शादियों में जाने वाले वाहनों पर नजर रखेगा हाइब्रिड एप

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

परिवहन विभाग बनायेगा हाइब्रिड एप
जयन्त प्रतिनिधि।
पौड़ी : सिमड़ी बस हादसे के बाद जिला प्रशासन अब शादियों में जाने वाले वाहनो पर नजर रखने के लिए जल्द ही हाइब्रिड एप तैयार करेगा। जिससे कि हादसों पर अंकुश लगाया जा सके और यातायात सुरक्षित तरीके से हो सके। डीएम ने परिवहन विभाग को इसको लेकर जल्द एप बनाने के निर्देश दिए हैं।
सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने शादी समारोह में जाने वाले वाहनों के हादसों का शिकार होने पर चिंता जताते हुए सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी को एक हाइब्रिड एप तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अफसरो को शहरों व नगर क्षेत्रों के आंतरिक मोटर मार्गों पर पॉकेट पार्किंग हेतु स्थानों का चयन करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रमुख शहरों, नगरों में पॉकेट पार्किंग के लिए स्थलों का चयन कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि शादी समारोहों में शराब पीकर वाहन चलाने से होने वाली सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए जिला सूचना विज्ञान अधिकारी व एआरटीओ द्वारा एक हाइब्रिड एप तैयार किया जाएगा और वाहन चालकों द्वारा इस एप को अपने फोन में डाउनलोड किया जाएगा, जिसकी निगरानी परिवहन विभाग द्वारा की जाएगी। इस एप के माध्यम से शादी में उपयोग किए जाने वाले वाहन को पंजीकरण, वाहन की स्थिति व अवस्था, वाहन चालक द्वारा संचालन के दौरान मदिरा का सेवन न करने जैसी शर्तों को शामिल किया जाएगा।
जिले में बीते दिनों हुई दुर्घटनाओं पर डीएम ने परिवहन विभाग को दुर्घटना के लिहाज से संवेदनशील मोटर मार्गों पर चलने वाले वाहनों का प्रोफाइल वाहन के टाइप, उनकी रवानगी व गंतव्य स्थल का नाम व समय, उन वाहनों की स्थिति के संबंध में माइक्रो लेवल सर्वे रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान मोटर मार्गों पर क्रैश बैरियर से संबंधित आंकड़ों में स्पष्टता न होने पर डीएम ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई। बैठक में एसएसपी श्वेता चौबे ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा जनवरी से अक्टूबर तक 1306 चालान किए गए, जिसमे से 285 के लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की गई। उन्होंने बताया कि दुर्घटना संभावित स्थलों के सुधारीकरण के तहत 250 स्थलों में से 211 स्थलों का सुधार किया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!