संसद से चीन को चेतावनी- नहीं सुधरा तो उठाएंगे कड़े कदम

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। आज संसद के मानसून सत्र का चौथा दिन है। कोरोना के खतरे को देखते हुए संसद में कई व्यवस्थाएं की गई हैं। एलएसी पर चीन के साथ जारी तनाव को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज राज्यसभा में बयान दिया। राजनाथ सिंह ने चीन को सख्त लहजे में कहा है कि अगर एलएसी पर तनाव रहा तो दोनों देशों के रिश्ते सामान्य नहीं हो सकते। उन्होंने कहा कि न तो हम देश का मस्तक किसी भी कीमत पर झुकने देंगे और न ही हम किसी का मस्तक झुकाना चाहते हैं। उधर, संसद में चीर पर चर्चा के लिए कांग्रेस अड़ी हुई है। हालांकि, सरकार संवेदनशीलता को देखते हुए बहस के पक्ष में नहीं है। बुधवार को सर्वदलीय बैठक में सरकार ने सभी दलों को साफ संकेत दिया था कि सीमा के हालात को देखते हुए सदन में अभी इस पर बहस नहीं कराई जा सकती।
संसद परिसर में विपक्ष ने आज विरोध प्रदर्शन भी किया। इस दौरान पंजाब के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू, गुरजीत सिंह औजला, जसबीर सिंह गिल और ड अमर सिंह ने संसद परिसर में आज किसानों और खेत से जुड़े बिलों की प्रतियां जलाईं।
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पीएम मोदी के जन्मदिन पर उन्हें शुभकामनाएं दी हैं। सदन की कार्यवाही के दौरान उन्होंने कहा कि मैं पीएम मोदी के अच्टे स्वास्थ्य, लंबे जीवन के लिए प्रार्थना करता हूं और वह देश की सेवा में ऐसे ही काम करते रहें।
सपा नेता व यूपी के आजमगढ़ से सांसद अखिलेश यादव ने कहा कि चीन के मुद्दे पर समाजवादी पार्टी का रुख स्पष्ट है। भाजपा को उस गलती को नहीं दोहरना चाहिए जो कांग्रेस ने की थी। महाराष्ट्र में बढ़ रहे कोरोना के मामले पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र को केंद्र से 25,000 करोड़ रुपये का बकाया है, जो केंद्र देने को तैयार नहीं है। ऐसे में हम (महाराष्ट्र सरकार) कोरोना के खिलाफ कैसे लड़ेगे।
राज्यसभा में गृहमंत्री ने कहा कि हम लद्दाख में एक चुनौती के दौर से गुजर रहे हैं लेकिन साथ ही मुझे भरोसा है कि हमारा देश और हमारे वीर जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे। मैं इस सदन से अनुरोध करता हूं कि हम एक ध्वनि से अपनी सेनाओं की बहादुरी और उनके अदम्य साहस के प्रति सम्मान प्रदर्शित करें। इस सदन से दिया गया, एकता व पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे देश और पूरे विश्व में गूंजेगा, और हमारे जवान जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा।
चीन की कथनी और करनी में फर्क
राज्यसभा में रक्षा मंत्री ने कहा कि शांति बहाल करने के लिए कई समझौते किए गए, लेकिन चीन औपचारिक सीमाओं को नहीं मानता। बर्डर पर अगर तनाव जारी रहेगा तो द्विपक्षीय रिश्तों पर इसका सीधा असर पड़ेगा। चीन की कथनी और करनी में फर्क है। चीन ने यथास्थिति को बदलने की कोशिश की। हमारी सेनाओं के चीन के मंसूबों को विफल कर दिया और उसे भारी नुकसान पहुंचाया।
राज्यसभा में रक्षा मंत्री ने कहा कि 15 जून को कर्नल संतोष बाबू ने अपने 19 बहादुर सैनिकों के साथ भारत की अखंडता को बचाने के उद्देश्य से गलवान घाटी में सर्वोच्च बलिदान दिया। हमारे पीएम खुद सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए लद्दाख गए।
कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्री का बयान
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, ड़ हर्षवर्धन ने राज्यसभा में बताया कि जुलाई-अगस्त में भारत में 300 मिलियन कोरोना मामले और 5-6 मिलियन मौतों की बात कही गई थी। 135 करोड़ के इस देश में हम रोजाना 11 लाख टेस्ट कर रहे हैं। हमसे ज्यादा कुल 5 करोड़ टेस्ट अभी तक अमेरिका ने किए हैं। हम जल्द ही अमेरिका को टेस्टिंग के मामले में पीटे छोड़ देंगे।
संजय सिंह की बात का जवाब देते हुए बीजेपी सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने कहा- जो लोग कह रहे हैं कि क्या ताली-थाली बजाने से कोरोना खत्म हो जाएगा। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या चरखा चलाने से आजादी मिली थी? चरखा चलाना एक प्रतीक था। ठीक उसी तरह ताली-थाली बजाना एक प्रतीक था जिसके जरिए कोरोना से जंग में जुटे लोगों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की गई।
आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा कि सत्ता पक्ष के लोग कह रहे हैं कि विपक्ष ने ताली-थाली बजाने में सरकार का सहयोग नहीं किया। मैं कहना चाहता हूं कि एक भी ऐसी रिसर्च बता दीजिए जिसमें ताली-थाली बजाने से कोरोना ठीक हुआ हो, तो मैं प्रधानमंत्री के साथ ताली-थाली बजाने के लिए तैयार हूं।
संजय राउत का केंद्र पर निशाना
शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि देश की आर्थिक हालत बहुत गंभीर है, अब स्थिति ऐसी है कि हमारी ळक्च् और हमारा त्ठप् भी कंगाल हो चुका है, ऐसे में एयर इंडिया, रेलवे, स्प्ब् और काफी कुछ बाजार में बेचने के लिए लाया गया है बहुत बड़ी सेल लगी है अब इस सेल में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट को भी खड़ा कर दिया गया है। सरकार जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट को निजी हाथों में देने के बारे में सोच रहा है। जेएनपीटी विश्व में सबसे बड़ा पोर्ट है जो भारत सरकार को 30 फीसद से ज्यादा मुनाफा कमा कर देता है ऐसे महत्वपूर्ण पोर्ट को प्राइवेट हाथों में देना देश के राष्ट्रीय संपत्ति का बहुत बड़ा नुकसान है।
कोरोना वायरस पर चर्चा के दौरान राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि मैं सदन के सदस्यों से पूछना चाहता हूं कि कोरोना से अब तक जो लोग ठीक हुए हैं क्या वो भाभी जी पापड़ खाकर ठीक हुए हैं। ये राजनीतिक लड़ाई नहीं है, ये लोगों की जिंद्गी बचाने की लड़ाई है। मेरी मां और मेरा भाई कोविड-19 से संक्रमित हैं। महाराष्ट्र में भी काफी लोग ठीक हो रहे हैं। धारावी में स्थिति नियंत्रण में है। ॅभ्व् ने ठडब् के प्रयासों की सराहना की है। मैं इन तथ्यों को इसलिए बताना चाहता हूं क्योंकि यहां कुछ सदस्य कल महाराष्ट्र सरकार की आलोचना कर रहे थे।
सरकार की ओर से रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सभी दलों को भरोसे में लेने की रणनीति के तहत बुधवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई। सरकार ने सभी दलों के नेताओं को साफ संकेत दे दिया कि सीमा के हालात को देखते हुए सदन में अभी इस पर बहस नहीं कराई जा सकती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!