21वीं सदी की कक्षा भेदभाव

Spread the love

विदिशा उनियाल
परिचय
भारतीय संविधान का अनुच्छेद 15 धर्म, जाति, नस्ल, लिंग, जन्म स्थान आदि के आधार पर नागरिको ंमे ंभेदभाव को मना करता है। इस जनादेश को स्वीकार किए हुए 70 साल से ज्यादा हो चुके हैं, परंतु यह अभी तक पूरी तरह से हमारे समाज तक नहीं पहुँच पाया है। जाति, धर्म, लिंग, जन्म स्थान के अतिरिक्त जातीयता, विकलांगता, वंश, क्षेत्र, बोली, आयु, पारिवारिक व्यवसाय, वर्ग के आधार पर हमारे समाज में भेदभाव किया जाता है। विडंबना यह है कि हमारी शिक्षा प्रणाली भी इससे अछूती नहीं है। शिक्षा संस्थान समाज से अलग होने का कार्य नहीं कर सकते हैं। इसलिए, वास्तविकता और शिक्षाविदों के बीच की खाई को कम करने के लिए, एनसीईआरटी ने “सामाजिक और राजनीतिक जीवन (एसपीएल)” की शुरुआत की जिसका विषय “नागरिकशास्त्र” था। एसपीएल वास्तविक जीवन के उदाहरण पेश करता है और विशेष रूप से मुस्लिम, गरीब, दलित आदि समुदायों का उल्लेख करता है। यह शिक्षकों को संवेदनशील तरीके से कक्षा में सभी छात्रों की गरिमा और सम्मान को बनाए रखते हुए कार्य करने पर जोर देता है।
आरटीई (शिक्षा का अधिकार) अप्रैल 2010 में लागू हुआ, 6-14 वर्ष की आयु के सभी बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा को अनिवार्य करता है, इसके लिए यह आवश्यक है कि 18 वर्ष की आयु तक छात्रों को उनकी विशेष आवश्यकता के लिए एक उपयुक्त वातावरण मे ंमुफ्त शिक्षा प्रदान की जाए। आरटीई के तहत निजी स्कूलों को सामाजिक रूप से वंचित और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों के लिए 25 प्रतिशत सीटे ंआरक्षित करने का भी निर्देश दिया है। इसके अतिरिक्त, सरकार विभिन्न अन्य पहल जैसे सर्वशिक्षा अभियान, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान, सक्षम फॉर डिफरेंटली एबल्ड चिल्ड्रन, मिड-डे-मील योजना इत्यादि लेकर आयी है। हालांकि, हमारी कक्षाओं के बाहर भेदभाव को दूर करने के लिए ये उपाय अभी भी पर्याप्त नहीं हैं। 2014 में आरटीई फोरम ने बताया कि देश भर में 10 प्रतिशत से कम स्कूल आरटीई मानदंडों का पालन करते हैं। ये भेदभाव से जूझने वाले बच्चे न केवल अपने संवैधानिक अधिकारों से रहित हैं बल्कि कुछ नया सीखने के अवसर को और सामाजिक बुराइयों से लड़ने के अवसर से भी वंचित हैें।
भेदभाव के प्रकार- हालांकि हम सभी भेदभाव को समझते हैं, लेकिन कठिन तथ्यों के साथ मामले की गंभीरता को समझना अनिवार्य है।
1. जाति आधारित भेदभाव: यह जाति, जातीयता, भौगोलिक उत्पत्ति, वंश इत्यादि के आधार पर किसी व्यक्ति के खिलाफ मौखिक, लिखित, चित्रमय, संकेत या आचरण का कोई भी रूप है जो व्यक्ति की भलाई को गंभीर रूप से प्रभावित करेगा या उनकी संसाधनों तक पहुंच सीमित करेगा। 2009 में जन सहस सोशल डेवलपमेंट सोसाइटी के एक अध्ययन ने बताया कि केवल 22 प्रतिशत दलित बच्चे पहली पंक्ति में बैठते हैं जबकि शेष 78 प्रतिशत मध्य या पीछे बैठते हैं। 52 प्रतिशत भेदभाव करने वालों ने कहा कि उन्हे ंमध्याह्न भोजन के लिए अलग प्लेट लाने के लिए कहा गया था। 25 प्रतिशत को एक अलग लाइन में बैठाया गया, और 11 प्रतिशत ने बताया कि उन्हें उनके जाति नामों से बुलाया गया था। 2015 में ऑक्स फैम इंडिया की रिपोर्ट में बताया गया कि शिक्षा से रहित साठ लाख से अधिक बच्चों में से 75 प्रतिशत से अधिक दलित (32.4 प्रतिशत), मुस्लिम (25.7 प्रतिशत), या आदिवासी (16.6 प्रतिशत) हैं।
