उत्तराखण्ड की सीमा कोटद्वार कौड़िया में लग रहा प्रवासियों का तांता, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ रही धज्जियां

Spread the love

कोटद्वार। अनलॉक-वन के दौरान भी देश के अन्य राज्यों से प्रवासी उत्तराखंडियों के आने का सिलसिला जारी है। प्रतिदिन सैकड़ों प्रवासी लौट रहे है। कौड़िया चेक पोस्ट पर स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रवासियों की जांच की जा रही है। साथ ही उनके हाथ में होम क्वारंटाइन की मोहर लगाई जा रही है। लेकिन कौड़िया चेक पोस्ट पर पुलिस प्रवासियों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करा पा रही है। पुलिस के सामने ही सामाजिक दूरी की धज्जियां उड़ाई जा रही है और पुलिस मूक दर्शक बनी हुई है।
कौड़िया चेकपोस्ट में पुलिस, राजस्व और स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात है। यहां मेरठ, गाजियाबाद, दिल्ली, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब, राजस्थान समेत अन्य राज्यों से आने वाले वाहनों को रोका जा रहा है। यात्रियों के पास चेक करने के बाद जानकारी दर्ज की जा रही है। इसके बाद थर्मल स्क्रीनिंग कर होम क्वारंटाइन की मोहर लगाई जा रही है। प्रशासन की ओर से रेड जोन से आने वाले प्रवासियों को सात दिन तक कोटद्वार में ही क्वारंटीन किया जा रहा है। जिन यात्रियों के बच्चें 10 वर्ष से कम और 65 वर्ष से अधिक बुर्जुगों को ही होम क्वारंटाइन की अनुमति दी जा रही है। शुक्रवार सुबह ही कौड़िया चेक पोस्ट पर सैकड़ों प्रवासी पहुंचे। दोपहर 12 बजे तक करीब तीन सौ प्रवासी चेक पोस्ट पर पहुंच गये थे। इस दौरान चेक पोस्ट पर सोशल डिस्टेंसिंग की पुलिस के समक्ष ही धज्जियां उड़ाई जा रही है। हालांकि पुलिस प्रवासियों से सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील कर रही है, लेकिन घर जाने की जल्दी में प्रवासी इसे नजर अंदाज कर रहे है। शुक्रवार को भी कौड़िया चेक पोस्ट पर सैकड़ों प्रवासी पहुंचे। स्वास्थ्य विभाग की टीमें थर्मल स्क्रीनिंग कर रही थी। यहां पर प्रवासियों की सुरक्षा के लिए पुलिस टीम हर समय तैनात रहती है। इसके बावजूद भी कौडिया चेक पोस्ट पर सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो रहा है। पुलिस को इसके लिए भारी मशक्कत करनी पड़ रही है।
उपजिलाधिकारी योगेश मेहरा ने बताया कि आठ जून 2020 का मुख्य सचिव महादोय का जो शासनादेश में बताया कि गुडगांव, मेरठ, बिजनौर समेत अन्य शहरों से अगर कोई व्यक्ति कोटद्वार आता है तो उसे सात दिन तक क्वारंटीन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले यात्रियों को सुविधा के तौर पर विकल्प दिया जा रहा है कि यदि उन्हें सरकारी क्वारंटाइन सेंटर में नहीं रहना है तो उनके लिए प्रशासन की ओर से होटलों को चिन्हित किया गया है वह स्वयं के भुगतान पर सात दिन तक होटल में क्वारंटाइन रह सकते है। सात दिन का समय पूरा होने के बाद 14 दिन तक उन्हें होम क्वारंटाइन पर रहना है। उन्होंने बताया कि गर्भवती महिला, 10 से छोटे बच्चे व 65 वर्ष से अधिक बुर्जुग किसी के साथ है तो उन्हें होम क्वारंटाइन करने के निर्देश मिले है। शासनादेश का पालन किया जा रहा है। (फोटो संलग्न है)

बॉक्स समाचार
जांच के लिए घंटों इंतजार कर रहे प्रवासी
कौड़िया चेक पोस्ट पर प्रतिदिन सैकड़ों प्रवासी पहुंच रहे है। शुक्रवार को भी विभिन्न राज्यों से चेक पोस्ट पर सैकड़ों प्रवासी पहुंचे। सभी को जांच के लिए लाइन में लगकर घंटों इंताजर करना पड़ रहा है। यहां पहले जानकारी दर्ज करवाई जा रही है। इसके बाद थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है। फिर पुलिस द्वारा पूरी जानकारी दर्ज की जा रही है। जिसके बाद राजस्व विभाग के कर्मचारियों द्वारा होम क्वारंटाइन की मोहर लगाई जा रही है। जिस कारण कौड़िया चैक पोस्ट पर काफी भीड़ एकत्रित हो जा रही है और सोशल डिस्टेंस की खूब धज्जियां उड़ रही है। उपजिलाधिकारी योगेश मेहरा ने कहा कि कोतवाली प्रभारी निरीक्षक को कौड़िया चेक पोस्ट पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने को कहा है। उन्होंने कहा कि लोगों को भी पुलिस प्रशासन का सहयोग कर सामाजिक दूरी का पालन करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!