33 केवी तार के ऊपर 132 केवी का तार गिरने से घंटो बिजली गुल

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

 

देहरादून। शनिवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे अठुरवाला के मोलधार क्षेत्र में बिदाल सेाषिकेश की ओर से आने वाली पिटकुल की 132 केवी लाइन का तार टूटकर ऊर्जा निगम की 33 केवी की लाइन के ऊपर गिर गया। जिससे अठुरवाला, भानियावाला, जौलीग्रांट और आसपास क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति कई घंटे बाधित रही। ग्रामीणों के अनुसार इस कारण उनके घरेलू विद्युत उपकरण भी फूंक गए।भीषण गर्मी के बीच लोग परेशान रहे। तार टूटने की सूचना स्थानीय ग्रामीण यशवंत गुसाई ने ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को दी। जिसके बाद ऊर्जा निगम के साथ ही पिटकुल के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और तार की मरम्मत का कार्य शुरू करवाया। शुरुआत में मरम्मत के लिए मजदूरों के ना होने के चलते कार्य कई घंटे देरी से शुरू हुआ। जिससे स्थानीय ग्रामीणों ने खासी नाराजगी भी जताई। खबर लिखे जाने तक विद्युत आपूर्ति सुचारू नहीं हो पाई थी। गनीमत यह रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। स्थानीय निवासी यशवंत गुसाई ने बताया कि तार टूटने के कारण आई हाई वोल्टेज से कई ग्रामीणों के घरेलू विद्युत उपकरण भी फुंक गए हैं।
यह विद्युत तारे वर्ष 1965 की लगी हुई है। जो कि अपनी उम्र पूरी कर चुकी हैं। अधिक लोड व गर्मी के चलते संभवत यह तारे टूटी हैं। इन तारों को बदलने के लिए बहुत लंबे शटडाउन की जरूरत पड़ेगी। जोकि संभव नहीं हो पा रहा है। जल्दी इसके लिए प्रयास किए जाएंगे।
– कमलकांत, चीफ इंजीनियर पिटकुल, गढ़वाल क्षेत्र
पांच जगह पेड़ों की टहनियां विद्युत तारों पर गिरी, बिजली गुल
रायवाला। वन क्षेत्र में पेड़ों की लापिग न होने से तेज हवाएं चलते ही टहनियां टूट कर बिजली की तारों पर गिर रही हैं। जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। शनिवार शाम आए अंधड़ से सत्यनारायण से रायवाला के बीच पांच जगहों पर पेड़ विद्युत लाइनो ंपर गिर गए। जिससे करीब तीन घंटे बिजली गुल रही।
रायवाला के उपखंड अधिकारी राजीव कुमार ने बताया कि पिटकुल की लाइन टूटने की वजह से रायवाला में बिजली आपूर्ति बाधित रही। वहीं शाम को अंधड़ की वजह से सत्यनारायण वन क्षेत्र और हरिद्वार हाईवे पर पांच जगह पेड़ गिरे, जिससे तारें टूट गई इसके बाद अतिरिक्त श्रमिक लगाकर पेड़ों को हटाया गया और लाइन दुरुस्त की गई। उनका कहना है कि वन विभाग को ऐसे पेड़ों को हटाना चाहिए जो बिजली की तारों के लिए खतरा बने हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!