पौड़ी गढ़वाल में घर्वात व बरातों के जश्न में डूबे गांवों में फूटे कोरोना बम, नैनीडाडा में 40, मजगांव में 32 तो धुमाकोट तहसील के 15 कर्मचारी मिले कोरोना संक्रमित

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार।
भारत में सर्वाधिक गांव वाले जिला पौड़ी गढ़वाल में कोरोना ने घर्वात और बरात के जश्न में डूबे ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी मजबूत पकड़ बना ली है। आये दिन गांव के गांव कोरोना संक्रमित हो रहे है। ऐसे गांवों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आज मंगलवार को आई रिपोर्ट के अनुसार चौबट्टाखाल तहसील के अंतर्गत ग्राम मजगांव में जहां 32 लोग एक साथ संक्रमित पाये गये है, वहीं धुमाकोट तहसील परिसर में 15 तथा नैनीडांडा में एक साथ 40 कोरोना संक्रमित मिले है।
जनपद पौड़ी गढ़वाल में बीतें चौबीस घंटे में बेस अस्पताल श्रीकोट में भर्ती तीन कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। जबकि कोरोना के 268 नये केस सामने आये है। धुमाकोट तहसील के 15 कर्मचारियों, नैनीडांडा के 40, यमकेश्वर ब्लॉक के कोठार गांव में 13, नाड तल्ला में 11 लोग कोरोना संक्रमित पाये गये है। जिले में अब तक 162 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। अभी तक जिले में 14420 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके है।

जनपद पौड़ी गढ़वाल के गांवों में तेजी से कोरोना वायरस फैल रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना संक्रमितों को चिन्हित करने के लिए जांच शिविर आयोजित किये जा रहे है, लेकिन ग्रामीण इन शिविरों में जांच कराने के लिए बहुत ही कम संख्या में आ रहे है। ग्रामीणों में कोरोना का भय बना हुआ है। जनपद पौड़ी गढ़वाल के सीएमओ डॉ. मनोज कुमार शर्मा ने बताया कि पिछले 24 घंटे में दुगड्डा ब्लॉक में 22, द्वारीखाल में 8, एकेश्वर में तीन, जयहरीखाल, कल्जीखाल में दो-दो, खिर्सू में 41, कोट में एक, नैनीडांडा में 56, पाबौ में चार, पौड़ी में 51, पोखड़ा, रिखणीखाल में पांच-पांच, यमकेश्वर में 35, अन्य जिलों व राज्यों के 32 सहित 268 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कोरोना संक्रमितों को आइसोलेट कर दिया गया है। उन्हें कोविड किट भी उपलब्ध करा दी गई है। सीएमओ ने बताया कि बीते 24 घंटे में बेस अस्पताल श्रीकोट में भर्ती श्रीनगर निवासी 37 वर्षीय महिला, 51 वर्षीय व्यक्ति, 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है। अभी तक पौड़ी गढ़वाल में 162 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जिले में 4236 एक्टिव केस है, जिसमें पौड़ी गढ़वाल के 3006 और अन्य जिलों व राज्यों के 995 शामिल है। जबकि 235 लोगों ने स्वास्थ्य विभाग को गलत जानकारी दी है। पौड़ी गढ़वाल में 2318 कोरोना संक्रमित होम आइसोलेट में है। अब तक जिले में 14420 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके है, जिसमें से 10022 कोरोना संक्रमित स्वस्थ हो गये है।
प्रभारी चिकित्साधिकारी नैनीडांडा डॉ. संजय कुमार पांडेय ने बताया कि नैनीडांडा ब्लॉक के 56 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य केंद्र से 6 से 12 मई तक कोरोना जांच के लिए सैंपल भेजे गये थे, जिनकी रिपोर्ट अब आई है। सभी कोरोना संक्रमितों को आइसोलेट किया गया है, उन्हें कोविड किट भी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य केंद्र से सैंपल को कोटद्वार बेस अस्पताल भेजा जाता है, वहां से लैब में जांच के लिए भेजे जाते है।

