पिथौरागढ़ में गुरिल्लों ने जताया आक्रोश

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

पिथौरागढ़। युद्घ प्रशिक्षित गुरिल्ला संगठन सरकार की अनदेखी से आक्रोशित हैं। उन्होंने कहा कि बीते 16 वर्षो से अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। न्यायालय ने भी तीन बार उनके पक्ष में फैसला सुनाया है। बावजूद इसके सरकार उनकी सुध नहीं ले रही है। शुक्रवार को सीमांत जनपद के अलावा चम्पावत, लोहाघाट सहित अन्य क्षेत्रों गुरिल्ला नगर के देवसिंह मैदान में एकत्र हुए। प्रदेश प्रभारी हर्ष भंडारी और जिलाध्यक्ष सुरेंद्र राम की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान वक्ताओं ने कहा वर्ष 2006 से विभिन्न मांगों को लेकर वे प्रयासरत हैं। लेकिन इस दौरान सत्ता में रही सरकारें उनकी लगातार अनदेखी करती आई हैं। वर्ष 2011, 2018 और अब कुछ समय पहले ही न्यायालय ने भी उनकी जायज मांगों को देखते हुए फैसला सुनाया है। लेकिन अब तक उनके पक्ष में सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है। यह सरासर गलत है। बाद में उन्होंने गृह मंत्री को भी ज्ञापन भेजा। यहां शमशेर गोबाड़ी, चदंमोहन खड़ायत, संजय धामी, नरेश राम, अशोक खनका, मोहनी उपाध्यक्ष, मदन सिंह नगरकोटी, सुमन, रूकमणी बिष्ट, महेंद्र, चंद्रसिंह गंडी, गंगा सिंह, इंद्रा, पवन सिंह, प्रेम सिंह राणा, सुरेंद्र, गोविंद, पुष्कर, उमेश सहित बड़ी संख्या में गुरिल्ला मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!