करनाल मामले पर बोले सीएम मनोहर लाल- कांग्रेस व कम्युनिस्ट बाज आएं, भोले किसानों को गुमराह न करें

Spread the love

चंडीगढ़, एजेंसी। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करनाल के कैमला गांव में किसान-संवाद कार्यक्रम के दौरान हुए उपद्रव की कड़ी आलोचना की है। मुख्यमंत्री ने उपद्रव और हुड़दंग के लिए कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी और भाकियू अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी को सीधे तौर पर जिम्मेदार ठहराया है। मनोहर लाल ने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र की मर्यादा यही है कि हर कोई अपनी बात को कहे। हमें अपनी बात कहने से रोकने की कोशिश स्वस्थ लोकतंत्र की हत्या से कम नहीं है। तीन कृषि सुधार कानूनों को रद करने की जिद पर अड़े लोगों को समझाने के लिए भाजपा ने प्रदेश भर में किसान-संवाद कार्यक्रमों की शुरुआत की है। पहला आयोजन दक्षिण हरियाणा के नारनौल में हो चुका है। दूसरा आयोजन रविवार को उत्तर हरियाणा के कैमला में आयोजित होना था, लेकिन मुख्यमंत्री मनोहर लाल के हेलीकाप्टर के लैंड होने से पहले ही वहां हुड़दंग मच गया। इसके बाद चंडीगढ़ पहुंचे मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस व कम्युनिस्ट पार्टी के उकसावे पर किसानों का नाम लेकर जो लोग बार्डर पर जमे हुए हैं, वह लगातार अपनी बात कह रहे हैं। हम जब अपनी बात कहने लगे तो कांग्रेस व कम्युनिस्टों के साथ गुरनाम सिंह चढूनी सरीखे लोगों को यह बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने भोले-भाले किसानों को बदनाम करने की साजिश रच दी। यह न तो स्वस्थ लोकतंत्र में उचित है और न ही मर्यादा ऐसा करने के लिए कहती है।
मनोहर लाल ने स्पष्ट किया कि केंद्र सरकार तीनों षि कानून किसी सूरत में वापस नहीं लेगी। हम किसानों से कह रहे हैं कि वह कम से कम एक साल के लिए इन कानूनों को अपनाकर देखें। कानूनों में हमेशा बदलाव और संशोधन होते हैं। यदि उन्हें एक साल में लगेगा कि कानून ठीक नहीं हैं तो मैं स्वयं किसानों के साथ इनमें संशोधन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने जाऊंगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के साथ होने वाली बातचीत में अधिकतर लोग कांग्रेस और कम्युनिस्ट विचारधारा के होते हैं। वह बातचीत करते हैं। आखिर में कहते हैं कि पंचायत का निर्णय सिर मत्थे, लेकिन तीनों कानून वापस लो। उन्हें समझाने की कोशिश करते हैं, लेकिन राजनीति के चलते वह जानबूझकर समझने को तैयार नहीं होते।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने एक सवाल के जवाब में कहा कि किसानों के नाम पर राजनीतिक दल राजनीति कर रहे हैं। उन्हें सर्दी में अपने घर लौट जाना चाहिए। बार्डर पर बैठे लोग किसान नहीं हो सकते। वह राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता ज्यादा हैं। वहां ठंड व अन्य कारणों से कई लोगों की मृत्यु हो चुकी है। इसके लिए सीधे तौर पर कांग्रेस व कम्युनिस्ट ही जिम्मेदार हैं। वे उन्हें यहां बैठे रहने के लिए उकसा रखा है। उन्होंने कहा कि करनाल में किसान संवाद कार्यक्रम से पहले कुछ लोगों से बातचीत की गई थी। उन्होंने सांकेतिक विरोध का भरोसा दिलाया था, लेकिन कांग्रेस व कम्युनिस्टों के साथ-साथ गुरनाम सिंह चढूनी की किसान संवाद कार्यक्रम नहीं होने देने की अपील के बाद इन लोगों ने भरोसा तोड़ा है। यदि मैं वहां हेलीकाप्टर से उतर जाता तो ज्यादा नुकसान होता। आखिरकार सभी अपने आदमी हैं। हम किसानों के नाम पर राजनीति नहीं करते।
राजपथ पर किसी पार्टी का नहीं देश का कार्यक्रम
मुख्यमंत्री ने 15 जनवरी के कांग्रेस के राजभवन घेराव के कार्यक्रम की आलोचना करते हुए कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली में राजपथ पर किसी पार्टी का नहीं बल्कि देश का कार्यक्रम होता है। यदि इसमें भी कुछ लोग खलल डालने की कोशिश करेंगे तो स्वाभाविक है कि वह अपने राष्ट्र से प्यार नहीं करते। उन्हें किसानों या देश का हितैषी कैसे माना जा सकता है। मनोहर लाल ने कहा कि बार्डर पर हम तमाम सुविधाएं मुहैया करा रहे हैं। यदि हम किसानों के हित की बात नहीं करते तो उन्हें हटा देते, लेकिन हमने उन्हें अपनी बात कहने का अधिकार दिया, मगर जब हम अपनी बात कहना चाह रहे हैं तो इन लोगों को तकलीफ हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!