पौड़ी गढ़वाल के मजगांव में मिले 32 कोरोना संक्रमित, गांव सील
जयन्त प्रतिनिधि।
सतपुली/कोटद्वार।
जनपद पौड़ी गढ़वाल के पहाड़ी क्षेत्रों में कोरोना माहामारी लगातार अपने पैर पसारती जा रही है। लोगों के मन में कोरोना माहामारी के प्रति डर बैठ गया है। मंगलवार को विकासखंड पोखड़ा के अंतर्गत मजगांव में एक साथ 32 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने पर गांव में हड़कंप मच गया। जिसके बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सील कर दिया है।
एसडीएम सतपुली संदीप कुमार ने बताया कि मजगांव में गत 12 मई को 97 लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया था। जिसमें 32 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। मंझगांव को कैंटेनमेंट जोन घोषित कर सील कर दिया गया है। गांव में मिले कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेट कर दिया गया है। कोरोना संक्रमितों को कोविड किट भी दी गई है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम को निर्देशित किया गया है कि वह पूरे गांव में शीघ्र ही ग्रामीणों का सैंपल करें। ताकि कोरोना संक्रमण पर रोक लगाई जा सके। उन्होंने क्षेत्रीय जनता से अपील की कि घरों से अनावश्यक बाहर न निकले। आवश्यकता पड़ने पर ही घर से मास्क पहनकर बाहर निकले। घर में रहकर ही इस बीमारी से बचाव किया जा सकता है। कोरोना गाइडलाइन का सभी पालन करें। कोरोना संबंधी कोई भी लक्षण हो तो वह आसपास के चिकित्सालय में तैनात चिकित्सक से राय ले सकते हैं।

श्रीनगर कोविड अस्पताल में रेलमार्ग परियोजना के इंजीनियर समेत सात की मौत
जयन्त प्रतिनिधि।
श्रीनगर।
कोविड अस्पताल श्रीकोट में पिछले 24 घंटे में 7 लोगों की मौत हो गई। इनमें 1 संभावित और 6 कोरोना संक्रमित थे। जिले में दिन प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों की मौत का आकंड़ा बढ़ता जा रहा है। अब तक 162 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है।
कोविड अस्पताल के पीआरओ अरुण बड़ोनी ने बताया कि उपचार के दौरान उड़ीसा (हाल निवास श्रीकोट गंगानाली) निवासी ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलमार्ग परियोजना के 54 वर्षीय इंजीनियर, नारायणबगड़ (चमोली) की 65 वर्षीय महिला, गोला बाजार श्रीनगर के 73 वर्षीय बुजुर्ग, मढ़ी कॉलोनी चौरास (टिहरी) निवासी 60 वर्षीय व्यक्ति, सौंराखाल (रुद्रप्रयाग) के 32 वर्षीय युवक, देवप्रयाग (टिहरी) 58 वर्षीय व्यक्ति और सौरगढ़ अगस्त्यमुनि (रुद्रप्रयाग) की 45 वर्षीय महिला की मृत्यु हुई है। बड़ोनी ने बताया कि रुद्रप्रयाग और नारायणबगड़ से 4 मरीज रेफर होकर आए थे। सभी की स्थिति गंभीर थी। उनकी स्थिति देखते हुए आईसीयू में भर्ती कराया गया, लेकिन काफी प्रयासों के बावजूद उनको बचाया नहीं जा सका। इधर, सीएमओ डॉ. मनोज शर्मा ने बताया कि विकासखंड खिर्सू में मंगलवार को 41 कोरोना संक्रमित पाए गए।

रिपोर्ट लेट आने से बढ़ा संक्रमण का खतरा
कोटद्वार।
जनपद पौड़ी गढ़वाल के दूरस्थ क्षेत्रों में कोरोना जांच के लिए लैब स्थापित न होने के कारण समय से जांच रिपोर्ट नहीं आ रही है। जिस कारण ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा बना हुआ है। मंगलवार को नैनीडांडा ब्लॉक के जिन 56 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, कोरोना जांच के लिए उनके सैंपल 6 से 12 मई के बीच भेजे गये थे, लेकिन समय से रिपोर्ट नहीं आ रही है। नैनीडांडा ब्लॉक क्षेत्र में जिन लोगों के सैंपल 6 से 12 मई के बीच लिये गये है, उनकी रिपोर्ट मंगलवार को आई है। इस दौरान जो लोग कोरोना संक्रमित थे वह कितने लोगों के संपर्क में आये होगें उन्हें चिन्हित करना प्रशासन के लिए आसान नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!