श्रद्घा हत्याकांड में पुलिस को अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी, महरौली के जंगल में मिला खोपड़ी और जबड़े का हिस्सा

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

 

नई दिल्ली, एजेंसी। श्रद्घा हत्याकांड मामले में रविवार को जांच के दौरान दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। महरौली के जंगल से दिल्ली पुलिस ने मानव खोपड़ी और जबड़े का हिस्सा बरामद किया है। इसके साथ ही मानव शरीर के अन्य हिस्सों की हड्डियां भी बरामद हुई है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि जंगल से मिले शव के अवशेष 27 वर्षीय श्रद्घा वालकर के हो सकते हैं। हालांकि इसकी पुष्टि फरेंसिक लैब की टीम द्वारा जांच के बाद ही हो सकेगी।
रविवार को दिल्ली पुलिस की एक टीम आफताब को लेकर छतरपुर पहाड़ी इलाके स्थित उसके घर पर पहुंची, जहां पर उसने श्रद्घा की हत्या की थी। रविवार तड़के आफताब के घर जांच के लिए पहुंची पुलिस व एफएसएल टीम घंटों की जांच के बाद दोपहर करीब दो बजे जांच पड़ताल के बाद रवाना हुई। इस दौरान जांच के बाद निकलती पुलिस टीम घर के अंदर से काफी चीजें कार में रखकर ले गई।
200 पुलिसकर्मियों की टीम पहुंची महरौली जंगल
जांच पड़ताल से लेकर पुलिस टीम के रवाना होने तक घर के बाहर व आसपास सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अर्धसैनिक बल व दिल्ली पुलिस के जवान तैनात रहे। वहीं, दूसरी ओर मेहरौली के जंगल में सर्च आपरेशन के लिए करीब 200 पुलिसकर्मियों की टीम पहुंची। सर्च आपरेशन के दौरान पुलिस टीम को जंगल से कुछ अवशेष और कटी हुई हड्डियां बरामद हुईं हैं।
इसी दौरान मैदानगढ़ी इलाके में स्थित एक तालाब में दिल्ली पुलिस ने नगर निगम के साथ मिलकर सर्च आपरेशन चलाया। सर्च आपरेशन के तहत तालाब से करीब 1000 लीटर पानी निकाला गया। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आफताब ने श्रद्घा का सिर इसी तालाब में देंकने की बात कुबूल की है जिसके तहत तालाब से पानी निकाला जा रहा है। मामले में पुलिस का आधिकारिक पक्ष लेने के लिए दक्षिणी जिले की पुलिस उपायुक्त चंदन चौधरी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन कोई जवाब नहीं आया।
आफताब के घर में जांच के लिए पहुंची पुलिस टीम के मौके पर पहुंचते ही स्थानीय लोगों की भीड़ लग गई। इसके चलते सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पुलिस व अर्धसैनिक बल के जवानों को तैनात कर दिया गया। इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था के तहत घर के आसपास के इलाके को जवानों की तैनाती के साथ ही छावनी में तब्दील कर दिया गया। किसी भी स्थानीय अथवा अन्य को घर के आसपास तक भी आने नहीं दिया गया।
कोर्ट के आदेश पर रोहिणी स्थित फारेंसिक साइंस लैब में आरोपित आफताब के नार्को टेस्ट के बाद 22 नवंबर को उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। लेकिन अभी तक पुलिस की जांच के किसी नतीजे पर पहुंचने जानकारी नहीं मिल पाई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, पेशी के दौरान पुलिस जांच के लिए और समय मांग सकती है और रिमांड बढ़ाने की अपील कर सकती है। हालांकि थाना पुलिस को इस दौरान अधिकतम चार दिन की ही रिमांड मिल पाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!