ग्रामीणों ने सड़क निर्माण में लगाया मनमानी का आरोप, बोले सर्वें के विपरीत बन रही सड़क

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। रिखणीखाल ब्लॉक के लोगों ने लोक निर्माण विभाग लैंसडौन पर मनमानी का आरोप लगाया है। लोगों का कहना है कि दरखास्तीखाल-डिंडा-ग्राम डबराड़ तक 5 किलोमीटर मोटर मार्ग का निर्माण किया जा रहा है, लेकिन विभाग सर्वें व सहमति पत्र के अनुसार रोड़ नहीं बना रहा है। विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से सर्वें कि विपरीत रोड़ का निर्माण किया जा रहा है। ग्राम प्रधान राकेश रावत द्वारा लोनिवि लैंसडौन को आपत्ति पत्र भेजा गया है, परंतु विभाग अपने अड़ियल रवैए से क्षेत्रीय जनता को मानसिक रूप से परेशान कर रहा है।
ग्राम प्रधान राकेश रावत, क्षेत्र पंचायत सदस्य लक्ष्मी रावत ने कहा कि रिखणीखाल ब्लॉक के दरखास्तीखाल-डिंडा-ग्राम डबराड़ तक 5 किलोमीटर मोटर मार्ग का निर्माण किया जा रहा है। लोक निर्माण विभाग लैंसडौन के कर्मचारियों द्वारा बिना सूचना के खूटियां लगाई जा रही थी। जिस पर बूथानगर व डबराड़ के ग्रामीणों ने आपत्ति दर्ज की है। उन्होंने कहा कि अक्टूबर 2015 के सर्वे व सहमति पत्र के अनुसार आगे का कार्य होना है, परंतु विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से 2012 का सर्वे जबरदस्ती थोपा जा रहा है। जिससे लोगों में आक्रोश पनप रहा है। यदि भविष्य में किसी भी कर्मचारी व ग्राम वासियों के मध्य कुछ भी विवाद होता है तो उसकी समस्त जिम्मेदारी लोक निर्माण विभाग लैंसडौन के उच्च अधिकारियों की होगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 के सर्वें के आधार पर रोड़ का निर्माण किया जाय। इस संबंध में लोनिवि लैंसडौन के अधिकारियों को पत्र भी भेजा गया है, लेकिन इसके बावजूद भी विभाग के कर्मचारी चोरी छिपे खुटियां लगा रहे है। क्षेत्र पंचायत सदस्य लक्ष्मी रावत ने अधिशासी अभियंता लैंसडौन से अतिशीघ्र खूंटिया लगाने के कार्य पर रोक लागने की मांग की। साथ ही रोड़ का स्थलीय निरीक्षण कर आगे का कार्य अक्टूबर 2015 के सर्वे के आधार पर शुरू कराने की मांग की। लक्ष्मी रावत ने कहा कि डिंडा से आगे 2 किलोमीटर रोड़ कटिंग हो चुकी है और शेष 3 किलोमीटर कटिंग होनी है, जो विभागीय अधिकारियों की लापरवाही के कारण पूरा नहीं हो पा रहा है। विभाग की लापरवाही का नतीजा है कि आगे विवाद पैदा हो गया क्योंकि विभाग ने कहीं भी अपने रिकॉर्ड में अक्टूबर 2015 के सर्वें व ग्रामवासियों के मध्य सहमति पत्र का जिक्र नहीं किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!