कोटद्वार में पुलिस ने जिस दिन गुंडा घोषित किया उसी दिन कर दी बैट्री चोरी

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। पुलिस ने जिस युवक को गुंडा एक्ट में घोषित किया उस युवक ने उसी दिन अपने दो साथियों के साथ उसी पुलिस को अपना गुंडा होने का सबूत देते हुए कोटद्वार में बैट्री चोरी करने में सफलता हासिल कर दी। कोटद्वार पुलिस ने गाड़ियों की बैट्री चोरी करने वाले तीन युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। साथ ही वाहन को सीज कर दिया है। पुलिस ने अभियुक्तों की निशानदेही पर तीन बैट्रीरियों को भी बरामद किया है। जिनकी कीमत 36 हजार रूपये बताई जा रही है। पकड़े अभियुक्तों में एक 15 दिन पूर्व ही जेल से छूटकर आया था और उसके विरुद्ध गुण्डा अधिनियम के अन्तर्गत भी कार्यवाही की गई है।
कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नरेन्द्र सिंह बिष्ट ने बताया कि गत बुधवार को गूड्डू नेगी पुत्र स्व. बेतार्ब ंसह निवासी गोरखपुर मवाकोट ने टै्रक्टर की बैट्री चोरी होने की तहरीर दर्ज कराई है। पीड़ित ने बताया कि 22 दिसम्बर की रात को उसके ट्रैक्टर से चोरों ने बैट्री चोरी कर दी है। कोतवाल ने बताया कि पीड़ित की तहरीर के आधार पर अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 379 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई। गुरूवार सुबह कोतवाल नरेन्द्र्र ंसह बिष्ट के नेतृत्व में गठित टीम ने कौड़िया फाटक पर चैकिंग अभियान चलाया। इस दौरान टीम ने एक पिकअप वाहन की चेंकिग की तो वाहन से तीन बैट्री बरामद हुई। जब वाहन में सवार युवकों से पुलिस ने बैट्रीरियों के बारे में पूछा तो वह गोलमोल जवाब देने लगे। जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो युवकों ने बताया कि यह बैट्री उन्होंने चोरी की है। पुलिस कर्मी वसीम पुत्र मुख्तयार निवासी कौड़िया व उसके साथी आमीर पुत्र मुस्तकीन निवासी गैरेज रोड कोटद्वार, फिरोज पुत्र मुस्तकीम निवासी गाड़ीघाट को गिरफ्तार कर कोतवाली ले आये। जहां पुलिस पूछताछ में अभियुक्त वसीम ने बताया कि उसने व उसके साथियों ने पूर्व में ई-रिक्शा की बैट्रीरियां भी चुराई थी। जिस सम्बन्ध में वादी भोपाल सिंह पुत्र शेर सिंह निवासी शिवपुर, कोटद्वार द्वारा पूर्व में कोतवाली कोटद्वार में बैटरी चोरी का अभियोग दर्ज करवाया गया है। अभियुक्त चोरी की गई बैट्रीरियों को जनपद बिजनौर में बेचने जा रहे थे। कोतवाल ने बताया कि अभियुक्त वसीम 15 दिन पूर्व ही जेल से छूटकर आया था, वसीम के विरुद्ध 22 दिसम्बर को गुण्डा अधिनियम के अन्तर्गत भी कार्यवाही की गई है। कोतवाल ने बताया कि अभियुक्त घूम-घूमकर एकांत स्थलों में खड़े वाहनों को चिन्हित करते थे और रात्रि में आमिर और वसीम वाहनों से बैट्रीरियां खोलते थे फिर फिरोज को वाहन लेकर बुलाते थे फिर ये बैटरियां लेकर चले जाते थे। लॉकडाउन के कारण सही ग्राहक व कीमत न मिलने के कारण बैट्रीरियां बेच नहीं पाए थे और ये लोग गाड़ियों के टायर भी चुराते है। पुलिस टीम में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नरेन्द्र सिंह बिष्ट, उपनिरीक्षक विकसित पंवार, कांस्टेबल कुलदीप, सोनू कुमार आदि शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!