पितृ अमावस्या के दिन हरिद्वार में हरकी पैड़ी पर कर सकेंगे स्नान

Spread the love

कोरोना काल में पहली बार इजाजत

हरिद्वार। हरिद्वार में गुरुवार को पितृ अमावस्या पर श्रद्घालु सरकारी गाइड लाइन का पालन करते हुए हरकी पैड़ी पर गंगा स्नान कर सकेंगे। वहीं, पितृ अमावस्या के दिन नारायणी शिला पूरी तरह से सील रहेगी। आम श्रद्घालु गुरुवार को शिला में प्रवेश नहीं कर पाएंगे। बुधवार शाम को ही नारायणी शिला को सील कर दिया है।
श्राद्घ का समापन गुरुवार को पितृ अमावस्या के साथ हो रहा है। हरिद्वार में इस दिन बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद समेत आसपास के काफी संख्या में लोग स्नान और नारायणी शिला में कर्मकांड करने को पहुंचते थे। लेकिन इस साल कोरोना काल के कारण नारायणी शिला पर लगने वाले मेले पर रोक लगाई गई है। मंदिर के अलावा प्रशासन ने भी पांच दिन पहले इस पर निर्णय लिया था कि इस साल मेले पर रोक रहेगी। नारायणी शिला बंद होने के कारण यात्री अन्य गंगा घाटों पर कर्मकांड करा सकेंगे। हरकी पैड़ी, कुशावृत घाट समेत अन्य घाटों पर स्नान और कर्मकांड कराए जाएंगे।
पुलिस ने प्रमुख सभी गंगा घाटों पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगा दी है। हालांकि ज्यादा भीड़ बढ़ने पर हरकी पैड़ी को खाली कराने की प्लानिंग भी पुलिस ने तैयार की है। बुधवार को प्रशासन की ओर से सिटी मजिस्ट्रेट जगदीश लाल और पुलिस की ओर से सीओ सिटी ड पूर्णिमा गर्ग ने श्रीगंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा, महामंत्री तन्मय वशिष्ठ समेत अन्य पदाधिकारियों से वार्ता की है। जिसमें हरकी पैड़ी पर स्नान पर कोई रोक न लगाने का निर्णय लिया है।
कोरोना : 1540 नए केस, 9 की हुई मौत
कुल मरीजों की संख्या 35947 और मृतकों की संख्या 447
देहरादून। बुधवार को राज्य में कोरोना के 1540 नए मरीज मिले जबकि नौ की मौत हो गई। इससे कुल मरीजों की संख्या 35947 और मृतकों की संख्या 447 हो गई है। 1192 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार बुधवार को अल्मोड़ा में 97, बागेश्वर में 84, चमोली में 31, देहरादून में 429, हरिद्वार में 363, नैनीताल में 118, पौड़ी में 51, पिथौरागढ़ में 55, रुद्रप्रयाग में सात, टिहरी में 12, यूएस नगर में 246, उत्तरकाशी में 47 मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। एम्स ऋषिकेश में भर्ती सात मरीजों की जबकि हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में भर्ती दो कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई। राज्य के विभिन्न जिलों से 9528 सैंपल जांच के लिए भेजे गए। 12 हजार के करीब सैंपल की रिपोर्ट लैब से मिली। जबकि 13 हजार से अधिक सैंपल की रिपोर्ट आना अभी बाकी है। राज्य में कोरोना मरीजों के दोगुना होने की दर 20 दिन से भी कम हो गई है। जबकि मरीजों के ठीक होने की दर 67 प्रतिशत रह गई है। जबकि राज्य में कोरोना संक्रमण की दर में लगातार इजाफा हो रहा है। मंगलवार को संक्रमण की दर 6.77 प्रतिशत पहुंच गई है। राज्य में संक्रमण रोकने के लिए कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़ाई जा रही है। अभी पूरे राज्य में कुल 531 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।
1192 मरीज ठीक हुए
बुधवार को राज्य के अस्पतालों में भर्ती 1192 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। अभी तक पूरे प्रदेश में 24277 मरीज ठीक हुए हैं। जबकि 11068 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। पिछले कुछ दिनों से राज्य में बड़ी संख्या में मरीज मिलने के साथ ही ठीक होने वालों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। इससे स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है। दरअसल जिस तेजी के साथ नए मरीज सामने आ रहे हैं। यदि ठीक होने वालों की संख्या नहीं बढ़ती तो परेशानी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!