देश के बड़े हिस्से में बेकाबू हो रहा कोरोना

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। केंद्रीय मंत्री ड हर्षवर्धन ने वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिए ब्व्टप्क्19 स्थिति की समीक्षा के लिए 11 राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक की। हर्षवर्धन ने कहा, अभी वायरस यहीं पर है, इसलिए हम सभी को बचकर रहने की जरूरत है। हम कोरोना से तभी लड़ पाएंगे, जब मीडिया और समाज मिलकर हमारी मदद करेगी।
उन्होंने कहा कि सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ 20 फीसद की पजिटिविटी रेट और 8 फीसद की ग्रोथ रेट के साथ है। मामलों में 10 गुना वृद्घि हुई है। पंजाब में 80 फीसद यूके के वेरिएंट पाए गए हैं। मामलों के बढ़ने का कारण पर उन्घ्होंने कहा कि यह हमारे संज्ञान में आया है कि मामलों में अचानक वृद्घि के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें भव्य शादियां, स्थानीय निकाय चुनाव, किसानों के विरोध आदि सहित शामिल हैं। कोरोना से लड़ने के लिए मास्क वाला वैक्सीन सबसे ज्यादा जरूरी है। हमने पिछले 24 घंटों में 4़3 मिलियन वैक्सीन एडमिनिस्टर किए, ये हमारे लिए गर्व की बात है।
केंद्र सरकार ने कोविड पर नियंत्रण और रोकथाम उपायों के लिए महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और पंजाब में 50 उच्च स्तरीय स्वास्थ्य टीमों को रवाना किया है। कोरोना के गंभीर होते हालात के मद्देनजर हर्षवर्धन महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, पंजाब और राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक की। इनमें से कुछ राज्यों में बहुत ही तेजी से संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।
इस बीच कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर महाराष्घ्ट्र के मुख्घ्यमंत्री उद्घव ठाकरे और दिल्घ्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। महाराष्घ्ट्र के मुख्घ्यमंत्री उद्घव ठाकरे और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर नया टीकाकरण केंद्र खोलने के लिए शर्तों में ढील देने का अनुरोध किया है। इसके साथ ही टीकाकरण के लिए आयु सीमा में टूट देने की मांग भी की है। अरविंद केजरीवाल ने पत्र के माध्यम से पीएम मोदी से अपील की है कि कोरोना का टीका सभी लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाए। वहीं उद्घव ठाकरे ने 25 वर्ष से ऊपर सभी लोगों को टीका लगाने की अनुमति देने की मांग की है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 96,982 नए मामले आने के बाद कुल पजिटिव मामलों की संख्या 1 करोड़ 26 लाख 86 हजार 49 हो गई है। इस दौरान हुई 446 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1 लाख 65 हजार के पार हो गई है। देश में लगातार 27 दिनों से नए मामलों में हो रही बढ़ोतरी के बाद सक्रिय मामलों की संख्या भी बढ़कर 7 लाख 88 हजार 223 हो गई, जो कुल मामलों का 6़21 फीसद है।

चार जिलों के जज मिले पजिटिव, देहरादून में चार नए कंटेनमेंट जोन बनाए
देहरादून। हरिद्वार की एक महिला जज सहित चार जिलों के सिविल जज कोरोना संक्रमित मिले हैं। जजों के पजिटिव मिलने से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। आनन फानन स्वास्थ्य विभाग ने तीन सिविल जजों को कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया है। वहीं महिला जज होम आइसोलेट हो गई हैं।
उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग के तीन सिविल जज हरिद्वार में अटल बिहारी वाजपेयी राज्य अथिति गृह में ठहरे थे। इस दौरान हरिद्वार की एक महिला जज तीनों जजों से मिली थीं। बीते रविवार को उत्तरकाशी में तैनात जज की रिपोर्ट पजिटिव पाई गई।
इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमित के साथ में ठहरे दोनों सिविल जजों और महिला जज के सैंपल लिए। सोमवार को तीनों जज भी संक्रमित पाए गए। सीएमओ ड़ एसके झा के अनुसार तीनों जजों को कोविड केयर सेंटर में आइसोलेट किया गया है। महिला जज होम आइसोलेट हो गई हैं। बीते 10 दिनों में दौरान जजों के संपर्क में आए लोगों को चिह्नित किया जा रहा है। सभी लोगों की कोविड जांच की जाएगी। वहीं सैनिटाइजेशन कराने के बाद राज्य अथिति गृह को बंद कर दिया गया है।

