विद्यार्थियों के विकास में शिक्षक की भूमिका अहम

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। कारगिल शहीद धर्म सिंह राजकीय इण्टर कॉलेज कल्जीखाल पौड़ी गढ़वाल में आनन्दम की समझ पाठ्यचर्या से स्वयं तक विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला
आयोजित की गई। श्रीमती प्रियंका तोमर प्रवक्ता डाइट देहरादून ने एक्टिविटी खण्ड के माध्यम से विद्यार्थियों की गलत आदतों को सुधारने की प्रक्रिया पर चर्चा की।
उन्होंने इस प्रक्रिया में शिक्षक की भूमिका को अहम बताया।
कार्यशाला के प्रथम दिन के पहले सत्र का शुभारंभ निदेशक अकादमिक, शोध एवं प्रशिक्षण उत्तराखंड श्रीमती सीमा जौनसारी ने किया। निदेशक ने वर्तमान परिप्रेक्ष्य
में शिक्षा की चुनौतियों की चर्चा करते हुए छात्र- छात्राओं को अध्ययन में सुगमता के लिए तनाव प्रबन्धन और पाठ्यक्रम में आनन्दम की संकल्पना को रखा। संयुक्त
निदेशक अकादमिक अजय नौडियाल ने समस्त प्रशिक्षणार्थियों और प्रशिक्षकों का स्वागत किया। संयुक्त निदेशक माध्यमिक प्रदीप रावत ने विस्तार से प्रशिक्षण के
उद्देश्यों को स्पष्ट करते हुए आनन्दम प्रशिक्षण की रुपरेखा, मनोवैज्ञानिक और दार्शनिक पक्षों की जानकारी दी। द्वितीय दिवस के प्रथम सत्र में श्रीमती विजया शर्मा
विज्ञान अध्यापिका जूनियर हाईस्कूल सुन्दरवाला ने कहानी खण्ड पर चर्चा करते हुए छात्र-छात्राओं को अपनी समस्याओं को कहानी विधा के माध्यम से प्रकट करने
की बात की। इस अवसर पर नोडल पर्यवेक्षक खण्ड शिक्षा अधिकारी कल्जीखाल इदरीस अहमद, उत्तम सिंह गुसाईं, प्रशिक्षक बीपी मैंदोली, पवन चतुर्वेदी, ओमप्रकाश,
संतोष ध्यानी, एसपी चौधरी, वेदप्रकाश, श्रीमती शिखा नेगी, श्रीमती प्रेमलता नौडियाल, श्रीमती मंजू पाण्डेय, श्रीमती इंदु नेगी, श्रीमती करुणा गुसाईं, प्रशिक्षण
समन्वयक श्रवण कुमार सिंह, प्रधानाचार्य रमेश चंद्र शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!