रक्तदान शिविर में 220 लोगों ने किया रक्तदान, पूर्व सीएम त्रिवेंद्र ने नियमित रक्तदाताओं का किया सम्मान

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार।
भारतीय जनता पार्टी कोटद्वार के तत्वावधान में एम्स ऋषिकेश की टीम के सहयोग से राजकीय इंटर कॉलेज कोटद्वार में रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। शिविर में सामाजिक सदस्यों व पुलिस जवानों ने अपने खून का दान करके प्रमुख अस्पतालों के ब्लड़ बैंकों में पेश आने वाली खून की कमी को दूर करने में अहम योगदान दिया। रक्तदान शिविर में 500 से अधिक लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया, जिसमें से 220 यूनिट रक्तदान किया गया। पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नियमित रक्तदाताओं को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना महामारी की पहली लहर में दिसम्बर 2020 और जनवरी 2021 में रक्त की कमी महसूस की गई। रक्त की कमी को दूर करने के लिए रक्तदान शिविर आयोजित किये गये। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर में अप्रैल-मई माह में दोबारा से रक्त की कमी होनी शुरू हुई। इसी को देखते हुए उन्होंने रक्तदान शिविर लगाने का निर्णय लिया। 14 मई को डोईवाला से रक्तदान शिविर का शुभारंभ किया गया। अब पूरे प्रदेश में रक्तदान शिविर आयोजित किये जा रहे है। वर्तमान में राज्य में रक्त की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि रक्तदाताओं को सम्मानित किया जाना चाहिए। ताकि और लोग भी उनसे प्रेरणा लेकर रक्तदान के लिए आगे आ सके। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि रक्तदान से बढ़कर कोई दान नहीं। एक इंसान द्वारा किए गए इस रक्तदान से अनमोल जिंदगियों पर मंडराने वाले असमय मौत के खतरे को दूर किया जा सकता है। आज हमारे समाज में ऐसे कई संगठन हैं, जिन्होंने इस गंभीर समस्या पर अपना गौर किया और रक्तदान जैसे महादान पर समाज को जागरूक करने की पहल की है। ऐसे समाजिक संगठनों की जनसेवा सराहनीय है और उन लोगों के जज्बे को भी सराहा जाता है जो इस रक्तदान जैसे शिवरों में पहुंच कर अपनी सेवा का पुण्य कमाते हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को समय-समय पर अपने रक्त के दान का भागीदार बनना चहिए। लोग मानते हैं कि खून देने से इंसान की शारीरिक कमजोरी बढ़ती है। लेकिन ऐसा नहीं होता, बल्कि खून का दान करने से कई प्रकार के घातक रोगों से शरीर को मुक्ति मिलती है और रोग प्रतिरोधक शारीरिक शक्ति का भी सही विकास होता है। इस मौके पर गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष पंडित राजेंद्र अंथवाल, लैंसडौन विधायक महंत दलीप रावत, भाजपा जिलाध्यक्ष संपत सिंह रावत, महामंत्री जंगबहादुर, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष सौरव नौडियाल, पूर्व जिलाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह बिष्ट, नगर अध्यक्ष सुनील गोयल, पूर्व महामंत्री वीरेंद्र रावत, वन निगम के अध्यक्ष सुरेश परिहार, शीतल जोशी, अमित भारद्वाज, आशा डबराल, वन मंत्री डॉ. हरर्क ंसह रावत के ओएसडी विनोद रावत, मानेश्वरी बिष्ट, मंजू जखमोला, किरन काला, अनीता आर्य, सुनीता कोटनाला, ममता देवरानी आदि मौजूद थे।


ग्लोबल वार्मिग रोकने के लिए पीपल, बट के वृक्षों का रोपण जरूरी: त्रिवेंद्र
कोटद्वार।
पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सर्दी के सीजन में हुई वनाग्नि की घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पर्यावरणविदों का कहना है कि आने वाले समय में तेजी से ग्लोबल वार्मिग हो सकती है, ग्लोबल वार्मिग को रोकने के लिए अभी से अधिक से अधिक वृक्षारोपण करना होगा। उन्होंने कहा कि ग्लोबल वार्मिग रोकने में सहायक पीपल, बट सहित अन्य प्रजातियों के वृक्षों का रोपण करना जरूरी है। 16 जुलाई को हरेला पर्व है, इस दिन पर्यावरण संरक्षण के लिए जरूर वृक्ष रोपे। उन्होंने कहा कि वह 1 लाख पीपल और बट के वृक्षों की व्यवस्था अपने संसाधनों से करेगें। कार्यकर्ता इन वृक्षों को रोपने के लिए जगह चिन्हित करें। पूर्व मुख्यमंत्री ने लोगों से वनों को बचाने के लिए आगे आने की अपील करते हुए कहा कि बगैर वनों के प्राणी मात्र का जीवन संकट में आ जाएगा। इस बात को हमें नहीं भूलना चाहिए। वनों की भूमिका मनुष्य से लेकर समाज में हर प्राणी के लिए अहम है। हमें इसके महत्व को समझना होगा।


रक्तदाताओं को किया सम्मानित
कोटद्वार। 
पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राजकीय इंटर कॉलेज कोटद्वार में आयोजित रक्तदान शिविर के दौरान गोविंद डंडरियाल को, कांति देवी, अवधेश अग्रवाल, रेखा नेगी, सुमित सिंघल, दलजीत सिंह, संजय थपलियाल, कोटद्वार कोटद्वार के वरिष्ठ उपनिरीक्षक प्रदीप नेगी को सम्मानित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!