कुंभ से रोक हटाने के आदेशों पर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र ने उठाए सवाल

Spread the love

– कुंभ में जैसी स्थिति बन रही है वह चिंताजनक
-कुंभ में जो भी श्रद्धालु आते हैं वे किसी निमंत्रण पर नहीं बल्कि आस्था-विश्वास पर आते हैं
देहरादून। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सीएम तीरथ सिंह रावत के कुंभ के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा है कि जब देशभर में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है, तब ऐसे समय में कुंभ में श्रद्धालुओं का आमंत्रित करना ठीक नहीं होगा। उनका कहना है कि वायरस की रोकथाम के लिए देशभर में कोरोना टीकाकरण अभियान चल रहा है और ऐसे मौके पर कुंभ में श्रद्धालुओं की भीड़ से प्रदेश में वायरस दोबारा पैर पसार सकता है। त्रिवेंद्र ने कहा कि कुंभ को लेकर हमें कोई जोखिम लेने से बचना चाहिए क्योंकि देश के कुछ राज्यों में कोरोना एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगा है। यह बातें पूर्व सीएम त्रिवेंद्र ने सोमवार को हरिद्वार प्रवास के दौरान कहीं। पूर्व मुख्यमंत्री सोमवार सुबह हरिहर आश्रम में आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी से आशीर्वाद लेने भी पहुंचे थे। इस दौरान आश्रम परिसर में पत्रकारों से बातचीत में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि विगत कुछ दिनो से देश के सात राज्यों में कोरोना के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। हमें अपनी जागरूकता और जिम्मेदारी से राज्य को कोरोना से बचाना चाहिए। त्रिवेंद्र ने कहा कि वे मानते हैं कि कुंभ में जैसी स्थिति बन रही है वह चिंताजनक है। कहा कि मैंने मुख्यमंत्री के वक्तव्य को पढ़ा है। हमने भी कुंभ को भव्य-दिव्य बनाने की बात कही थी। कोविड गाइडलाइन का पालन हो। कुंभ में जो भी यात्री आते हैं वे किसी निमंत्रण पर नहीं बल्कि आस्था-विश्वास पर आते हैं। पहले भी आते रहे हैं और अब भी आएंगे। त्रिवेंद्र ने कहा कि इस महामारी के दौर में जोखिम ठीक नहीं है। देश में बीते दिन 25 हजार कोरोना रोगी मिले थे। पहले तीन राज्य और अब सात राज्यों में कोरोना पर स्थिति चिंताजनक हो रखी है। ऐसे में सभी की जिम्मेदारी है कि बीमारी को रोकें। देश में टीकाकरण हो रहा है लेकिन टीके का असर 42 दिन बाद होगा। कुंभ को लेकर त्रिवेंद्र ने कहा कि जैसी स्थिति बन रही है आज तमाम समाचार पत्रों में मैने देखा है निश्चित रूप से चिंताजनक हो रही है। विशेषज्ञों ने अपने वक्तव्य में चिंता जताई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!