साइबर ठगों से सावधान: पौड़ी गढ़वाल में हर महीने 25 से 30 लोग हो रहे शिकार

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। जनपद पौड़ी गढ़वाल में साईबर ठगी के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे है। लोग लालच में आकर साईबर ठगों के जाल में फंस रहे है। जिले में साईबर ठगी के मामले काफी बढ़ गए है। अब तो हालात ऐसे हो गए हैं कि हर माह 25 से 30 मामले साइबर ठगी के आ रहे हैं। दूसरे राज्यों में बैठे-बैठे लोग मोबाइल पर मैसेज भेज कर खाते से रुपये निकाल लेते हैं। अब तक लोग लाखों रुपये गंवा चुके हैं। शिकायतें मिलने के बाद साईबर सेल ने कई लोगों को पैसे भी वापस दिलाए है।
वर्तमान में लोग दुकान पर जाने के बजाय ऑनलाइन खरीदारी कर रहे है। ऑनलाइन खरीदारी करने के बाद कई बार सामान खराब आ जाता है, ऐसे में लोग गूगल पर कस्टमर केयर नंबर ढूढ़ते है और लोग गूगल से कस्टमर केयर नंबर लेकर फोन करते है और वह ऑनलाइन ठगी का शिकार हो जाते है। मोबाइल पर ओटीपी भेज कर लोगों के रुपये हड़पने वाले ठगों ने इंटरनेट मीडिया पर भी फर्जी कस्टमर केयर नंबर डाल दिए हैं। जैसे ही लोग इन नंबरों पर अपनी समस्या के समाधान के लिए फोन मिलाते हैं तो ओटीपी बताते ही उनके खाते से रुपये कटने शुरू हो जाते हैं। पूर्व में पौड़ी जिले की साईबर सेल के पास ऐसा ही मामला आया था। शिकायत कर्ता ने साईबर सेल को बताया था कि उसने गूगल से कस्टर केयर नंबर लेकर फोन किया तो उसके साथ ऑनलाइन ठगी हो गई।
ठग नामी कंपनी से मिलती जुलती साइट बनाते हैं। ऑनलाइन आर्डर या नेट बैंकिंग प्रयोग करने वाले जब कोई जरूरत पर कस्टमर केयर का नंबर सर्च करते हैं तो इनका नंबर भी सामने आता है। ऐसे में लोग मिलती जुलती साइट होने के चलते दुविधा में पड़ जाते हैं। इनसे अपनी समस्या हल कराने के लिए फोन मिला देते हैं। ठग कस्टमर केयर का एग्जीक्यूटिव बन कर बैंक का नाम, खाता संख्या, एटीएम का नंबर, जन्मतिथि समेत अन्य निजी जानकारी लेते हैं। वह मोबाइल पर ओटीपी भेजते हैं। जैसे ही ओटीपी ठग को बताया और खाता खाली। बाद में लोग पुलिस थाने के चक्कर काटते रहते हैं। प्रभारी साईबर सेल निरीक्षक विजय सिंह ने बताया कि साईबर ठग ठगी के नए-नए तरीके अपना रहे हैं। कोई भी बैंक किसी व्यक्ति का खाता नंबर, एटीएम कार्ड नंबर या ओटीपी नहीं पूछता। यदि कोई ऐसी जानकारी ले रहा है तो समझ जाएं वह ठगी करने वाला है। फिर भी ठगी होती है तो तुरंत इसकी सूचना पुलिस या बैंक में दें। सूचना देरी में देने से पैसे वापस करवाने की संभावना बहुत कम रहती है, क्योंकि तब तक साइबर ठग पैसे निकाल लेते हैं।

साईबर सेल ने 3 व्यक्तियों के खाते में लौटायें 65 हजार
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। पौड़ी जिले की साईबर सेल को एक बार फिर से सफलता मिली है। साईबर सेल ने साईबर ठगी का शिकार हुए तीन लोगों के खाते में 65 हजार रूपये की धनराशि वापस कराई है। पूर्व में भी साईबर सेल की टीम कई लोगों के पैसे वापस दिला चुकी है। साईबर सेल अगस्त से माह से अब तक 52 साईबर ठगी के शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करते हुये 7 लाख 1 हजार 9 सौ 97 रूपये की धनराशि वापस दिला चुकी है।
प्रभारी साईबर सेल निरीक्षक विजय सिंह ने बताया कि सुभाष चंद्र धस्माना निवासी पदमपुर मोटाढांक ने शिकायत दर्ज कराई की अज्ञात व्यक्ति ने भारतीय सेना का जवान बताकर उनके साथ 43 हजार रूपये की ऑनलाइन ठगी कर ली। शिकायत पर त्वरित कार्यवाही करते हुए पीड़ित के खाते से कटी 43 हजार रूपये में से 40 हजार रूपये की धनराशि वापस कराई गई है, जो पीड़ित के खाते में आ गई है। उन्होंने बताया कि सोहन सिंह निवासी कोटा गढवाल, महादेव अश्रु खेत, धुमाकोट ने शिकायती दर्ज कराई की किसी अज्ञात व्यक्ति ने गाड़ी बेचने के नाम पर 31,998 रूपये की ऑनलाइन ठगी कर ली है। पीड़ित को 10 हजार की धनराशि वापस कराई गई है। सुमित वर्मा पुत्र मुकेश कुमार निवासी गोविंदनगर कोटद्वार ने शिकायत दर्ज कराई की किसी अज्ञात व्यक्ति ने बैंक खाते की जानकारी लेकर 15 हजार रूपये की ठगी कर ली। सूचना के आधार पर साईबर सेल टीम ने त्वरित कार्यवाही करते हुए पीड़ित के खाते से कटी 15 हजार रूपये की धनराशि वापस कराई गई है। प्रभारी साईबर सेल निरीक्षक विजय सिंह ने कहा कि किसी अज्ञात व्यक्ति के कॉल और मैसेज से सावधान रहें, किसी को भी अपना ओटीपी, सीवीवी शेयर ना करें, अंजान लिंक, ऑनलाइन जॉब ऑफर से संबंधित लिंक पर क्लिक ना करें, अंजान क्यूआर कोड स्कैन ना करें। उन्होंने कहा कि जागरूक रहकर ही साईबर ठगी से बचा जा सकता है। टीम में प्रभारी साईबर सेल निरीक्षक विजय सिंह, उपनिरीक्षक रफत अली, कांस्टेबल कैलाश शाह, अरविंद राय, विमला नेगी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!