प्रशासन ने की एंबुलेंस सीज, चालक ने मांगी माफी, कुछ दिन पूर्व 4 किमी की दूरी के लिए थे 6 हजार रुपये

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
पौड़ी।
बेस अस्पताल श्रीकोट से अल्केश्वर घाट तक 4 किमी. की दूरी के लिए 6 हजार रुपये लेने वाले एंबुलेंस चालक पर प्रशासन ने कार्यवाही कर दी है। एसडीएम ने एंबुलेंस को सीज कर तहसील परिसर में पार्क करवा दिया है। वहीं एंबुलेंस संचालक ने अपनी गलती स्वीकारते हुए संभागीय परिवहन अधिकारी से लिखित रूप में माफी मांगी है। साथ ही भविष्य में ऐसा न किए जाने की बात भी कही है।
बीते 10 मई को एक एंबुलेंस संचालक ने श्रीकोट बेस अस्पताल की मोर्चरी से अल्केश्वर घाट तक शव ले जाने के लिए परिजनों से 8 हजार वसूले थे। यह मामला प्रिंट मीडिया में प्रकाशित होने के साथ ही सोशल मीडिया पर भी जमकर वायरल हुआ था। मामला संज्ञान में आने पर जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदंडे ने एसडीएम श्रीनगर को मामले की जांच करने के निर्देश दिए थे। जिलाधिकारी ने कहा था कि ऐसी घटनाएं व्यवस्थाओं पर चोट करती हैं। ऐसी घटनाओं पर जांच के बाद कार्यवाही होनी आवश्यक है। तहसील प्रशासन ने मामले में कार्यवाही करते हुए एंबुलेंस को सीज कर तहसील परिसर में पार्क करवा दिया है। वहीं एंबुलेंस चालक ने भी अपनी गलती स्वीकरते हुए संभागीय परिवहन अधिकारी से लिखित में माफी मांगी है। चालक ने प्रशासन की ओर से निर्धारित दर के अनुसार भाडा काटकर अतिरिक्त ली गई शेष राशि भी संभागीय परिवहन कार्यालय में जमा करा दी है। जिस संबंध में परिवहन विभाग के अधिकारियों ने पीड़ित पक्ष को भी सूचित कर दिया है।

सफाई कर्मचारी की मिलीभगत से चल रहा था गोरखधंधा

एंबुलेंस संचालक अपना गोरखधंधा सफाई कर्मचारी के साथ मिलकर चला रहा था। एंबुलेंस चालक ने संभागीय परिवहन अधिकारी को लिखे माफी पत्र में 4 हजार रुपये सफाई कर्मी को दिए जाने की बात कही है। हालांकि चालक ने पत्र में यह स्पष्ट नहीं किया है कि उसने किस विभाग के सफाई कर्मी को उसने दो हजार रुपये दिए।


एंबुलेंस को सीज कर तहसील परिसर में पार्क कर दिया गया है। जब तक पीड़ित परिवार को अतिरिक्त ली गई धनराशि वापस नहीं मिल जाती एंबुलेंस नहीं छोड़ी जाएगी। रविंद्र बिष्ट एसडीएम श्रीनगर।

हमें पैंसे वापस नहीं चाहिए
प्रशासन ऐसी कार्यवाही करे कि भविष्य में कोई किसी के साथ ऐसा न करें। राहुल, पीड़ित परिजन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!