2. लिंग का आधार भेदभाव: लिंग, यौन अभिविन्यास या गर्भावस्था के आधार पर किसी व्यक्ति का भेदभाव। 2011 की जनगणना के अनुसार, 82.1 प्रतिशत पुरुषों की तुलना में महिलाओं की साक्षरता दर 65.5 प्रतिशत थी। एक मात्र सकारात्मक परिणाम यह है कि पुरुषों और महिलाओं के बीच साक्षरता दर में अंतर 1981 में 26.6 प्रतिशत से घटकर 2011 में 16.6 प्रतिशत हो गया है। वहीं सकारात्मक प्रवृत्ति ट्रांस जेंडर्स के लिए सही नहीं है, जिनकी आबादी 2011 में 4,87,803 थी एवं साक्षरता दर 57.06 प्रतिशत थी। 2020 के सीबीएसई प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, 10 वीं कक्षा में केवल 19 ट्रांस जेंडर थे और 12 वीं कक्षा में छह ट्रांस जेंडर थे, जबकि 2011 में छह साल से कम उम्र के 54,854 से अधिक ट्रांस जेंडर बच्चे थे।
3. धर्म परिवर्तन भेदभाव: धार्मिक मान्यताओं या धर्म के आधार पर किसी व्यक्ति का भेदभाव। उदाहरण-किसी धर्म पर आधारित चुटकुले एवं मौखिक, शारीरिक, या लिखित प्रकार की धौस दिखाना।
4. शारीरिक विकलांगता पर आधारित भेदभाव: विकलांगता भेदभाव तब होता है जब किसी विकलांग व्यक्ति के साथ नीचा व्यवहार किया जाता है या व्यक्ति को विकलांगता के कारण नुकसान होता है। यह या तो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रतिकूल नीतियों, बुनियादी ढांचे, आदि के माध्यम से हो सकता है। 2011 की जनगणना के अनुसार, 26 प्रतिशत के राष्ट्रीय औसत की तुलना में 45 प्रतिशत विकलांग भारतीय निरक्षर है। विकलांग लड़कियों के लिए स्थिति बदतर है। परिवारों को लगता है कि चूंकि शादी अवास्तविक है, इसलिए उनकी शिक्षा मे ंनिवेश आर्थिक रूप से काफी कम है। हालांकि यह भेदभाव की व्यापक श्रेणियां हैं, लेकिन यह कई अन्य रूपों और विविधताओं में प्रचलित है। विडंबना यह है कि शैक्षणिक संस्थान, जिनका एक मात्र कार्य छात्रों को सशक्त और प्रबुद्ध करना है, वे इन पूर्वाग्रहों को दूर करने में विफल रहे हैं।
भेदभाव क्यों मौजूद है?
भेदभाव को समझना आसान है लेकिन यह बताना कि यह क्यों मौजूद है कहीं अधिकजटिल है।
क्या आप जानत हैं कि भेदभाव करना कैसा लगता है? सुश्री जेन इलियट को आयोवा के एक छोटे से शहर राइसविले में अपने तीसरी कक्षा के छात्रों से पूछा। वह सोच रही थी कि इन बच्चों को कैसे समझा जाए कि भेदभाव क्या है और यह क्यों मौजूद है। इलियट ने कक्षा को दो आंखों के समूह में विभाजित किया, नीली आंखों वाला और भूरा आंखों वाला। पहले दिन, उसने कहा कि नीली आंखें चालाक, दयालु, भद्दी और भूरे-आंखों से बेहतर थीं। इसलिए, नीली आंखों को खाने का लंबा समय मिलेगा, भोजन की कतार में आगे रहने को मिलेगा एवं वे पानी के फव्वारे से पी सकत हैं। जबकि भूरे-आंखों वाले को अपनी गर्दन के चारों ओर कॉलर पहनना पड़ेगा, वे नीली आंखों के साथ नहीं खेल सकते हैं, उन्हें पेपर कप से पीना होगा। जल्द ही, उसे एहसास हुआ कि नीली आंखों वाले बच्चों ने भूरे-आंखों के खिलाफ आक्रामक, शातिर, भेदभाव पूर्ण टिप्पणियों का उपयोग करना शुरू कर दिया। परीक्षण में भी, नीली आंखों ने भूरी आंखों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया। अगले दिन, उन्होने कहा कि उन्होने झूठ बोला था, और इसके बजाय, भूरी आंखों वाले बेहतर थे, और उनके पास सभी विशेषाधिकार होने चाहिए, जबकि नीली आंखों वाले को कॉलर पहनना