवं विभाग स्तर पर सभी तैयारियां पूर्ण कर लें, ताकि आपदा के समय कम से कम दिक्कतों का सामना कर एक अच्छा रिस्पांस दे सकें। कहा कि सभी एसडीएम 15 जून, 2021 तक तहसील स्तर पर मॉक ड्रिल कर लें।
जिलाधिकारी डा. जोगदण्डे ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि आपदा के दृष्टिगत यथा संवेदनशील/अतिसंवेदनशील चिन्हित स्थल, राहत शिविर, उपकरण/संसाधन, मैन पॉवर, सेटेलाइट फोन, टावर लाइट, टैण्ड, पेट्रोल डीजल/खाद्य सामग्री उपलब्धता/मांग, स्थाई/अस्थाई हेलीपैड, पुल आदि समस्त सूचनाएं संख्यात्मक रूप से कंपाइल कर रिपोर्ट उपलब्ध कराएं। उन्होंने सभी एसडीएम/तहसीलदार को निर्देशित किया कि चिन्हित अस्थाई आपदा राहत शिविरों को व्यक्तिगत रूप से एक बार देख लें। साथ ही अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत के ग्राम प्रधानों से बात कर लें, उनका संपर्क नंबर कंट्रोल रूम को तथा कंट्रोल रूम का नंबर उनको उपलब्ध करा दें तथा उनके स्तर से की गई व्यवस्थाओं की भी जानकारी ले लें। साथ ही ग्राम पंचायत स्तर पर वॉलिंटियर्स को चिन्ह्ति कर लें, संवेदनशील वृ़क्षों को चिन्ह्ति कर आवश्यक कार्यवाही कर लें।
जिलाधिकारी ने सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि निर्माणाधीन भवनों में जहां पर पानी का जमावड़ा है अथवा टंैक लीकेज की समस्या के निस्तारण हेतु संबंधित ठेकेदार एवं विभागीय अधिकारी को नियमानुसार 24 घंटे का समय देते हुए नोटिस जारी करें तथा चालानी कार्रवाई करते हुए सील करना सुनिश्चित करें। साथ ही जिन गोदामों में 2 माह का अग्रिम राशन भरा जाना है उसे 15 जून से पहले भरवाकर निरीक्षण कर ले। खाद्य सामाग्री की मांग ग्राम पंचायत और यूनिट के हिसाब से करें। साथ ही तहसील स्तर पर 50-50 फूड पैकेट जरूरत के मुताबिक बना लें। कहा कि आवश्यकतानुसार 500 फूड पैकेट बनाने के लिए आपको अधिकृत कर दिया गया है।
जिलाधिकारी द्वारा सभी एसडीएम को यह भी निर्देश दिये गये कि लोक निर्माण विभाग, नगर निगम, नगरपालिका एवं नगर पंचायतों के पास उपलब्ध सामान की सूची, मशीन रखे स्थानों की सूची, ड्राइवरों का नाम व संपर्क नंबर तथा उनके रुकने का स्थान आदि समस्त जानकारी तहसील स्तर पर पर रखना सुनिश्चित करें तथा जिला एवं तहसील कंट्रोल रूम को भी उपलब्ध कराएं। साथ ही मशीन रखे गए स्थानों को रैंडमली चेक कर ले। कहा कि यह भी सुनिश्चित कर लें कि जनपद एवं तहसील स्तर पर स्थापित कंट्रोल रूम का नम्बर सभी ग्राम प्रधानों के पास उपलब्ध हो तथा कन्ट्रोल रूम में तैनात कार्मिक नियमित रूप से वहां पर रहें। साथ ही सभी सड़कों के किनारे नालियों की साफ-सफाई, रेत बजरी गिरे स्थानों का निरीक्षण कर सड़क का नाम सहित साप्ताहिक रिपोर्ट उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।
सभी एसडीएम, नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायतों को निर्देशित किया कि 15 जून, 2021 से पहले सभी सार्वजनिक पेयजल का सैंपलिंग लेकर जांच कर लें तथा लीकेज टंकियों को ठीक करवाकर साफ सफाई करवाना सुनिश्चित करें। सभी तहसीलें अपना रेन गेज चेक कर साफ सफाई करवाना सुनिश्चित कर लें। एसडीएम श्रीनगर को निर्देशित किया कि बरसात में नदी के वाटर लेवल, सूचनाओं के आदान-प्रदान, बाढ़, उपकरण आदि व्वस्थाओ को लेकर रेल विकास निगम, सिंचाई, हाइड्रो पावर इंचार्ज, एसडीआरएफ, पुलिस आदि के साथ बैठक कर लें।
