माल्टा एवं पहाड़ी नींबू का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित, किसान मायूस

Spread the love

चमोली। राज्य सरकार ने वर्ष 2020-21 के लिए माल्टा एवं पहाड़ी नींबू (गलगल) फलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित कर दिया है। सी ग्रेड का माल्टा सात रुपये व पहाड़ी नींबू (गलगल) सी ग्रेड के लिए चार रुपये प्रति किलोग्राम समर्थन मूल्य घोषित किया गया है। माल्टा एवं पहाड़ी नीबू का क्रय 15 दिसंबर से 31 जनवरी 2021 तक किया जाएगा। माल्टा की खरीद के लिए उद्यान विभाग के अधिकांश खरीद केंद्र पचास से अधिक किलोमीटर की दूरी पर हैं। जिससे किसान को समर्थन मूल्य से अधिक अपने उत्पाद को विक्रय केंद्र तक ढुलान पर किराया खर्च करना पड़ेगा। बाजार मूल्य से दस गुना कम समर्थन मूल्य होने से किसान मायूस हैं। मुख्य उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह ने बताया कि उद्यान विभाग द्वारा माल्टा एवं पहाड़ी नींबू फलों की खरीद की कार्यवाही शुरू कर दी गई है। यह योजना उद्यान कार्ड धारकों के लिए होगी। ठेकेदार व बिचौलिए इस योजना में आच्छादित नहीं होंगे। अधीनस्थ सभी उद्यान सचल दल केंद्र के प्रभारियों को निर्देशित किया है कि योजना के क्रियान्वयन के लिए फलों की अनुमानित मात्रा का आंकलन कर जानकारी दें।
मुख्य उद्यान अधिकारी ने बताया कि संबंधित उत्पादकों को घोषित समर्थन मूल्य से अधिक मूल्य किसी अन्य माध्यम से प्राप्त होने की स्थिति में वे अपनी फसल का विक्रय करने के लिए स्वतंत्र होंगे। उद्यान अधिकारी ने कहा कि इसे अनुबंधित कंपनियों, फर्मों या अन्य को नो लास नो प्रॉफिट की नीति पर बेचा जाएगा। …….उत्पादन के लिए यह है मानक: क्रय किए जाने वाले सी ग्रेड माल्टा फलों का न्यूनतम व्यास 50 मिमी तथा नींबू (गलगल) का व्यास 70 मिमी से अधिक होना आवश्यक है। तोड़ाई के बाद फलों के वाष्पीकरण एवं श्वसन क्रिया से वजन में कमी को ध्यान में रखते हुए क्रय के समय तौल में 2.50 प्रतिशत अधिक वजन लिया जाएगा। उद्यान विभाग द्वारा उपार्जित सी ग्रेड माल्टा एवं पहाड़ी नींबू को भंडारण के बाद या ताजे उपार्जित फलों को राज्य के भीतर तथा बाहर स्थापित मंडियों में सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र की प्रसंस्करण इकाईयों पर विक्रय किया जाएगा। यदि समर्थन मूल्य या इससे अधिक मूल्य स्थानीय बाजारों में प्राप्त होता है तो इसे नीलामी द्वारा पहली प्राथमिकता पर विक्रय किया जाएगा। ………..ये हैं संग्रह केंद्र: उद्यान विभाग द्वारा जिले में चार संग्रह क्रय केंद्र बनाए गए हैं। जोशीमठ, दशोली, घाट ब्लॉक के लाभार्थियों के लिए राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण केंद्र गोपेश्वर को संग्रह क्रय केंद्र बनाया गया है। जबकि पोखरी, कर्णप्रयाग, नारायणबगड़ आदिबद्री विकासखंड के लिए राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण केंद्र कर्णप्रयाग को, गैरसैंण ब्लॉक के लिए राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण केंद्र गैरसैंण तथा ब्लॉक थराली, देवाल के लिए राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण केंद्र ग्वालदम को संग्रह क्रय केंद्र बनाया गया है। ये सभी खरीद केंद्र पचास से अधिक किलोमीटर दूरी पर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!