देश में बर्ड फ्लू का खतरा, दिल्ली में पक्षियों के मृत पाए जाने पर प्रशासन अलर्ट, जांच के लिए भेजे गए सैंपल

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। देश इस वक्त पहले ही कोरोना की मार झेल रहा है वहीं अब बर्ड फ्लू ने नई परेशानी ला दी है। भारत में बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ता जा रहा है। अब दिल्ली में भी बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ रहा है। ताजा जानकारी के मुताबिक, आज दिल्ली में स्थित मयूर विहार के एक पार्क में एक टीम को सबसे पहले 17 मृतक कौवे मिले थे। इसके बाद आंकड़ों की गिनती में बताया गया है कि अभी तक इस पार्क से 200 के करीब कौवे मृतक मिले।
संजय झील में मृत बतख और कौवे की रिपोर्ट पर बातचीत करते हुए विभाग के ड़ अरुण कुमार ने बताया कि सभी मृत पक्षियों के सैंपल को इकट्ठा कर लिया गया गया है और जांच के लिए लैब में भेजा गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा स्टाफ पीपीई किट्स पहन कर ही मृत पक्षियों को पकड़ रहे हैं। आगे उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की समस्या आने पर हम तुरंत कार्य कर रहे हैं।
इसमें से दो कौवे डीडीए पार्क द्वारका में पाए गए, जिनमे से एक कौवे का नमूना इकट्ठा किया गया है। दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री अफिस द्वारा जारी की गई जानकारी के मुताबिक,16 पश्चिम जिले के हातसाल गांव के एक पार्क में 16 मृत कौवे पाए गए थे, जिसकी संख्या बढ़कर 200 के करीब पहुंच गई है।
वहीं दिल्ली में मौजूद गाजीपुर मंडी के महासचिव मोहम्मद सलीम ने बताया कि बर्ड फ्लू को देखते हुए 5-6 सदस्यों की एक समिति बनाई है जो बाजार का सर्वेक्षण करेगी और विभिन्न दुकानों पर मुर्गी के नमूनों की जांच करेगी। पशुपालन विभाग, दिल्ली सरकार द्वारा दिल्ली में गाजीपुर चिकन और अंडा बाजार में ड़ सुनील सिंह तोमर ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा 11 रैपिड रिस्पांस टीमें बनाई गई हैं। आगे उन्होंने कहा कि स्थिति की निगरानी और निरीक्षण करने और उचित नमूने सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।
उधर, महाराष्ट्र के परभनी जिले के मुरुम्बा गांव में एक पोल्ट्री फार्म में 900 मुर्गियों के मरने की खबर सामने आई है। यहां पर अब बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ गया है। अधिकारियों ने नमूनों को जांच के लिए भेज दिया गया है।
इस खतरे को देखते हुए पंजाब ने दूसरे राज्यों से आने वाले पोल्ट्री प्रोडक्ट पर 7 दिन के लिए रोक लगा दी है। यानी अगले सात दिनों तक पंजाब में दूसरे राज्यों से आने वाली मीट, मुर्गों और अंडे नहीं लाए जाएंगे। मीडिया रिपोर्ट के मानें तो सरकार ने यह फैसला हरियाणा की तरफ से पोल्ट्री प्रोडक्ट और अंड़ों को पंजाब में डंप करने की सूचना के तहत लिया किया गया है।
बताया जा रहा है कि हरियाणा के बरवाला क्षेत्र में रहस्यमय तरीके से मर रही मुर्गियों के चलते इलाके में एवियन फ्लू का खतरा बना हुआ है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो यहां पर कम से कम लाख मुर्गी और चूजों की मौत हो चुकी है। यहां पर बताते चले कि मुर्गियों के रहस्यमय तरीके से मरने का सिलसिला 5 दिसंबर से शुरू हुआ था।
उधर, केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में 12 स्थानों पर एवियन इन्फुएंजा या बर्ड फ्लू के मामले दर्ज किए गए हैं। जबकि हरियाण के पंचकुला में मुर्गी पालन केंद्रो में इन पक्षियों की मौत के मामलों के चलते हरियाणा को हाई अलर्ट पर रखा गया है। हिमाचल में 293 विदेशी पक्षियों और 312 कौओं की मौत हो गई। वहीं, कांगड़ा जिले के पौंग बांध क्षेत्र में मर रहे विदेशी परिंदों के बाद अब कौवों में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। जम्मू कश्मीर के कई शहरों में मृत पक्षी मिले हैं। हालांकि इनमें अभी तक बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है। उधर, बिहार में 70 और छत्तीसगढ़ में तीन कौए मृत पाए गए थे। इसके अलावा दो बोरियों में 50 मृत मुर्गियां भी बरामद हुई थीं। पंजाब में शुक्रवार को 25 तोते मृत पाए गए हैं। इनके सैंपल जालंधर लैब में भेज दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!