जन्म दिन पर शहरी विकास मंत्री ने लिया संतों से आशीर्वाद

Spread the love

हरिद्वार। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने अपने जन्म दिवस के अवसर पर श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी पहुंचकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज, आनंद पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी, आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी एवं मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंंद्रपुरी महाराज से आशीर्वाद प्रान्त किया। सभी संतो ने शल ओढ़ाकर व फूलमाला पहनाकर उन्हें आशीर्वाद प्रदान कर उनकी दीर्घायु की कामना की। इस दौरान संत महापुरूषों के सानिध्य में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने केक भी काटा। श्रीमहंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक सभी के प्रिय है। जो अपने कुशल नेतृत्व से हरिद्वार का समग्र विकास कर रहे हैं। उनके नेतृत्व में भाजपा को निरंतर मजबूती मिल रही है। आनंद पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी महाराज ने कहा कि कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक संत महापुरुषों के आशीर्वाद से हरिद्वार की जनता के हित में लगातार कार्य कर रहे हैं। धर्मनगरी के विकास एवं समाज सेवा के कार्यों से राजनीति के क्षेत्र में उनकी एक अलग छवि है। कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि राष्ट्र की एकता अखण्डता कायम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले संत समाज के आशीर्वाद से हरिद्वार को विश्व स्तरीय सुविधाओं से युक्त शहर बनाने का उनका सपना साकार हो रहा है। संतों के सानिध्य में कुंभ मेला भव्य रूप से संपन्न होगा। आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने कहा कि मदन कौशिक जैसे कर्तव्यनिष्ठ नेताओं की कार्यशैली से ही समाज एवं देश निरंतर उन्नति कर रहा है। संपूर्ण संत समाज मदन कौशिक के उज्जवल भविष्य एवं दीर्घायु की कामना करता है। मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुरी एवं निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत राम रतन गिरी महाराज ने कहा कि संतों के प्रति सदैव सम्मान का भाव रखने वाले कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक हरिद्वार ही नहीं बल्कि पूरे उत्तराखण्ड के लोकप्रिय राजनेता हैं। ईश्वर उन्हें शतायु करे तथा सफलता प्रदान करे। जिससे उनकी विकासपरक नीतियों का लाभ हरिद्वार व प्रदेश की जनता को निरंतर मिलता रहे। इस दौरान श्रीमहंत रामरतन गिरी, महंत मनीष भारती, महंत गंगा गिरी, महंत राजेंद्र भारती, महंत नरेश गिरी, महंत नीलकंठ गिरी, महंत ओंकार गिरी, महंत लखन गिरी आदि संतजन मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!