फीस माफी के लिए पानी टंकी से कूदने की कोशिश

Spread the love

हल्द्वानी। फीस माफी की मांग पर अनशनरत पार्षद मंगलवार सरकार और प्रशासन की बेरुखी से आहत होकर खुदकुशी की नीयत से तिकोनिया स्थित जल संस्थान की पानी टंकी पर चढ़ गए। काफी देर हंगामे के बीच पूर्व छात्रसंघ नेता योगेन्द्र बिष्ट ने पार्षद को बचाया। उन्होंने साथियों के साथ बमुश्किल पार्षद रोहित को नीचे उतारा। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष ने जूस पिलाकर धरना स्थगित करा दिया है। निजी स्कूलों की ओर से फीस माफी की मांग पर डेढ़ माह से धरना-अनशन पर बैठे पार्षदों को उठाने के लिए नेता प्रतिपक्ष इंद्रिरा हृदयेश पहुंची थी। इसी बीच सूचना मिली कि धरना संयोजक पार्षद रोहित कुमार जल संस्थान की टंकी पर आत्महत्या करने पहुंच गए हैं। धरना स्थल से टंकी तक हाईवे की हुजूम उमड़ आया। लोगों ने टंकी पर चढ़े पार्षद को समझाने की कोशिश करने लगे, लेकिन वह सरकार से निजी स्कूलों की फीस माफी की मांग करने लग गया। इस बीच धरना स्थल से नेता प्रतिपक्ष भी वहीं पहुंच गईं, उन्होंने भी रोहित को समझाया लेकिन वह नहीं माने। काफी देर चले हंगामे के बीच चतुराई से पूर्व छात्रसंघ नेता योगेन्द्र बिष्ट टंकी पर चढ़ गए और रोहित को पकड़ लिया। इसके बाद टंकी के नीचे खड़े लोग भागे और रोहित को नीचे ले आए। धरना स्थल पर लौटने के बाद नेता प्रतिपक्ष ने फीस की समस्या सदन में उठाने की बात कही और जूस पिलाकर धरना स्थगित कराया। हालांकि अनशनकारियों ने दो टूक कहा कि सरकार ने मांग पूरी नहीं की तो वे लोग फिर आंदोलन छेड़ेंगे। यहां रहीस अहमद गुड्डू, शकील अंसारी, सरदार नरेन्द्र जीत रोहड़ू, राजेन्द्र जीना, जाकिर हुसैन आदि रहे।
टंकी से उतरते मधुमक्खियों का हमला:-टंकी में चढ़े पार्षद को नीचे उतारा जा रहा था तो टंकी पर लगे मधुमक्खियों के धत्ते में किसी का हाथ लग गया। इससे भड़की मधुमक्खियों ने पार्षद समेत उन्हें उतार रहे लोगों से लिपट गई। हमले में 10 से अधिक लोग घायल हो गए। मधुमक्खियों का हमला देखकर टंकी ने नीचे खड़े लोग भी भाग खड़े हुए।
सड़क पर एक किमी लंबा जाम:-पार्षद के टंकी में चढ़ने के बाद लोगों का हुजूम सड़क पर उतर पड़ा। इस दौरान वाहनों की आवाजाही पर ब्रेक लग गया। आम जन की समस्याओं को लेकर धरना-अनशन पर बैठे पार्षद के समर्थन में हर कोई दिखा। लोग वाहनों को सड़क पर खड़ा कर पार्षद को आत्महत्या से रोकने के लिए आवाज लगाते नजर आये। इस बीच पुलिस का एक भी नुमाइंदा नजर नहीं आया। हालांकि बाद में पार्षद को उतारते समय भोटिया पड़ाव चौकी से पुलिस पहुंच गई थी।
45 दिन से निजी स्कूलों की फीस माफी के लिए पार्षद धरना और अनशन पर बैठे हैं। वर्तमान में फीस की समस्या से हर परिवार गुजर रहा है। सदन के अंदर और बाहर यह समस्या उठाई जाएगी। सार्वजनिक रूप से पूरे प्रदेश में फीस कमेटी बनाने का आग्रह करेंगे। देखेंगे सरकार क्या कार्रवाई करती है। इसके बाद आगे की रणनीति बनाई जाएगी।- डॉ. इंदिरा हृदयेश, नेता प्रतिपक्ष
नेता प्रतिपक्ष का आभारी हूं। सत्ताधारी नेता और मंत्रियों ने कोई ध्यान नहीं दिया। अभिभावकों के लिए संघर्ष कर रहा था और आगे भी करता रहूंगा। नेता प्रतिपक्ष के आश्वासन के बाद धरना स्थगित किया है। सरकार ने मांग पूरी नहीं की तो आंदोलन उग्र किया जाएगा। – रोहित कुमार, पार्षद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!