महाराज ने किया विपक्ष को चारों खाने चित्त, पूरी तैयारी के साथ सदन में पहुंचे थे मंत्री

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

देहरादून। विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन प्रदेश के पर्यटन, सिंचाई, लोक निर्माण, पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्ति मंत्री सतपाल महाराज पूरी तैयारी के साथ सदन में पहुंचे और प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष द्वारा दागे गए सवालों का बडे ही धैर्य के साथ बेबाकी से जवाब देकर विपक्ष को चारों खाने चित्त कर दिया।
उत्तराखण्ड विधानसभा के प्रथम सत्र 2023 के दूसरे दिन मंगलवार को प्रदेश के पर्यटन, सिंचाई, लोक निर्माण, पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्ति मंत्री सतपाल महाराज पूरी तैयारी के साथ सदन में पहुंचे और प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष द्वारा दागे गए सवालों का बडे ही धैर्य के साथ बेबाकी से जवाब देकर विपक्ष को धराशायी कर दिया। प्रश्नकाल के दौरान विधायक विरेंद्र कुमार लोक ने लोक निर्माण मंत्री सतपाल महाराज से प्रश्न किया कि सरकार राज्य के छतिग्रस्त मार्ग को गड्ढा मुक्त करने के लिए क्या कर रही है और राज्य में कितने मार्ग गड्ढों से क्षतिग्रस्त थे। इसके अलावा विपक्ष के विधायक प्रीतम सिंह ने जानना चाहा कि प्रदेश में कितनी श्रेणियों के मोटर मार्ग विद्यमान हैं और किस श्रेणी के मोटर मार्गो पर सरकार द्वारा गड्ढा मुक्त अभियान चलाया गया है। विपक्ष के प्रश्नों का जवाब देते हुए लोक निर्माण मंत्री ने सदन को अवगत कराया कि वित्तीय वर्ष 2022-23 में शीतकाल के पश्चात कुल क्षेत्र 659 मार्ग गड्ढों से क्षतिग्रस्त थे। राज्य में लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग सहित पुल 8436 मार्गों के सापेक्ष सुगम यात्रा के दृष्टिगत मार्गो को गड्ढा मुक्त किए जाने हेतु 659 मार्गों के 3086 किलोमीटर लंबाई में पैच मरम्मत कार्य का लक्ष्य था, जिसके सापेक्ष 911 किमी लंबाई में माह फरवरी, 2023 तक पैच मरम्मत का कार्य पूर्ण किया गया है तथा अवशेष 2175 किमी लंबाई में पैच मरम्मत कार्य मार्च, 2023 तक पूर्ण किए जाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि यह एक निरंतर प्रक्रिया है और अप्रैल माह में भी कार्यवाही कर दी गई है।
लोक निर्माण मंत्री श्री महाराज ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2022-23 में लोक निर्माण विभाग के अधीन क्षतिग्रस्त 903 राजमार्ग के लक्ष्य के सापेक्ष 244, मुख्य मा र्मेजर डिस्टिक रोड के 421 के लक्ष्य के सापेक्ष 92, अन्य जिला मार्ग लक्ष्य 275 के सापेक्ष 78 और ग्रामीण मार्ग के लक्ष्य के 1344 के सापेक्ष 426 मार्गो को शीतातु के पश्चात गड्ढा मुक्त किया गया है जबकि अन्य कार्यों के लिए अनुबंध कर लिए गए हैं और कार्यवाही युद्घ स्तर पर चल रही है।
सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के मामले में जहां लोनिवि मंत्री ने विपक्ष को सदन में निरुत्तर कर दिया वहीं सत्ता पक्ष के सदस्य बृज भूषण गैरोला ने पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज से जानना चाहा कि उत्तरकाशी पंचकोसी यात्रा ट्रैक रूट को विकसित करने के लिए सरकार ने क्या योजना बनाई है। सवाल के जवाब में पर्यटन मंत्री ने सदन को बताया कि पर्यटन की दृष्टि से इस हेतु काफी सहायता पहुंचाई गई है।उन्होंने कहा कि 2006 और 2007 में पौराणिक पंचकोसी यात्रा में बासूंगा विकासखण्ड भटवाडी में बडेथी चुंगी से नालूखाला तक 1़30 लाख की लागत से पी़सी़ मार्ग एवं रेलिंग का कार्य करवाने के साथ साथ 2014-15 में ग्राम सल्डा से पंचकोसी वारुणी क्षेत्र जगन्नाथ मंदिर के पास चार दीवारी का काम किया गया है। इतना ही नहीं अभी तक उक्त यात्रा मार्ग पर विभिन्न विकास कार्यों के लिए जिला योजना के अंतर्गत 11़ 78 लाख की धनराशि निर्गत की जा चुकी है। एक अन्य प्रश्न के जवाब में पर्यटन मंत्री ने कहा कि भारत सरकार पर्यटन मंत्रालय के सहयोग से टिहरी मेगा पर्यटन सर्किट योजना के अंतर्गत टिहरी बांध की झील में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 2़30 करोड़ की लागत से एक बार्ज का क्रय भी किया गया है। उन्होंने कहा कि यदि झील प्रभावित क्षेत्र के किन्ही गांवों में जनसंपर्क मार्ग की समस्या है तो इस संबंध में टीएचडीसी और पुनर्वास विभाग के माध्यम से ही मार्ग अथवा अन्य बार्ज की व्यवस्था के संबंध में विचार किया जा सकेगा।
प्रश्नकाल के दौरान विधानसभा डोईवाला के अंतर्गत सिंचाई विभाग की क्षतिग्रस्त नेहरों की मरम्मत के सवाल के बारे में सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि डोईवाला विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत सिंचाई विभाग की 38 नहरें निर्मित हैं, जिनमें से 17 नहरें क्षतिग्रस्त हैं जिनमें से 13 छतिग्रस्त नेहरों की मरम्मत हेतु 1392़95 लाख योजनाएं बनाई जा चुकी हैं तथा चार नेहरू पर निर्माण कार्य चल रहा है।
इसके अलावा विधानसभा के अन्य सदस्यों द्वारा सिंचाई, पर्यटन और पंचायतीराज विभाग से संबंधित पूटे गए सभी प्रश्नों का कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने सदन में बेबाकी से जवाब देकर विपक्ष को निरुत्तर कर दिया।

