असम में बोले गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा की सरकार ही रोक सकती है घुसपैठ

Spread the love

गुवाहाटी, एजेंसी। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को असम में विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकारें राज्य में घुसपैठ को रोकने में नाकामयाब रही हैं, लेकिन जब से भाजपा की सरकार बनी है, तब से घुसपैठ की घटनाएं नहीं हो रही हैं। केवल भाजपा की सरकार ही घुसपैठ रोक सकती है।
राज्य के कामरूप में लोगों को संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने कहा, एक जमाने में यहां के सारे राज्यों में अलगाववादी अपना एजेंडा चलाते थे, युवाओं के हाथों में बंदूक पकड़ाते थे। आज वो सभी संगठन मुख्य धारा में शामिल हो गए हैं और आज युवा अपने नए स्टार्टअप के साथ विश्व भर के युवा के साथ स्पर्धा करके अपने अष्टलक्ष्मी को भारत की अष्टलक्ष्मी बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।
शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर को हमेशा ‘अष्टलक्ष्मी’ के रूप में माना और सड़क और रेल संपर्क, आईटी, औद्योगिक विकास और शिक्षा सुविधाओं पर ध्यान केंद्रित कर इस क्षेत्र के विकास को काफी महत्व दिया। बता दें अष्टलक्ष्मी देवी लक्ष्मी के आठ रूप माने जाते हैं।
कांग्रेस पर हमला बोलते हुए शाह ने कहा, कांग्रेस ने आचार्य शंकरदेव के जन्मस्थान के लिए कुछ नहीं किया जिनके योगदान ने असम के इतिहास, नाटक लेखन, कला और कविता को मान्यता दी। लेकिन भाजपा राज्यों की भाषा, संस्ति, कला को मजबूत करने में विश्वास करती है। उन्होंने कहा, भाजपा का मानना है कि भारत तब तक महानता हासिल नहीं कर सकता जब तक राज्यों की संस्ति और भाषा को मजबूत नहीं किया जाता। भारत की संस्ति और कलाएं असमिया संस्ति और कलाओं के बिना अधूरी हैं।
अमित शाह ने कहा, आज असम को एक करने के लिए, असम की जनता को एक करने के लिए, असम को भारत के साथ जोड़ने के लिए और असम को विश्व के अंदर गुरु शंकर देव के संदेश को पहुंचाने के लिए एक बहुत बड़ा कार्यक्रम यहां होने जा रहा है। उन्होंने कहा, असम में लगभग साढ़े 4 साल से जो विकास की यात्रा पीएम मोदी के नेतृत्व में यहां सर्वानंद सोनोवाल और हेमंत विश्वा शर्मा की जोड़ी ने आगे चलाई है, इसका एक महत्वपूर्ण पड़ाव आज है। गृह मंत्री ने कहा, पीएम मोदी ने 2013 के चुनाव अभियान में कहा था कि जब तक पूर्वी भारत विकसित नहीं होता, भारत का विकास असंभव है। 2014 में देश की जनता ने मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया, पीएम के जो शब्द थे, उसको उन्होंने चरितार्थ किया है। उन्होंने कहा, असम में एक समय आंदोलनों का दौर आया। अलग-अलग बातों को लेकर आंदोलन हुए, सैकड़ों युवा मारे गए। असम की शांति को भंग कर दिया गया साथ ही असम के विकास को रोक दिया गया। शाह ने कहा, मुझे आज बड़ा आनंद है कि श्रीमंत शंकरदेव का जो जन्मस्थान था, वो घुसपैठियों ने कब्जाया हुआ था। उसे खाली करके आज शंकर देव की महान स्मृति को चीर काल तक स्थायी करने का काम हेमंत विश्वा शर्मा और हमारे मुख्यमंत्री जी करने जा रहे हैं। स्वास्थ्य सेवा को लेकर किए गए कार्यों पर बोलते हुए शाह ने कहा, मोदी जी जबसे प्रधानमंत्री बने तब से असम की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए बहुत बड़ा योगदान किया है। असम में लगभग 15 लाख अस्थाई और 5-10 लाख स्थायी आबादी के लिए आधुनिक सुपर स्पेशलिटी हस्पिटल बनने वाला है। उन्होंने कहा, आज राज्य के अंतर्गत 11 विधि कलेजों की स्थापना की आधारशिला रखी गई है। असम में निजी विधि महाविद्यालय हैं और बहुत पुराना एक विद्यालय भी है। असम ने इस देश को गोगोई साहब के रूप में मुख्य न्यायाधीश देने का काम किया है।
गृह मंत्री ने कहा, मोदी जी ने पूर्वोत्तर के विकास को केंद्र में रखकर 6 साल सरकार चलाई है। मुझे भरोसा है कि आगे भी हमारी सरकार इसी प्रकार पूर्वोत्तर की सेवा करती रहेगी। उन्होंने कहा, पहले 5 साल में कभी कभार कोई प्रधानमंत्री पूर्वोत्तर में आता था। लेकिन मोदी जी ने 6 साल के अंदर स्वयं 30 बार पूर्वोत्तर के दौरा किया है और हर बार तोहफा लेकर आए हैं। असम के चाय बागान के ढेर सारे काम किए हैं। सबसे पहले 7़20 लाख लोगों के बैंक अकाउंट खोलकर बिचौलियों से बचाने का काम किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!