आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है पांड गांव

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। कॉर्बेट नेशनल पार्क के बफर जोन से सटे विकासखंड नैनीडांडा के ग्राम पांड में मूलभूत सुविधाओं का अभाव होने के कारण ग्रामीण, सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा, चिकित्सा की मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। देश की आजादी के बाद केन्द्र राज्य सरकार ने गांवों को मूलभूत सुविधाएं बिजली, पानी, सड़क, चिकित्सा तथा विद्यालय के लिए करोड़ों रुपए योजनाओं के माध्यम से खर्च तो कर दिए, लेकिन आज भी कई गांव मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। ग्राम पांड के ग्रामीण आज भी विकास की राह देख रहे है।
ग्रामीण मुकेश सुन्दरियाल ने बताया कि आजादी के बाद से आज तक गांव मेंं बिजली, सड़क, शिक्षा, पानी, चिकित्सा की सुविधा नहीं होने से ग्रामीणों को आजाद देश में भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित होना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि देश और राज्यों ने तो कई क्षेत्रों में प्रगति की है लेकिन हमारा गांव आज भी विकास के क्षेत्र में बहुत पिछड़ा हुआ है। गांव में मूलभूत सुविधाओं का आज भी टोटा है, लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक गांव में मूलभूत सुविधा उपलब्ध नहीं करवाने के कारण ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गांव में तो बिजली, चिकित्सा, सड़क, पेयजल, शिक्षा सहित कई अन्य सुविधाओं के लिए आज भी ग्रामीण तरस रहे हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा कई बार घोषणाओं में कहा गया कि जिन गांवों में बिजली नहीं है वहां पर सोलर पावर से संचालित स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था की जायेगी, लेकिन गांव में कुछ ही परिवारों को स्ट्रीट लाईट दी गई है। उन्होंने कहा कि एक ओर तो केन्द्र और राज्य सरकार गांवों से पलायन रोकने की बात कह रही है, लेकिन गांवों में मूलभूत सुविधायें उपलब्ध कराने में भी सरकार नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से कई सरकारें आईं और चली गईं, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया और आज भी यह लोग सड़क, बिजली, पानी और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत समस्याओं से वंचित हैं। मुकेश सुन्दरियाल ने कहा कि अगर जल्द ही सभी ग्रामीणों को सोलर लाईट उपलब्ध नहीं कराई गई तो ग्रामीण आंदोलन को बाध्य होगें। जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की होगी।

बॉक्स समाचार
अंधेरे में रहने को मजबूर ग्रामीण
पांड गांव निवासी मुकेश सुन्दिरयाल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में कहा कि पांड गांव कॉर्बेट नेशनल पार्क के बफर जोन में बसा हुआ है। गांव में लाइट की कोई उचित व्यवस्था तक नहीं है। बस स्टेशन से गांव दस किमी. दूर है। ग्रामीण जंगल के रास्ते से होते हुए गांव पहुंचते है। रास्ते में जंगली जानवरों का भय बना रहता है। रात को ग्रामीण जंगली जानवरों के भय से घर से बाहर नहीं निकलते है। गांव में अधेरा होने के कारण जंगली जानवर सांय होते ही गांव में घुस जाते है। जिस कारण जानमाल का खतरा बना रहता है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने हर घर को रोशन करने के लिए सौभाग्य योजना चलाई है, लेकिन इसके बावजूद भी गांव में अब तक लाइट नहीं पहुंच पाई है। जिस कारण ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर है। उन्होंने गांव में बिजली की व्यवस्था कराने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!