होगा। लेकिन इस बार, भूरी आंखों वाले बच्चे उतने मतलबी नहीं थे, जितने कि नीली आंखों वाले थे। उन्होंने महसूस किया था कि भेदभाव से कैसा महसूस होता था और वे नहीं चाहता थे कि कोई भी ऐसा महसूस करे। उसने समझाया कि पूर्वाग्रह आपके आसपास के वातावरण और समाज से प्रभावित है। इसी तरह, दिल्ली के एक एनजीओ ने निजी स्कूलों मे ंआर्थिक रूप से कमजोर वर्ग कोटे के सामाजिक-आर्थिक प्रभाव को समझने के लिए कक्षा 3, 4 और 5 पर एक अध्ययन किया। उन्होंने पाया कि गरीब परिवारों के बच्चों के साथ उनके धनी साथियों द्वारा भेदभाव नहीं किया जा रहा था, लेकिन आर्थिक रूप से मजबूत उन्हें नीची नजरो से देखते हैं। इन माता-पिता को लगता है कि उनसे बच्चे बुरी आदतें और भाषाएँ अपनाएँगे जिससे उनकी सीखने की गति कम हो जाएगी। ऐसा लगता है कि भेदभाव भय और गलत फहमी से उपजा है। यह वर्षों के पूर्वा ग्रह का अंतजाल है जिसने भेदभाव को बढ़ावा दिया। यह चक्र घृणा, गलत फहमी, भय, पूर्वाग्रहों आदि से भरा हुआ प्रतीत होता है और प्रयासों के बावजूद समाज इस श्रृंखला को नहीं तोड़ पाया है।

मुद्दे को संबोधित करने में चुनौती
स्कूलों में इस सामाजिक भेदभाव को संबोधित करने में कई चुनौतियां हैं। निजी स्कूलों में सभी सीटों का 25 प्रतिशत शिक्षा के अधिकार अधिनियम के ताहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चो ंके लिए आरक्षित है। इसके माध्यम से सरकार बच्चों के साथ समान व्यवहार करने और उन्हें समान अवसर प्रदान करने की कोशिश कर रही है, लेकिन वे बच्चों को समानता नहीं दे पा रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अन्य नियमित छात्रों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को बुनियादी ढाँचा और सुविधाएँ प्रदान करने में सक्षम नहीं हैं। इससे भेदभाव भी होता है, क्योंकि अन्य बच्चों को लगता है कि वे उनसे नीच हैं। स्कूल के शिक्षकों और कर्मचारियो ंद्वारा पूर्वाग्रह पर नजर रखने के लिए कोई प्रभावी निगरानी तंत्र नही ंहै। इस पर एक जांच रखना और रिकॉर्ड बनाए रखना समय लेने वाला काम है। यह तब और चुनौती पूर्ण है जब विकलांगत बच्चे तस्वीर में आते हैं। शिक्षा की पहुँच सुनिश्चित करके शिक्षा के उनके अधिकार की रक्षा करना स्कूलों के लिए एक दूर की प्राथमिकता है। साथ ही, कक्षा में लड़कियों को लाने और रखने के लिए पर्याप्त कदम नहीं लिए जा रहे है। शिक्षा सुविधा का लाभ उठाने के लिए और छात्रों को प्रोत्साहन देने के लिए मध्याह्न भोजन शुरू किया गया। कार्यक्रम का एक उद्देश्य यह भी था कि लोगों को एक साथ भोजन कराकर भेदभाव को कम किया जा सके। लेकिन ऐसे मामले हैं जहां अभी भी एक विशेष वर्ग के छात्रों के प्रति भेदभाव घटनाएं सामने आई है। चूंकि ये भेदभाव जानबूझकर या अनजाने में हो सकते हैं, इसलिए स्कूलों में भेदभाव का रिकॉर्ड रखना और अधिक मुश्किल है। भेदभाव के लिए पूर्वाग्रह विभिन्न कारणों से हो सकता है और उनमे ंसे प्रत्येक पर काम करना चुनौती पूर्ण काम है। इस मुद्दे के मूल में असमानता के लिए सहिष्णुता हैऔर एक विश्वास है कि वंचित वर्ग और विकलांग व्यक्ति उनकी स्थिति के लिए स्वयं जिम्मेदार हैं। इसने एक ऐसे अंत: क्रियात्मक चक्र का निर्माण किया है जो वर्षों से जीवित और संपन्न है। इसके साथ ही समाज, समावेश और समानता के बजाय शैक्षिक परिणामों को महत्त्व देता है।

समाधान
