सब्जियों ने बिगाड़ा रसोई का बजट, टमाटर हुआ लाल

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने के साथ ही अब सब्जियों के दाम बढ़ने लगे हैं। जिसके चलते थाली से धीरे-धीरे सब्जी गायब होने लगी है। सब्जियों के भाव
बढ़ने के कारण घरों में रसोई का बजट भी गड़बड़ाने लगा है। 15 दिन पूर्व जो टमाटर 10 रूपये किलो बिक रहा था वह अब 50 रूपये किलो बिक रहा है। महंगी
सब्जी होने पर मंडी में भी पहले की तरह सब्जी खरीदने वालों की भीड़ कम हो गई है।
लॉकडाउन में जहां सब्जियां बहुत ही कम कीमत पर बिक रही थी, पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ते ही वह आसमान छूने लगे है। ट्रांसपोर्ट भाड़ा और सिंचाई के
दाम बढ़ने से सब्जियों के दामों में जबरदस्त उछाल आया है। महंगी हुई सब्जियों से रसोई का भी बजट बिगड़ने लगा हैं। पहले ही लॉकडाउन के चलते लोगों के
काम धंधे नहीं चल रहे हैं ऊपर से बढ़े सब्जियों के दाम लोगों को खटकने लगे हैं। जो टमाटर पिछले दो हफ्ते पहले 10 रुपए किलो बिक रहा था वहीं टमाटर 50 से
60 रुपए किलो तक पहुंच गया है। इसके साथ ही शिमला मिर्च और आलू के दाम भी बढ़ गये है। आढतियों और व्यापारियों की मानें तो आने बाले समय में
सब्जियों के दाम और बढ़ने का अनुमान है। वर्तमान में टममाटर 50 से 60, शिमला मिर्च 80, बैंगन 40, लौकी 30, तोरी 30 रूपये प्रति किलो बिक रहा है। वहीं
10 से 15 रूपये किलो बिकने वाला आलू 35 से 40 रूपये किलो बिक रहा है। सब्जी महंगी होने के चलते ठेले पर सब्जी बेचने वाले कम हो गए है। जिस पर नगर
में सब्जी बेचने वाले ठेलों की संख्या कम हो गई है। नगर में आम बेचने वाले ठेलों की संख्या काफी अधिक है। गृहणी संगीता ने बताया कि लॉकडाउन के कारण
काम बंद होने से पति दिल्ली से घर आ गये है। आय का कोई साधन नहीं है। अभी तक बचत के पैसों से परिवार का भरण पोषण कर रहे थे, लेकिन अब बचत का
पैसा भी धीरे-धीरे खत्म हो रहा है। उन्होंने बताया कि अनलॉक होते ही सब्जियां मंहगी हो गई है। जिस कारण रसोई का बजट बढ़ गया है। टमाटर मंहगा होने से
खाना ही बंद कर दिया है। गृहणी रेखा ने बताया कि लॉकडाउन के कारण काम ठप पड़ा है। अभी भी काम खुलने की उम्मीद नहीं है। अभी तक सब्जियां सस्ती होने
से जैसे-तैसे परिवार का भरण पोषण कर रहे थे, लेकिन अब सब्जियां मंहगी होने से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। (फोटो संलग्न है)
कैप्शन01:

बॉक्स समाचार
गलियों से गायब हुई ठेलियां
कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने पर सब्जियां बाहर नहीं गई जिससे सब्जियों पर महंगाई की मार नहीं पड़ी। सब्जियों के पर्याप्त मात्रा में होने के चलते आलू
सहित अन्य सब्जियां सस्ती रही। लॉकडॉउन के चलते बाजार बंद रहने से दुकानें नहीं लगी। परन्तु, ठेले वाले हर गली मुहल्लों में पहुंचते रहे। लोगों को घर बैठे ही
सस्ती सब्जियां मिल रही थी, लेकिन जैसे ही अनलॉक हुआ उसके बाद से सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे। सब्जी के राजा आलू से लेकर अन्य सब्जियां महंगी
हो गई है। लालपानी निवासी संदीप, अनिल ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान प्रतिदिन आठ से दस ठेली वाले सब्जी और फल बेचने आ रहे थे, लेकिन अचानक
सब्जी मंहगी होने से पिछले एक सप्ताह से एक भी ठेली वाला सब्जी और फल लेने नहीं आया है।

बॉक्स समाचार
सब्जियों के भाव पूछकर लौट रहे लोग
गौरतलब है कि इन दिनों सब्जियों के भावों को देख घरों में किचकिच का माहौल बना हुआ है, सब्जी मंडियों में भी खरीदारी करने आए लोग सब्जियों के भावों को
पूछकर उल्टे पांव लौट जाते है, सब्जी मंडी में करीब सभी प्रकार की सब्जियों के दाम काफी तेज हुए हैं। सब्जियों के दामों में आई एकदम तेजी से लोग निरास
दिखाई दे रहे हैं। जहां पहले लोग थैलों में भर कर सब्जी भरकर ले जाते थे। लेकिन अब आधा-पाव सब्जी खरीदते दिखाई दे रहे है। सब्जियों के भाव बढ़ने के कारण
घरों में रसोई का बजट भी गड़बड़ाने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!