 

विस सत्र में उठा भीमताल डैम के नवनिर्माण का मुद्दा
हल्द्वानी। विधायक राम सिंह कैड़ा ने मंगलवार को गैरसैंण में विधानसभा सत्र के दौरान भीमताल डैम की मरम्मत और झील की सफाई का मामला उठाया है। विधायक कैड़ा ने कहा है कि झील में बना डैम अपनी उम्र पूरी कर चुका है। साथ ही डैम के टूटने का खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में दर्जनभर गांवों को नुकसान होने की संभावना है। उन्होंने डैम के नवनिर्माण, झील की सफाई की मांग उठाई है। साथ ही भू-कटाव को रोकने के लिए बाढ़ सुरक्षा चेक डैम, सीमेंट के ब्लक बनाने की मांग भी रखी है। इसके अलावा आपदा के चलते क्षतिग्रस्त हुए काठगोदाम से हैड़ाखान मोटर मार्ग का मुद्दा भी उठाया गया है। जिससे 120 गांव के ग्रामीणों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस मोटर मार्ग का जल्द निर्माण कराने की मांग रखी है।

 

विस सत्र : सदन में पेश हुआ नकल विरोधी अध्यादेश
देहरादून। सरकार ने मंगलवार को सदन में उत्तराखंड प्रतियोगी परीक्षा (भर्ती में अनुचित साधनों की रोकथाम व निवारण के उपाय) अध्यादेश 2023 को पेश कर दिया। वर्ष 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण को भी आज सदन के पटल पर रखा गया है। इसके साथ ही छह विधेयकों को पुनस्र्थापित किया गया। सरकारी नौकरियों की भर्ती परीक्षाओं में पेपर लीक की घटनाओं को रोकने और नकल माफिया पर अंकुश लगाने के लिए धामी सरकार यह अध्यादेश लाई थी।
सार्वजनिक उपक्रम समिति एवं निगम समिति, प्रतिनिहित विधायन समिति के प्रथम प्रतिवेदन भी आज सदन के पटल पर रखे गए।
संसदीय कार्यमंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि यह बड़े गौरव का दिन है कि आज गैरसैंण में ही सरकार ने देश के सबसे कड़े नकल विरोधी कानून को सदन में पेश किया है। राज्य के हित और भावनाओं से जुड़े सभी फैसले सरकार गैरसैंण से ले रही है। इससे पहले पूर्व में भाजपा सरकार ने गैरसैंण में ही ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने का निर्णय किया था। राजय निर्माण आंदोलनकारियों को सरकारी सेवाओं में 10 प्रतिशकत क्षैतिज आरक्षण पर सब कमेटी की रिपोर्ट भी बीते रोज गैरसैंण में आयोजित कैबिनेट बैठक में ही स्वीकार की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!