राकेश टिकैत बोले- 3 क्विंटल गेहूं की कीमत हो 1 तोले सोने के बराबर

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। केंद्रीय कृषि कानूनों की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी के लिए कानून की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि एमएसपी के लिए सरकार उनके पिता महेंद्र टिकैत के फर्मूले को लागू करे। इसके मुताबिक, 3 क्विंटल गेहूं की कीमत 1 तोले सोने के बराबर होनी चाहिए। बता दें, अभी एक 24 कैरेट के एक तोले सोने की कीमत करीब 48 हजार रुपए है, जबकि गेहूं का समर्थन मूल्य 1975 रुपए प्रति क्विंटल है।
न्यूज चौनल आज तक के श्सीधी बातश् कार्यक्रम में किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि डैच् को लेकर सरकार उनके पिता महेंद्र सिंह टिकैत के फर्मूले को लागू कर दे। उन्होंने कहा, 1967 में भारत सरकार ने गेहूं की एमएसपी 76 रुपए प्रति क्विंटल तय की थी, उस समय प्राइमरी स्कूल के टीचरों की सैलरी 70 रुपए महीने थी। वह एक महीने की सैलरी से 1 क्विंटल गेहूं नहीं खरीद सकते थे। 1 क्विंटल गेहूं की कीतम से ढाई हजार ईंट खरीद सकते थे। तब 30 रुपये की 1 हजार ईंट आती थीं।
राकेश टिकैत ने कहा कि तब सोने का भाव 200 रुपए प्रति तोला था, जो तीन क्विंटल गेहूं से खरीदा जा सकता था। उन्होंने कहा, हमको अब तीन क्विंटल गेहूं के बदले 1 तोला सोना दे दो। जितनी कीमत और चीजों की बढ़े उतनी ही गेहूं की भी बढ़नी चाहिए।
तो क्या होगी गेहूं की कीमत?
सोने की कीमत के साथ तुलना करें तो टिकैत की मांग के मुताबिक, 1 क्विंटल गेहूं की कीमत करीब 16 हजार रुपए होगी, जोकि मौजूदा एमएसपी से 8 गुना अधिक है। इस हिसाब से एक किलो गेहूं की कीमत करीब 160 रुपए होनी चाहिए।
गौरतलब है कि राकेश टिकैत कृषि कानूनों की वापसी की मांग पर उड़े हुए हैं। साथ ही वह सरकार से एमएसपी पर कानून की भी मांग कर रहे हैं। 26 जनवरी को हिंसा के बाद गाजीपुर बर्डर पर संभावित पुलिस कार्रवाई से पहले भावुक होने वाले टिकैत अब आंदोलन का मुख्य चेहरा बन गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!