फोन टेपिंग : केंद्र ने राजस्थान के मुख्य सचिव से मांगी रिपोर्ट

Spread the love

जयपुर। राजस्थान में सियासी सरगर्मी तेज होती जा रही है। मुख्घ्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे हैं। उधर, भाजपा नेता अशोक सिंह और भारत मलानी ने फोन टैपिंग मामले की जांच के लिए अपनी आवाज के नमूने देने से इनकार कर दिया है। बता दें कि कथघ्ति खरीद फरोख्घ्त के सनसनीखेज अडियो टेप सामने आने के बाद राजस्थान कांग्रेस और भाजपा दोनों आमने- सामने आ गए हैं। वहीं राजस्थान एसओजी भी इस मामले की तेजी से छानबीन में लग गई है। इस बीच जयपुर की एक अदालत ने संजय जैन को राजस्थान पुलिस के स्घ्पेशल अपरेशंस ग्रुप की चार दिन की रिमांड पर भेज दिया है। दूसरी ओर राजस्थान भाजपा ने कहा है कि राज्घ्य के गृह एवं मुख्घ्य सचिव ने फोन टैपिंग की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। ऐसे में क्या बिना किसी आधिकारिक आदेश के फोन टैप करना हमारे नागरिक अधिकारों का उल्लंघन नहीं है? भाजपा नेता गुलाब चन्द कटारिया ने कहा कि हम फ्लोर टेस्ट की मांग नहीं करते हैं लेकिन यदि अशोक गहलोत जी को लगता है कि उनके पास बहुमत है तो उन्हें इसे साबित करना चाहिए।
भारतीय ट्राइबल पार्टी ने गहलोत सरकार को अपना समर्थन दिया है। बीटीपी ने शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात कर उन्हें अपने समर्थन का पत्र सौंपा। बीटीपी ने कहा कि वह चाहती है कि राज्घ्य में जनता द्वारा चुनी हुई सरकार चले। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि बीटीपी के दोनों विधायकों ने उनकी प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारियों के साथ मुलाकात करके सरकार को समर्थन देने की घोषणा की है। इससे पहले बीटीपी ने सचिन पायलट और अशोक गहलोत की लड़ाई में तटस्घ्थ रहने की बात कही थी। बीटीपी विधायक राजकुमार रोट ने कहा कि वे सरकार के साथ खड़े हैं। राजस्थान में चल रही सियासी उठापठक पर बसपा प्रमुख मायावती ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा और कहा कि राज्यपाल कलराज मिश्र को राज्य में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत ने पहले दल-बदल कानून का खुला उल्लंघन और बसपा के साथ लगातार दूसरी बार द्गाबाजी करके पार्टी के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया और अब जग-जाहिर तौर पर फोन टैप कराके एक और गैर-कानूनी और असंवैधानिक काम किया है।राजस्थान की पूर्व मुख्घ्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने सूबे में जारी सियासी घमासान पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी द्वारा भाजपा नेताओं पर विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोप लगाना दुर्भाग्घ्यपूर्ण हैं।

राज्यपाल से गहलोत ने की मुलाकात, सौंपी विधायकों की सूची
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्र से आज शनिवार को मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को विधायकों की सूची सौंपी है। गहलोत ने राज्यपाल को सहयोगी दलों के समर्थन की चिट्ठी भी सौंपी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, अशोक गहलोत सरकार के पास 102 विधायकों का समर्थन है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की राज्यपाल से करीब 45 मिनट मुलाकात हुई है। बताया जा रहा है कि प्रदेश में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम पर भी दोनों के बीच विस्तार से चर्चा हुई है।राजभवन के प्रवक्ता ने इसे शिष्टाचार भेंट बताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस संक्रमण महामारी से निपटने के लिए उठा जा रहे कदमों की जानकारी राज्यपाल को दी।बता दें कि, डिप्टी सीएम सचिन पायलट और सीएम असोक गलोत के बीच राजस्थान पुलिस एसओजी की नोटिस के बाद आंतरिक कलह बढ़ गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!