कोटद्वार में खननकारियों और राजीव गौड़ के बीच खूनी संघर्ष

Spread the love

दोनों पक्षों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज, पुलिस ने शुरू की जांच
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। कोटद्वार क्षेत्र में रीवर ट्रेनिंग के नाम पर सुखरो नदी में चल रहे खनन को लेकर शनिवार देर सांय जमकर बवाल हुआ। स्वयं को पत्रकार बताने वाले एक व्यक्ति ने खनन कारियों पर धारदार हथियार से चोट पहुंचाने के साथ ही जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए पुलिस में तहरीर दी। इधर, खनन पट्टाधारक ने भी स्वयं को पत्रकार बताने वाले इस व्यक्ति व उसके साथी के खिलाफ रंगदारी न मिलने पर उनके विरूद्ध खबर चलाने की धमकी देने का आरोप लगाया है। आरोप यह भी है कि उक्त व्यक्ति ने खनन में लगे कर्मियों को जान से मारने की नीयत से फायरिंग भी की। पुलिस ने दोनों तहरीरों के आधार पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
कोटद्वार क्षेत्र की नदियों में रीवर ट्रेनिंग के नाम पर हो रहे खनन को लेकर पिछले कई दिनों से लगातार सवाल उठ रहे हैं। प्रशासन भी ओवर लोडिंग के मामले में उपखनिज से लदे कई डंपर सीज कर चुका है, लेकिन क्षेत्र में रीवर ट्रेनिंग के नाम पर हो रही उपखनिज की हेराफेरी थमती नजर नहीं आ रही। बीती शनिवार सांय खनन क्षेत्र में उस वक्त बवाल हो गया, जब स्वयं को पत्रकार बताने वाले एक व्यक्ति ने खनन कार्य की लाइव रिपोर्टिंग शुरू कर दी। नगर निगम कोटद्वार क्षेत्र के अंतर्गत बलभद्रपुर निवासी राजीव गौड़ की ओर से पुलिस को दी गई तहरीर में कहा गया है कि शनिवार सांय करीब सात बजे वह नियम विरुद्ध हो रहे खनन की करवेज करने के लिए सुखरो नदी में गया। इस दौरान नदी में खननकारी महेंद्र बिष्ट, अजय नेगी, ग्राम प्रधान सहित 20-25 अन्य लोगों ने उसके साथ ही उसके मित्र मुजीब नैथानी पर धारदार हथियार से हमला करने के साथ ही दोनों को जान से मारने की धमकी दी। पुलिस ने राजीव गौड़ का मेडिकल कराने के साथ ही नामजद व अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर दिया।
इधर, पट्टाधारक पदमपुर निवासी विकास रावत व ग्राम बंठोली (श्रीकोटखाल) की ओर से पुलिस को दी गई तहरीर में कहा गया है कि राजीव गौड़ व मुजीब नैथानी उनके द्वारा सुखरो नदी में लिए गए पट्टों के बाबत करीब एक सप्ताह से प्रति पट्टा पांच लाख रूपए की रंगदारी मांग रहे थे। खुद को पत्रकार बताते हुए उन्होंने पैसे न मिलने पर उनके विरुद्ध खबर प्रचारित-प्रसारित करने की बात कह रहे थे। आरोप है कि शनिवार सांय सात बजे दोनों खनन पट्टों पर पहुंचे और वीडियोग्राफी करते हुए नापजोख करने लगे। जब उनसे इस बाबत पूछा गया तो उक्त लोगों ने उनके साथियों व कर्मचारियों से जाति सूचक शब्दों का प्रयोग कर गाली-गलौच करना शुरू कर दिया। साथ ही राइफल व पिस्टल से जान से मारने की नीयत से फायरिंग कर धारदार हथियार से हमले का भी प्रयास किया। कोतवाल मनोज रतूड़ी ने बताया कि दोनों पक्षों की ओर से दी गई तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरु कर दी गई है।

राइफल लेकर गया था कवरेज करने
स्वयं को पत्रकार बताने वाला व्यक्ति खनन कार्य की लाइव रिपोर्टिंग करने के लिए कार में राइफल लेकर पहुंचा था। खनन क्षेत्र में बवाल होने के बाद जब उक्त व्यक्ति कोतवाली में पहुंचा तो पुलिस को उसकी कार से राइफल मिली। पुलिस ने कार व राइफल को जब्त कर दिया। अपर पुलिस अधीक्षक प्रदीप कुमार राय ने बताया कि राइफल लाइसेंसी है अथवा नहीं, इसकी जांच की जा रही है। यदि राइफल का लाइसेंस किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर हुआ तो लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया शुरू की जायेगी। सीओ अनिल जोशी ने बताया कि घटनास्थल का निरीक्षण किया गया है मौके से खोखे बरामद नहीं हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!