कोटद्वार के खूनीबड़ में दुग्ध प्रोसेसिंग प्लांट व महाविद्यालय में बहुउद्देशीय हॉल का शिलान्यास दो करोड़ की लागत से बनेगा दुग्ध प्रोसेसिंग प्लांट, एक साल में शुरू होगा उत्पादन

Spread the love
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। प्रदेश के उच्च शिक्षा एवं डेयरी विकास मंत्री (राज्यमंत्री) डॉ. धर्न ंसह रावत ने गुरूवार को गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड कोटद्वार अन्तर्गत स्थान खूनीबड़ (मण्डी के पीछे) में दुग्ध प्रोसेसिंग प्लांट के स्थापना हेतु भूमि पूजन/शिलान्यास, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोटद्वार के बहुउद्देशीय हॉल का शिलान्यास किया।
पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत, स्थानीय विधायक एवं प्रदेश के काबीना मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत, लैंसडौन विधायक दिलीप रावत, भाजपा पौड़ी जिलाध्यक्ष संपत सिंह रावत ने विधि विधान पूजा अर्चना के साथ नाबार्ड द्वारा वित्त पोषित ग्रामीण अवस्थापना विकास निधि योजना के अंतर्गत गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ श्रीनगर के अंतर्गत खूनीबड़ कोटद्वार में 3000 लीटर प्रतिदिन क्षमता के प्रोसेसिंग प्लांट के स्थापना कार्य व राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोटद्वार के बहुउद्देशीय हॉल का शिलान्यास किया। सहकारिता एवं दुग्ध विकास मंत्री धन सिंह रावत ने बताया कि 2 करोड़ लागत से तैयार होने वाले डेयरी प्लांट में हर दिन 3 हजार लीटर दूध का प्रोसेसिंग किए जाने की क्षमता होगी। एक साल के अंदर डेयरी प्लांट को खूनीबढ़ में शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब तक दूध की प्रोसेसिंग और पैकेजिंग के लिए दूध को श्रीनगर भेजना पड़ता था, जिसमें लाखों रुपए खर्च होते थे, लेकिन अब कोटद्वार में ही प्लांट खुल जाने से लोगों को रोजगार के साथ ही गुणवत्ता युक्त दुग्ध उत्पाद मिल सकेगा। उन्होंने बताया कि दुग्ध विकास विभाग द्वारा 3 विकेन्द्रीकृत प्रसंस्करण इकाई (ग्रोथ प्रोसेसिंग यूनिट) की लाखामंडल, सुमाड़ी रुद्रप्रयाग, जखोला जोशीमठ में स्थापित की गई एवं 4 प्रस्तावित है। पहाड़ों में दुग्ध उत्पादकों को 4 रूपए प्रति लीटर के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। साथ ही उत्तराखंड दुध से छुरपी का उत्पादन करने वाला पहला राज्य होगा, जिसके लिए बैंगलोर की हिमालयन बास्केट कंपनी से एमओयू किये गये। इस मौके पर लैंसडौन विधायक दिलीप सिह रावत, भाजपा जिलाध्यक्ष संपत सिह रावत, जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह ‘कुटी‘, दुग्ध सहकारी संघ के महाप्रबन्धक चौधरी हरि सिंह, चन्द्रमोहन जसोला आदि मौजूद थे।
उच्च शिक्षा मंत्री ने की महाविद्यालय के विकास को 36.5 लाख की घोषणा
जयन्त प्रतिनिधि। 
कोटद्वार। डॉ. पिताम्बर दत्त बड़थ्वाल हिमालयन राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोटद्वार में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने महाविद्यालय के निर्माणाधीन बीएड बहुउद्देशीय हाल का शिलान्यास किया।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथियों ने माँ सरस्वती के चित्र के समीप द्वीप प्रज्ज्वलित कर किया। महाविद्यालय  की  प्राचार्य प्रो० जानकी  पंवार ने समस्त अतिथियों का शाल एवं स्मृति चिन्ह देकर स्वागत एवं अभिनंदन किया। महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो० जानकी पवार ने महाविद्यालय की समस्त  शैक्षणिक और शिक्षणेत्तर गतिविधियों से अवगत कराया। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. रावत ने कहा कि 34 साल बाद नवीन शिक्षा नीति बनाई गई है। 9 नवंबर को सभी महाविद्यालयों के लिए वाईफाई, इंटरनेट और सोलर पैनल जैसी सुविधाओं का लोकार्पण किया जाएगा। शीघ्र ही प्रदेश के सभी महाविद्यालयों में 100 प्रतिशत फैकल्टी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने किताबों के लिए 15 लाख रुपए, कंप्यूटर के लिए 13 लाख रुपए, प्रिंटर के लिए 3 लाख रुपए, खेल के सामान के लिए 3 लाख रुपए, फर्नीचर के लिए ढाई लाख रुपए उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर राज्य मंत्री पंडित राजेन्द्र अण्थ्वाल, नरेंद्र रावत जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष, संपत सिंह रावत भाजपा जिलाअध्यक्ष पौड़ी, पूर्व जिलाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह बिष्ट, जंग बहादुर रावत महामंत्री, भाबर मंडल अध्यक्ष चंद्रमोहन जसोला, विनोद रावत, सीपी नैथानी, पूर्व जिला महामंत्री वीरेंद्र रावत, मंडल महामंत्री गौरव जोशी, राजकीय महाविद्यालय भाबर के प्राचार्य प्रो० विजय अग्रवाल, डॉ. अनुराग शर्मा, महाविद्यालय कोटद्वार से डॉ. एमडी कुशवाहा, डॉ. निरंजना शर्मा, डॉ. सीमा चौधरी, डॉ. महंत मौर्य, डॉ. अनुराग अग्रवाल, डॉ. स्मिता बडोला, डॉ० स्वाति नेगी, डॉ. अभिषेक गोयल, मीडिया प्रभारी डॉ. तनु मित्तल, छात्र संघ अध्यक्ष हिमांशु बहुखंडी, उपाध्यक्ष अतुल डोबरियाल, मेघा कुलाश्री आदि उपस्थित रहे।
