कूड़े ने बिगाड़ी शहर की सूरत, बीमारियों के फैलने का खतरा

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

ठेका प्रथा के विरोध में सातवें दिन भी जारी रहा सफाई कर्मियों का कार्यबहिष्कार
समस्या का समाधान नहीं होने तक सफाई कर्मियों ने दी आंदोलन जारी रखने की चेतावनी
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार: ठेका प्रथा के विरोध में सफाई कर्मियों का कार्यबहिष्कार मंगलवार को भी जारी रहा। सफाई कर्मियों ने समस्या का समाधान नहीं होने तक आंदोलन को जारी रखने की चेतावनी दी है। वहीं, पिछले एक सप्ताह से जगह-जगह लगे कूड़े के ढेर से शहर की सूरत बिगड़ने लगी है। गंदगी से उठ रही दुर्गंध के कारण क्षेत्रवासियों को संक्राम बीमारियों का खतरा सताने लगा है।
पिछले एक सप्ताह से सफाई कर्मियों की हड़ताल के चलते शहर की सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। नगर में जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। दुर्गंध से भी लोग बेहाल हो रहे हैं। हड़ताल के कारण डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन भी पूरी तरह से ठप है। ऐसे में सफाई कर्मियों की हड़ताल शहरवासियों पर भारी पड़ रही है। कूड़ा नहीं उठने से शहर में संक्रामक बीमारियां के फैलने का खतरा बढ़ गया है। मालूम हो कि तीन सितम्बर को नगर आयुक्त ने सफाई कर्मचारियों को अप्रैल 2018 के शासनादेश का हवाला देते हुए आउटसोर्स में समायोजित करने के आदेश दिए थे। सफाई कर्मचारियों ने उन्हें ठेकेदारी प्रथा पर नियुक्त करने का विरोध करते हुए छह सितंबर से कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया। स्थिति यह है कि तब से शहर की सफाई नहीं हुई। लावारिश पशु भोजन की तलाश में कूड़ा फैला रहे हैं जिससे उड़ने वाली बदबू ने लोगों का जीना मुश्किल किया हुआ है। दो दिन पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ऋतु भूषण खंडूरी ने इस विषय पर अधिकारियों की बैठक लेकर जल्द समाधान निकालने को कहा था लेकिन आज तक कोई हल न होने के कारण जनता त्रस्त हो गई है।

बारिश ने बिगाड़ी सूरत
मंगलवार सुबह तड़के शहर में हुई बारिश से कूड़े की स्थिति और बदहाल हो गई। जगह-जगह सड़क व अन्य स्थानों पर एकत्रित कूड़ा पानी के साथ बहकर सड़क पर फैल गया। ऐसे में आमजन को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ा। वहीं, निगम क्षेत्र की सड़कों के किनारे भी नालियां चोक हो गई। सड़क व घरों के आसपास पानी जमा होने से आमजन को बीमारियों का खतरा सता रहा है।

विफल रही वार्ता
सफाई कर्मियों की हड़ताल समाप्त करवाने के लिए मंगलवार को उपजिलाधिकारी प्रमोद कुमार ने तहसील सभागार में सफाई कर्मियों की बैठक ली। लेकिन, बैठक में भी सफाई कर्मचारी ठेका प्रथा को समाप्त करने पर अड़े रहे। उम्मीद है कि बुधवार को नगर निगम में होने वाली बोर्ड बैठक में सफाई कर्मियों की समस्या का कुछ हल निकल सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!