मोदी ने कोरोना और बाढ़ संकटपर की मुख्यमंत्रियों से बात

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को बिहार, असम, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्घ्यमंत्रियों से टेलीफोन पर बात की और कोरोना महामारी और बाढ़ के चलते पैदा हुए हालात की जानकारी ली। हाल के दिनों में कोरोना संक्रमण में तेजी से इजाफा देखा जा रहा है। संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर विपक्ष भी सवाल खड़ा कर रहा है। वहीं देश के कई इलाकों में भारी बारिश, बाढ़ और भूस्घ्खलन से हालात खराब हैं और कई लोगों की मौत हो चुकी है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बातचीत के दौरान मुख्घ्यमंत्रियों को हर संभव मदद का भरोसा दिया। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने इस बातचीत के बारे में ट्वीट कर बताया कि पीएम मोदी ने बाढ़ के कारण पैदा हुए हालात से निपटने के लिए रविवार को असम को हरसंभव मदद मुहैया कराने का भरोसा दिया है। उन्होंने बताया कि पीएम मोदी ने कोविड-19 संबंधी स्थिति और अयल इंडिया के बागजान गैस कुएं में आग बुझाने के जारी प्रयासों की भी जानकारी ली। बता दें कि असम में बाढ़ के चलते 81 लोगों की मौत हो चुकी है।
असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा है कि इस साल बाढ़ और भूस्खलन से राज्य में 107 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से 81 लोगों की मौत बाढ़ जबकि 26 लोगों की मौत भूस्खलन संबंधी घटनाओं में हुई है। बिहार के विभिन्घ्न जिलों में भी बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है।
रविवार को वज्रपात से 11 लोगों की मौत हो गई। इनमें पूर्णिया में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत शामिल है। वहीं नेपाल से आने वाली नदियों में उफान के कारण बाढ़ की आशंका भी गहराती जा रही है। कई नए इलाकों में पानी घुस गया है।
देश में रविवार को एक दिन में कोरोना के सर्वाधिक 38,902 केस सामने आए जिसके साथ कुल मामलों की संख्या 10,77,618 हो गई। हालांकि बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या 6,77,422 पर पहुंच गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार एक दिन में इस बीमारी से 543 लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 26,816 हो गई है। यह लगातार चौथा दिन है जब कोरोना वायरस के एक दिन में 30 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में हालात दिनोंदिन खराब होते जा रहे हैं।
देश में कोरोना के मामलों में तेज बढ़ोतरी पर विपक्ष भी सवाल खड़ा कर रहा है। राकांपा सुप्रीमो शरद पावर ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोगों को लगता है कि मंदिर बनाने से कोरोना खत्म हो जाएगा। किस बात को महत्व देना चाहिए ये तय करना होगा। हमें लगता है कि पहले कोरोना को खत्म किया चाहिए। लकडाउन की वजह से आर्थिक नुकसान हो रहा है केंद्र सरकार को उस पर भी ध्यान देना चाहिए। इससे पहले राहुल गांधी भी कोरोना संकट को लेकर सरकार पर सवाल उठा चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!