देश में हर वयस्क को कोरोना टीका लगाने के सुझाव को केंद्र सरकार ने किया खारिज
नई दिल्ली । देश में 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को कोरोना टीका लगाने के सुझाव को केंद्र सरकार ने खारिज कर दिया है। इससे पहले भी सरकार ने स्पष्ट किया था कि देश में सभी लोगों को फिलहाल कोरोना का टीका लगाने का कोई प्लान नहीं है। स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि बहुत से लोग कह रहे हैं कि आखिर देश में हर किसी को वैक्सीन क्यों नहीं दी जा रही। वैक्सीनेशन के अभियान के दो लक्ष्य हैं- मौतों को रोकना और हेल्थकेयर सिस्टम को बचाना। वैक्सीन देने का मकसद यह नहीं है कि जिसका इच्छा है, उसे टीका लगाया जाए बल्कि हम उन्हें टीका लगाने पर विचार कर रहे हैं, जिन्हें इसकी जरूरत है।
मीडिया से बात करते हुए स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि देश में 50 जिले चिंता की वजह बने हुए हैं। इनमें से 30 जिले महाराष्ट्र के हैं, छत्तीसगढ़ में ऐसे 11 जिले हैं और 9 जिले पंजाब के हैं। केंद्र सरकार ने इन सभी जिलों में कोरोना से निपटने की तैयारियों की निगरानी के लिए टीमों को भेजने का फैसला लिया है। इस बीच नीति आयोग के सदस्य वीके पल ने कहा कि देश में महामारी का असर बढ़ा है। पहले ही सरकार की ओर से चेतावनी दी गई थी कि हालात भले सुधरे हैं, लेकिन कोरोना को हल्के में नहीं लेना चाहिए। लेकिन अब कोरोना से स्थिति बिगड़ी है और बीते साल से ज्यादा गति के साथ केस बढ़ रहे हैं।

बिहार में विस्फोटक हुआ कोरोना, नीतीश कुमार ने लिया बड़ा फैसला
पटना। बिहार में कोरोना संक्रमण का दायरा तेजी से बढ़ता जा रहा है। राज्य में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 4143 हो गई है। सिर्फ पटना में 1881 एक्टिव केस हो गए हैं। स्थिति को देखते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जिलों की तैयारी को लेकर सभी जिलाधिकारियों व अन्य अफसरों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मंगलवार को बैठक की। इस दौरान कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना के प्रति सभी सजग रहें, कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें, सभी लोग मास्क का प्रयोग करें, आपस में दूरी बनाकर रखें।

दिल्ली में कोरोना का बड़ा विस्फोट, संक्रमण ने तोड़े इस साल के सभी रिकार्ड, 24 घंटे में 5100 नए केस, 17 लोगों की मौत
नई दिल्ली, एजेंसी। दिल्ली समेत देशभर के सभी शहरों में एक बार फिर कोरोना (ब्व्टप्क्-19) का कोहराम देखने को मिल रहा है। मंगलवार को एक दिन में पहली बार इस साल के सर्वाधिक 5000 से अधिक नए मामले मिलने और 17 और मरीजों मौतों की मौत से हड़कंप मच गया है। दिल्ली में अब संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 6़85 लाख को पार कर गया है। इसके साथ ही अब पजिटिविटी रेट भी बढ़कर 4़93 फीसदी पर आ गया है। सोमवार को 3548 मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी।
दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से मंगलवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में जहां कोरोना के 5100 नए मरीज मिले हैं, वहीं 17 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों का कुल आंकड़ा बढ़कर 11,113 हो गया है।
बुलेटिन के अनुसार, आज 2340 मरीज कोरोना मुक्त होकर अपने घरों को भी लौट गए, जबकि सोमवार यह संख्या 2936 थी। स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि दिल्ली में अब तक संक्रमितों की कुल संख्या 6,85,062 हो गई है और 8871 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राजधानी में अब कोरोना वायरस संक्रमण के एक्टिव केस भी बढ़कर 17,332 हो गए हैं। वहीं, अब तक कुल 6,56,617 मरीज इस महामारी को मात देकर कोरोना मुक्त हो चुके हैं। इसके साथ ही अब तक मरने वालों की संख्या 11,113 हो गई है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, आज दिल्ली में कुल 103,453 टेस्ट किए गए हैं। इनमें से 69,667 आरटीपीआरध् सीबीएनएएटी ध् ट्रूनैट टेस्ट और 33,786 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए। दिल्ली में अब तक कुल 15,075,212 जांचें हुई हैं और प्रति 10 लाख लोगों पर 7,93,432 टेस्ट किए गए हैं। इसके साथ ही अब दिल्ली में आज 201 नए कंटेनमेंट जोन बनाए जाने के बाद इनकी संख्या भी बढ़कर 3291 पर पहुंच गई है, जबकि शुक्रवार को इनकी संख्या 3090 थी।
राजधानी में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने के बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि श्आपश् सरकार महामारी की स्थिति को लेकर सतर्क है और स्थिति नजर रख रही है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि अब तक दिल्ली में 12 लाख से अधिक लोगों को टीका लगाया जा चुका है। महामारी की स्थिति पर जैन के बयान से कुछ घंटे पहले दिल्ली सरकार ने राजधानी में कोविड-19 के मामलों में तीव्र वृद्घि के मद्देनजर 30 अप्रैल तक रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!