स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर बोले राष्ट्रपति

Spread the love

अशांति पैदा करने वाले को देंगे मुंहतोड़ जवाब
नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को संबोधित करते हुए चीन को सख्घ्त संदेश दिया। राष्ट्रपति ने कहा कि आज जब विश्व समुदाय के सामने कोरोना जैसी सबसे बड़ी चुनौती सामने आई है तब हमारे पड़ोसी ने अपनी विस्तारवादी गतिविधियों को चालाकी से अंजाम देने का दुस्साहस किया है। सरहदों की रक्षा में हमारे जवानों के शौर्य ने यह दिखा दिया है कि हम शांति चाहते हैं लेकिन यदि कोई अशांति उत्पन्न करने की कोशिश करेगा तो उसे माकूल जवाब दिया जाएगा। राष्घ्ट्रपति ने अपने संबोधन में गलवन घाटी में वीरगति पाने वाले वीर जवानों को भी नमन किया।
राष्ट्रपति ने कहा कि हमें एकजुट होकर संघर्ष करने की जरूरत है। हमारे पड़ोसी की विस्तारवादी गतिविधियों को नाकाम करने और सीमाओं की रक्षा करने के दौरान हमारे बहादुर जवानों ने अपने प्राण न्योछावर कर दिए। भारत माता के वे सपूत राष्ट्र गौरव के लिए ही जिए और उसी के लिए मर मिटे। पूरा देश गलवन घाटी के बलिदानियों को नमन करता है। हर भारतवासी के हृदय में उनके परिवार के सदस्यों के प्रति तज्ञता का भाव है। उनके शौर्य ने यह दिखा दिया है कि यद्यपि हमारी आस्था शांति में है लेकिन कोई अशांति उत्पन्न करने की कोशिश करेगा तो उसे माकूल जवाब दिया जाएगा।
राष्ट्रपति ने कहा कि हमें अपने सशस्त्र, पुलिस और अर्धसैनिक बलों पर गर्व है जो सीमाओं की रक्षा करते हैं और हमारी आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं। हम सौभाग्यशाली हैं कि महात्मा गांधी हमारे स्वाधीनता आंदोलन के मार्गदर्शक रहे। उनके व्यक्तित्व में एक संत और राजनेता का जो समन्वय दिखाई देता है वह भारत की मिट्टी में ही संभव था। राष्ट्रपति ने कहा कि भारत आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ा रहा है जिसका अर्थ स्वयं सक्षम होना है। इसका अर्थ दुनिया से अलगाव या दूरी बनाना नहीं है। इसका अर्थ यह भी है कि भारत वैश्विक बाजार व्यवस्था में शामिल भी रहेगा और अपनी विशेष पहचान भी कायम रखेगा।
महामहिम ने कहा कि इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस के उत्सवों में हमेशा की तरह धूम-धाम नहीं होगी। इसका कारण स्पष्ट है। मौजूदा वक्त में पूरी दुनिया एक ऐसे घातक वायरस से जूझ रही है। इस वायरस ने जन-जीवन को भारी क्षति पहुंचाई है और हर प्रकार की गतिविधियों में बाधा उत्पन्न की है लेकिन यह आश्घ्वस्घ्त करने वाली वाली बात है कि इस चुनौती का सामना करने के लिए केंद्र सरकार ने समय रहते प्रभावी कदम उठा लिए थे। सरकार के असाधारण प्रयासों की बदौलत घनी आबादी और विविध परिस्थितियों वाले हमारे विशाल देश में इस चुनौती का सामना किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!