 महाविद्यालय में बहुउद्देशीय हाल का शिलान्यास करते हुए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत। 
एक माह में मिलेगी महाविद्यालय को 0.93 हेक्टेयर भूमि
स्थानीय विधायक एवं प्रदेश के वन मंत्री डॉ. हरर्क ंसह रावत ने महाविद्यालय को एक माह के भीतर 0.93 हेक्टेयर वन भूमि को नि:शुल्क हस्तांतरण करने के लिए कहा। उन्होंने कोटद्वार महाविद्यालय को विश्वविद्यालय बनाने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही महाविद्यालय के लिए खेल का मैदान, कैंटीन, रंगाई-पुताई का कार्य, छतों की मरम्मत कराने के साथ ही फर्नीचर उपलब्ध कराएंगे।
पुस्तक का किया विमोचन 
मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने महाविद्यालय में विगत 29 जुलाई को संपन्न हुए अंतर्राष्ट्रीय वेबीनार कार्यक्रम की पुस्तक का विमोचन किया। साथ ही महाविद्यालय में एनसीसी के छात्र-छात्राओं को एक भारत श्रेष्ठ भारत सप्ताह के तहत आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेताओं व एनसीसी प्रभारी डॉ. तनु मित्तल को मेडल, स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र भेंटकर सम्मानित किया। अंतर्गत प्राप्त हुए मेडल और प्रशस्ति पत्रो का भी वितरण किया।
पूर्व मंत्री ने दुग्ध प्रोसेसिंग प्लांट के शिलान्यास पर उठाये सवाल
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। पूर्व मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी ने गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड कोटद्वार अन्तर्गत स्थान खूनीबड़ (मण्डी के पीछे) में दुग्ध प्रोसेसिंग प्लांट के स्थापना हेतु भूमि पूजन/शिलान्यास पर सवाल उठाये है। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाते हुए कहा कि वर्तमान सरकार के मंत्री पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में स्वीकृत योजनाओं का ही शिलान्यास कर जनता के पैसे की बर्बादी कर रहे है। जबकि इन योजनाओं का शिलान्यास पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में हो चुका है। वर्तमान सरकार दोबारा शिलान्यास करके जनता को गुमराह कर रही है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय विधायक बताते कि उनके कार्यकाल में किन विकास कार्यों की स्वीकृति मिली है।
प्रेस को जारी विज्ञप्ति में पूर्व मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी कहा कि मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में वर्ष 2016-17 में खूनीबड़ में लगभग आठ बीघा भूमि स्वीकृत करवा दी गयी थी, जिसके लिए बकायदा दो करोड़ की धनराशि स्वीकृत करवाकर तत्कालीन दुग्ध मंत्री हरीश दुर्गापाल के द्वारा भूमि पूजन कर निर्माण कार्य भी शुरू करवा दिया था, लेकिन प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद उक्त निर्माण कार्य को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया, जिससे दो करोड़ की धनराशि को उपयोग नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में क्षेत्रीय विधायक द्वारा कोटद्वार विधानसभा में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में स्वीकृत कार्यों का ही दोबारा शिलान्यास कर जनता की वाहवाही लूटी जा रही है। पूर्व मंत्री ने क्षेत्रीय विधायक पर विकास कार्यों में रोड़े अटकाने का आरोप लगाते हुए कहा कि क्षेत्रीय विधायक की लापरवाही एवं उपेक्षा के चलते वर्तमान में कण्वाश्रम, लालढांग-चिल्लरखाल मोटर मार्ग, केन्द्रीय विद्यालय, कालागढ मोटर मार्ग, टाइगर सफारी, मोटर नगर बस अड्डा, टे्रंचिंग ग्राउंड के लिए भूमि सहित महत्वपूर्ण विकास योजनाऐं ठप पड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि एडीबी की ओर से नगर निगम क्षेत्र में पेयजल एवं सीवर के लिए लगभग डेढ़ करोड़ की योजना बनाई गयी थी, लेकिन क्षे़त्रीय विधायक ने इसमें में अड़चन पैदा कर दी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में सड़कों, नहरों, गूलों की हालत दयनीय बनी हुई है, लेकिन क्षेत्रीय विधायक को जनता की कोई परवाह नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!