जिलाधिकारी ने सभी नगर निगम, नगर पालिका और नगर पंचायत के अधिकारियों को निर्देशित किया कि डेंगू रोकथाम के लिए 15 जून, 2021 से पहले नालियों तथा पानी जमावड़ा स्थलों की साफ- सफाई एवं दावा छिड़काव की करवाई पूर्ण कर लें। साथ ही जीर्ण शीर्ण भवनों तथा उनमें रहने वाले लोगो को नोटिस जारी कर भवन पर भी चस्पा करना सुनिश्चित कर लें तथा एसडीएम से विजिट करवा ले। साथ ही भारी बरसात में लोगो को शिफ्ट एवं आगाह करने हेतु टीम लगाएं। कहा की जीर्ण शीर्ण भवनों की सूची, टैंकर, पिकअप वाहन, राहत शिविर, पंप, कटर, टेंट, स्ट्रेचर, बॉबकट, उपलब्ध उपकरण, मैन पॉवर आदि की संख्यात्मक सूचना उपलब्ध कराएं। कहा कि नगर निगम कोटद्वार के लिए 2 बॉब्कट तथा पौड़ी एवं श्रीनगर के लिए एक-एक बॉबकट खरीद लें। कहा की सामाग्री ढुलान हेतु एक-एक वाहन तैयार रखें तथा कार्मिकों को रैन कोट उपलब्ध कराएं। साथ ही रैन बसेरा वा राहत शिविर चिन्हित कर सूची उपलब्ध कराएं।
जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग आपदा उपकरणों की उपलब्धता/मांग एवं क्रियाशीलता की जानकारी लेते हुए निर्देशित किया कि प्राइवेट जेसीबी के लिए 15 जून, 2021 तक सभी आवश्यक कार्रवाई करते हुए सूचना उपलब्ध कराएं। संबंधित अधिकारी ने बताया कि प्राइवेट जेसीबी के लिए निविदा आमंत्रित हो चुकी हैं तथा जल्द ही अनुबंधित कर लिया जाएगा। सबंधित अधिकारी को निर्देशित किया गया कि डिविजन वाइज पुलों की सूची कंपाइल कर उपलब्ध कराएं तथा पुलों के निरीक्षण रिपोर्ट भी आपदा प्रबंधन कार्यालय को उपलब्ध कराएं। साथ ही अस्थाई हेलीपैड का चिन्हीकरण क्षमतानुसार करें तथा यह भी ध्यान रखें कि वहां पर हाई टेंशन लाइन या स्कूल न हो तथा वाहन आवाजाही आदि की सुविधा हो।
वहीं आपदा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि राहत शिविर में लोगो को ठहराने हेतु कमरा क्षमता, शौचालय की व्यवस्था, सड़क से जुड़ाव, जहां राहत शिविर बनाया गया है, संबंधित का कॉन्टेक्ट नंबर आदि सूचनाएं एक प्रारूप बनाकर एकत्रित कर लें। साथ ही तहसील, नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत, लोक निर्माण विभाग से दी गई सूचना के संबंध में टेलीफोन से बात कर जांच कर लें कि दी गई जानकारी सही हो। जल संस्थान के अधिकारी को निर्देशित किया गया कि अस्थाई रूप से पाइप लाइन एवं अन्य आवश्यक सामग्री का पर्याप्त स्टॉक रखना सुनिश्चित करें। इसके लिए तहसील और ब्लॉक स्तर पर ठेकेदार/रेट कांट्रेक्टर से 15 जून, 2021 तक टेंडर कोटेशन की प्रक्रिया पूर्ण कर सूची उपलब्ध करा दें तथा ध्यान रहे कि ठेकेदार उसी क्षेत्र का हो।
जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी से सभी दुकानदारों को गलब्स् एवं मास्क वितरण की जानकारी ली, जिस पर डीएसओ ने बताया कि एक सप्ताह लग जायेगा। बताया कि जनपद में 8 गोदाम है, जिनमें दो माह का अग्रिम राशन भरा जाना है। कहा कि मानसून अवधि के मध्येनजर 03 माह का राशन मांगा गया है, जो 20 जून, 2021 तक आ जायेगा। जिलाधिकारी ने परिवहन अधिकारी से के्रन के संबंध में जानकारी लेते हुए निर्देशित करते हुए कहा कि क्रेन ऑनर का नाम व दूरभाष नम्बर, उसका हैडक्वाटर आदि ट्रेस कर लें। साथ ही कहा कि बरसात के पहले सप्ताह में सभी ऑयल गिरे स्थानों पर चैकिंग अभियान चलाते हुए एसडीएम/तहसीलदार के साथ संयुक्त निरीक्षण कर लें।
इस अवसर पर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी. रेणुका देवी ने कहा कि गत वर्ष आपदाग्रस्त क्षेत्रों को चिन्ह्ति कर संयुक्त निरीक्षण किया जाना आवश्यक होगा। कहा कि वुड कटर की ज्यादा आवश्यकता होती है सभी विभागों के पास वुड कटर हो तो सुविधा रहेगी। कहा कि पुलिस विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में वुड कटर है।
इस अवसर एनआईसी कक्ष पौड़ी से अपर जिलाधिकारी डॉ. एस.के.बरनवाल, उपजिलाधिकारी एस.एस. राणा, आपदा प्रबन्धन अधिकारी दीपेश काला जबकि वर्चुअल माध्यम से मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मनोज शर्मा, उपजिलाधिकारी योगेश मेहरा, अर्पणा ढौंडियाल, संदीप, मनीष सिंह, रवीन्द्र सिंह बिष्ट, डीएसओ के.एस. कोली, टीटीओ राजेन्द्र विराटीया, सहित समस्त नगर निगम, नगर पालिका एवं नगर पंचायत के अधिकारी जुड़े हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!