1. शैक्षिक संस्थानों, गैर सरकारी संगठनों, राज्य और केंद्र सरकार सहित सभी हित धारकों को एक ऐसा वातावरण बनाना चाहिए जो खुले तौर पर सभी स्तरों पर भेदभाव को पहचाने और संवाद, चर्चा और मुद्दों के निवारण के लिए एक वातावरण तैयार करे। यह सुझाव दिया जाता है कि प्रत्येक संस्थान में आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) होनी चाहिए जिसमें शिक्षक, अभिभावक, गैर सरकारी संगठन, सदस्य जिला प्रशासन शामिल हों और जोहर जाति, धर्म, लिंग आदि से संबंधित हों, जो कि चर्चा की जा रही शैक्षिक संस्थान का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। आईसीसी को किसी भी भेदभाव पूर्ण व्यवहार का संज्ञान लेना चाहिए और कानून के अनुसार कार्रवाई करनी चाहिए। प्रत्येक संस्थान को संबंधित अधिकारियों द्वारा लेखा परीक्षा के लिए संस्थान में देखे गए सभी भेदभाव पूर्ण व्यवहार का रिकॉर्ड रखना चाहिए।
2. चूंकि संस्थानों में शिक्षकों की भूमिका अत्यधिक महत्वपूर्ण है। शिक्षकों को प्रशिक्षित करना और सुधार करना आवश्यक है ताकि वे न केवल अपने पूर्वाग्रहों को दूर कर सकें, बल्कि उन्हें अन्य बच्चों, माता-पिता, शिक्षकों आदि सहित शिक्षा प्रणाली में किसी के द्वारा भेदभाव पूर्ण आचरण को संभालने, संवेदनशील तरीके से निपटने में सक्षम हो सकें।
3. संस्थानों में भेदभाव केबारे में खुली चर्चा और संवेदनशीलता होनी चाहिए। संस्थानो ंको समाज मे ंप्रचलित भेदभाव पर कार्यशालाओ ंका आयोजन करना चाहिए। उन्हें अपने अनुभवों और भावनाओं को बोलने के लिए भेदभाव से जूझने वाले समूहों से मेहमानों को आमंत्रित करना चाहिए। छात्र यह समझने में सक्षम होंगे कि भेदभाव उनके समाज को कैसे घर कर के बैठा है और इससे उनका दृष्टिकोण बदल जाता है। यह सीखने का एक आकर्षक अनुभव होगा जो यह दिखाएगा कि भेदभाव किसी के साथ भी हो सकता है और उनके दोस्त, परिवार, पड़ोसी, आदि के साथ परिवर्तन शुरू होता है।
4. शैक्षिक संस्थानों का परीक्षण और प्रमाणित शिक्षा का अधिकार करना है, जिसका अर्थ है कि स्कूल में समावेशी शिक्षा सुनिश्चित करना। यह समावेश सिर्फ पत्र में नहीं बल्कि आत्मा में भी होना चाहिए। सरकार को उन संस्थानों को रेटिंग देकर उन्हें मान्यता देनी चाहिए और ऐसे संस्थानों को प्रोत्साहन देना चाहिए।
5. शैक्षिक संस्थानो ंके छात्रों को सीमांत समूहों की तरह कुछ दिन जीने की परियोजना देनी चाहिए और परियोजना के बाद उनकी भावनाओं और विचारों को व्यक्त करना चाहिए। वे इस गतिविधि को अंजाम देने के लिए गैर सरकारी संगठनो ंके साथ गठजोड़ कर सकते हैं। स्थिति को देखने और अनुभव करने से छात्रों का दृष्टिकोण बदल जाएगा। एक बार जब वे जानेंगे की पीड़ित होने से कैसा अनुभव होता है, तब वे संवेदनशील बनेंगे। समावेश को सीखने का एक मात्र तरीका अभ्यास है।
निष्कर्ष
वर्षों की शिक्षा और कानून प्रणाली, कक्षाओं और समाज में मौजूद पूर्वाग्रहों को दूर नहीं कर पाए हैं।
दुर्भाग्य से, जीवन के सभी क्षेत्रों में भेदभाव आम है। केवल शिक्षा में इसे कम करने की शक्ति है, और अंतत: इसे रोकने की भी। यह रातों रात नहीं होगा, लेकिन हमें कठिन सवाल पूछना शुरू करना होगा, हमे ंअपनी पूर्वाग्रहों पर सवाल उठाने की आवश्यकता है ताकि हम सभी को एक मानव जाति के रूप में माना जाए जो समान रूप से एक खुशहाल और सफल जीवन जीने के हकदार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!