गाड़ीघाट में सीवर के क्षतिग्रस्त चेंबर, दुर्घटना का बना खतरा

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। नगर निगम के वार्ड नंबर चार गाड़ीघाट के मुख्य तिराहे पर सीवर लाइन के धंसे चेंबर वाहनों और राहगीरों के लिए दुर्घटना का सबब बने हुए हैं।
गाड़ीघाट मुख्य तिराहे पर पिछले काफी समय सीवर लाइन का चेंबर धंसा हुआ है। गाड़ीघाट में एक वर्ष पूर्व ही चेंबरों की मरम्मत कराई गई थी। सड़क के बीचों-बीच क्षतिग्रस्त चेंबरों के कारण राहगीरों के साथ-साथ वाहनों को भी खतरा बना हुआ है। कोटद्वार नगर क्षेत्र में शायद ही कोई ऐसी सड़क हो, जहां सीवर के चेंबर क्षतिग्रस्त न हों। आलम यह है कि कहीं सड़क के बीच में चैंबर टूटे हुए हैं तो कहीं सड़क किनारे टूटे चैंबर दुर्घटनाओं को न्योता दे रहे हैं। ऐसा नहीं कि नगर निगम एवं जल संस्थान को इस संबंध में जानकारी न हो, लेकिन ध्यान देने वाला कोई नहीं। क्षेत्र में सीवर चैंबर ही नहीं, खुली नालियां भी दुर्घटनाओं को न्योता दे रही हैं। स्थिति यह है कि क्षेत्र में गलियों को मुख्य सड़कों से जोड़ने के लिए नालियों के ऊपर डाले गए स्लैब भी सही तरीके से नहीं डाले गए हैं। इन स्लैबों के मध्य में खाली स्थान छोड़ा गया है, जिसमें दुपहिया अथवा चौपहिया वाहनों के टायर फंसते रहे हैं। गाड़ीघाट निवासी महेश का कहना है कि सड़क पर चैंबरों के क्षतिग्रस्त ढक्कनों के कारण दुर्घटनाएं होना तय है। नगर निगम को इस ओर ध्यान देना चाहिए। जिस तरह क्षतिग्रस्त चैबरों को लेकर शासन-प्रशासन मूक दर्शक बना बैठा है। इसे देख यही लगता है कि शासन-प्रशासन को बड़ी दुर्घटना का इंतजार है। नगर निगम के नगर आयुक्त पीएल शाह का कहना है कि जल्द ही क्षतिग्रस्त चैंबरों की मरम्मत करवायी जायेगी। उधर जल संस्थान के अधिशासी अभियन्ता एलसी रमोला का कहना है कि क्षतिग्रस्त चैंबर के संबंध में जब भी कोई शिकायत आती है तो चैंबर को तत्काल दुरुस्त करवा दिया जाता है। (फोटो संलग्न है)
कैप्शन04:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!