बागेश्वर के कुंवारी गांव की पहाड़ी पर फिर भूस्खलन, मलबे से शंभू नदी बनी झील, लोगों में दहशत

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

बागेश्वर । कुंवारी गांव की पहाड़ी फिर से दरकने लगी है। इसके कारण गांव के लोगों में दहशत बनी हुई है। यहां 2010 से लगातार भूस्खलन हो रहा है। जिसका मलबा शंभू नदी में जाने से बीते दिनों झील बन गई थी। प्रशासन ने एसडीआरएफ की टीम भेज कर तालाब के पानी की निकासी कराई थी। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के मकानों के नजदीक तक भूस्खलन पहुंच गया है। कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।
कुंवारी गांव के लोग पिछले दो दशकों से भूस्खलन का दंश झेल रहे हैं। लगभग 110 परिवारों वाले कुंवारी गांव में कभी चहल-पहल हुआ करती थी। अब गांव में लगभग 64 परिवार रह गए हैं। गांव के पूर्व प्रधान किशन दानू ने बताया कि कुंवारी गांव में 20 वर्ष पूर्व शंभू नदी से जमीन कटनी शुरू हुई थी। इसके बाद पीटे की पहाड़ी भी दरकने लगी। 2010 से 2013 में आई आपदाओं में गांव के हर हिस्से में जबरदस्त भूस्खलन हुआ। गांव के खेत से लेकर रास्ते भी बह गए। लंबे समय तक लोगों को जंगलों में टेंटों में रहना पड़ा। वर्तमान में फिर से भूस्खलन हो रहा है। गांव के लोग दहशत में हैं।
शासन ने कुंवारी को अतिसंवेदनशील घोषित किया है। ग्रामीणों को दूसरे सुरक्षित स्थान पर विस्थापित किया है। 64 परिवारों को मकान बनाने के लिए पांच-पांच लाख रुपये दिए हैं। वर्तमान में अधिकतर परिवार नए स्थान पर रह रहे हैं। जबकि मवेशी पुराने घरों में ही हैं। वर्षा और भूस्खलन की घटना ने उनकी चिंता बढ़ा दी है।
कुंवारी गांव में भूस्खलन पिछले दो दशक से हो रहा है। तहसील प्रशासन नजर रखे हुए हैं। गांव के लोग विस्थापित हैं। वर्षा कम होने बाद भू-कटाव को रोकने का इंतजाम होगा।

हेल्गूगाड़ में गंगोत्री और रानाचट्टी के पास बंद हुआ यमुनोत्री हाईवे, पहाड़ी से लगातार गिर रहे पत्थर
देहरादून। उत्तराखंड में आज भी मौसम खराब बना हुआ है। देर शाम गंगोत्री हाईवे हेल्गूगाड़ के पास पहाड़ी से लगातार पत्थर गिरने के कारण बंद हो गया। वहीं, यमुनोत्री हाईवे भी रानाचट्टी में भूस्खलन होने के कारण बंद हो गया।
गंगोत्री हाईवे पर पहाड़ी से लगातार पत्थर गिर रहे हैं। जिसके चलते हाईवे खोलने में परेशानी आ रही है। टीम का कहना है कि जब पत्थर गिरना रुकेंगे तब भी हाईवे खोलने का काम शुरू किया जाएगा। साथ ही यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें सुरक्षित स्थानों पर रोकने के लिए पुलिस को भी अवगत करा दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!