कोटद्वार में ट्रेचिंग ग्राउंड के लिए तेज हो कार्रवाई : विधानसभा अध्यक्ष

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

-विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों संग बैठक कर कोटद्वार की समस्याओं के निस्तारण के दिए निर्देश
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार/देहरादून : कोटद्वार विधानसभा में व्याप्त विभिन्न समस्याओं के निस्तारण को लेकर मंगलवार को विधानसभा अध्यक्ष व कोटद्वार विधायक ऋतु खंडूड़ी भूषण ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में विस अध्यक्ष ने सख्त अंदाज में अधिकारियों को समस्याओं के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोटद्वार में कूड़े की समस्या लगातार विकराल रूप लेती जा रही है। इसलिए जल्द से जल्द टे्रचिंग ग्राउंड को लेकर कार्रवाई तेज की जाए।
विधानसभा भवन में आयोजित बैठक में शहरी विकास, आवास विकास, ऊर्जा विभाग, पेयजल विभाग एवं परिवहन विभाग के सचिव स्तर से लेकर विभागीय अधिकारी मौजूद रहे। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कोटद्वार विधानसभा क्षेत्र में पूर्ण हो चुके विकास कार्य, संचालित योजनाओं और भविष्य में होने वाले विकास कार्यों को लेकर अधिकारियों के साथ विस्तार से चर्चा की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी विभाग आपसी सामंजस्य से कार्य करें और क्षेत्र की समस्याओं का निस्तारण शीघ्र किया जाए।
विधानसभा अध्यक्ष ने शहरी विकास विभाग के अधिकारियों से कोटद्वार में कूड़ा निस्तारण के लिए ट्रेचिंग ग्राउंड बनाए जाने के लिए त्वरित कार्रवाई करने की बात कही। उन्होंने कहा कि कोटद्वार में ट्रेचिंग ग्राउंड ना होने से वहां रोजाना निकलने वाले कचरे का निस्तारण एक बड़ी समस्या बन गई है। उन्होंने अधिकारियों से कोटद्वार में सीवर की समस्या को दूर करने के लिए स्थान चिन्हित कर सीवर ट्रीटमेंट प्लांट बनाए जाने की बात कही। उन्होंने शहरी विकास विभाग से कोटद्वार क्षेत्र में पानी की समस्या को दूर करने के लिए अमृत 2.0 योजना की वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी ली। बता दें कि अमृत 2.0 योजना के तहत शहरी क्षेत्र के हर घर में पानी का कनेक्शन मिलेगा एवं हर घर को सीवर या सेप्टिक टैंक से जोड़ा जाएगा।
विधानसभा अध्यक्ष ने पेयजल विभाग के अधिकारियों से कोटद्वार में स्वीकृत एवं प्रस्तावित पेयजल योजनाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि गर्मी बढ़ने से क्षेत्र में पेयजल की समस्या बढ़ने लगी है, जिसके लिए पेयजल की आपूर्ति सुचारू रूप से होना आवश्यक है। विधानसभा अध्यक्ष ने क्षेत्र में 50 किलोमीटर क्षतिग्रस्त पाइप लाइनों को दुरुस्त करने के लिए शासन के अधिकारियों से धनराशि स्वीकृत करने की बात कही। उन्होंने कहा कि पेयजल समस्याओं का समय से निराकरण न होने से स्थानीय लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

कोटद्वार में पार्किंग की समस्या का हो निस्तारण
इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने आवास विकास विभाग से पार्किंग व्यवस्था के लिए पार्किंग निर्माण के संबंध में आवश्यक जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोटद्वार में दिन-प्रतिदिन सड़कों पर यातायात का दबाव बढ़ता जा रहा है। जिससे हमेशा जाम की स्थिति बनी रहती है। शहर में पार्किंग की उचित व्यवस्था न होने के कारण लोग सड़क पर ही वाहन पार्क कर देते हैं, जिससे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पार्किंग व्यवस्था को लेकर जल्द से जल्द कदम उठाए जाएं।

अब एक से डेढ घंटे ही होगी बिजली कटौती
विधानसभा अध्यक्ष ने ऊर्जा निगम के अधिकारियों से कोटद्वार विधानसभा क्षेत्र में विद्युत कटौती कम करने के लिए कहा। जिस पर अधिकारियों द्वारा अवगत किया गया कि अब एक से डेढ़ घंटे तक ही रोस्टिंग की जाएगी। इस दौरान उन्होंने क्षेत्र में पुरानी 33 केवी की खुली विद्युत लाइनों को बदल कर एएएसी कवर्ड कंडक्टर स्थापित किए जाने एवं मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप 4.4 करोड़ रुपये की लागत से क्षेत्र के अंतर्गत 61 स्थानों पर कृषि भूमि व आवासीय भूमि के ऊपर से हाईटेंशन 11 व 33 केवी लाइनों को शिफ्ट किए जाने संबंधित अभी तक विभाग द्वारा की गई कार्यवाही की समीक्षा की।
इस अवसर पर शहरी विकास के अपर मुख्य सचिव आनंद वर्धन, उरेडा की निदेशक रंजना राजगुरु, शहरी विकास विभाग के अपर सचिव विनोद कुमार सुमन, शहरी विकास के निदेशक ललित मोहन रयाल, अपर परियोजना निदेशक विनय मिश्रा, जल जीवन मिशन के निदेशक नितिन भदौरिया, मुख्य अभियंता एससी पंत, पेयजल निगम के महाप्रबंधक सुजीत कुमार, जल संस्थान के महाप्रबंधक एसके शर्मा, उत्तराखंड जल विद्युत निगम के निदेशक पुरुषोत्तम सिंह, ऊर्जा के संयुक्त सचिव विक्रम सिंह राणा, जल संस्थान के अधीक्षण अभियंता प्रवीण सैनी सहित अन्य अधिकारी मोजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!