कोटद्वार में जल्द शुरू होगा ब्लड सेपरेशन यूनिट का संचालन, अब नहीं लगानी पड़ेगी देहरादून की दौड़

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। राजकीय बेस अस्पताल में ब्लड सेपरेशन यूनिट का संचालन जल्द शुरू होगा। यूनिट का संचालन होने से डेंगू मरीजों को अब बाहर रेफर नहीं करना पड़ेगा। ब्लड कंपोनेंट यूनिट शुरू होने के बाद एक यूनिट ब्लड से चार लोगों का फायदा होगा। यानि जिसे सिर्फ प्लाज्मा की जरूरत है उसे प्लाज्मा ही चढ़ सकेगा और जिसे हिमोग्लोबिन की जरूरत होगी उसे हिमोग्लोबिन। पिछले साल शासन ने बेस अस्पताल में स्थित ब्लड़ बैंक की छत के ऊपर ब्लड़ सेपरेशन यूनिट स्थापित करने की अनुमति दी थी।
पौड़ी गढ़वाल के दुगड्डा, जहरीखाल, द्वारीखाल, रिखणीखाल, एकेश्वर सहित सात विकासखंडों में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य की पूरी जिम्मेदारी कोटद्वार बेस अस्पताल पर है। पौड़ी जनपद के अलावा उत्तर प्रदेश के जनपद बिजनौर जिले के दर्जनों गांव के लोग अस्पताल में उपचार कराने आते है। अस्पताल में ब्लड सेपरेशन यूनिट न होने से लोगों को बाहर रैफर करना पड़ता है। डेंगू की प्राथमिक जांच किट तो चिकित्सालय में उपलब्ध है, लेकिन डेंगू की पुष्टि के लिए आज भी सेंपल को श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में भेजना पड़ता है, जिसकी रिपोर्ट आने में दो से तीन दिन लग जाते हैं। डेंगू मरीज के लिए प्लेटलेट्स सुविधा न होने के कारण चिकित्सक डेंगू की प्राथमिक जांच में पुष्टि होते ही मरीज को देहरादून रेफर कर देते हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। कोटद्वार के बेस चिकित्सालय में जल्द ही मरीजों को प्लेटलेट्स भी मिलने लगेंगे। पिछले साल शासन ने बेस अस्पताल में स्थित ब्लड़ बैंक की छत के ऊपर ब्लड सेपरेशन यूनिट स्थापित करने की अनुमति दी थी। अस्पताल में यूनिट स्थापित के लिए भवन भी तैयार हो चुका है। अस्पताल प्रशासन ने मशीनों की खरीददारी भी कर दी है। यूनिट की स्थापना के बाद बेस चिकित्सालय में ही रक्त के विभिन्न अव्यय (प्लेटलेट्स, प्लाज्मा आदि) मरीजों को आसानी से मिल जाएंगे।
राजकीय बेस अस्पताल कोटद्वार के प्रमुख अधीक्षक डॉ. वीसी काला ने बताया कि ब्लड सेपरेशन यूनिट संचालन के लिए लगभग 33 लाख की लागत से मशीनों की खरीददारी कर दी गई है। मशीनें स्थापित कर दी गई है। मुम्बई से इंजीनियर मशीनों का प्रशिक्षण देने के लिए आयेगें। उन्होंने बताया कि दस दिन के अंदर यूनिट का संचालन शुरू करा दिया जायेगा।

डेंगू के मरीजों को मिलेगी राहत
राजकीय बेस अस्पताल कोटद्वार में ब्लड सेपरेशन यूनिट शुरू होने के बाद मरीजों को अब देहरादून की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। डेंगू होने पर मरीजों में प्लेटलेट्स की कमी हो जाती है। प्लेटलेट्स न मिलने के कारण मरीजों को देहरादून और अन्य शहरों में स्थित बड़े अस्पतालों में उपचार के लिए ले जाना पड़ता है। अब बेस अस्पताल कोटद्वार में ब्लड़ सेपरेशन यूनिट संचालित होने से अस्पताल में ही प्लेटलेट्स मिल सकेंगे तो मरीज को कहीं बाहर ले जाने की जरूरत नहीं पड़़ेगी। पिछले साल भी कोटद्वार में एक दर्जन मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई थी। इसके कारण कई मरीजों को देहरादून और अन्य शहरों के अस्पतालों में भर्ती होकर उपचार कराना पड़ा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!