पर्यटन स्वरोजगार योजना के आवेदकों का हुआ परीक्षण

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
पौड़ी। विकास भवन सभागार में वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना एवं दीन दयाल उपाध्याय होम स्टे योजना के तहत आवेदकों का साक्षात्कार कमेटी ने लिया। साक्षात्कार में आवेदको के दस्तावेजों की जांच के दौरान 1 होम स्टे के लिए व 4 वाहन आवेदकोें के दस्तावेज आवेदन अपूर्ण पाये गये।
जिलाधिकारी धीराज सिंह गब्र्याल के दिशा निर्देशन में शनिवार को विकास भवन सभागार पौड़ी में पर्यटन विभाग द्वारा संचालित वीरचंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना एवं दीन दयाल उपाध्याय होम स्टे योजना के तहत जिला पर्यटन विकास अधिकारी कुशाल सिंह नेगी ने गठित कमेटी की मौजूदगी में योेजना से आधारित आवेदकों का साक्षात्कार लिया। जिसमें आवेदकों द्वारा प्रेषित दस्तावेजों की जांच परीक्षण कर, उनके योजना के प्रति लगाव की जानकारी भी टटोली की गई। साक्षात्कार हेतु 19 आवेदकों के ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए। वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना एवं दीन दयाल उपाध्याय होम स्टे योजना के तहत कुल 19 अभ्यार्थी द्वारा आवेदन किए। जिसमें 6 होम स्टे के लिए, 10 वाहन के लिए व 3 होटल/रेस्टोरेन्ट के लिए आवेदन आनलाइन के माध्यम से प्राप्त हुए। आयोजित साक्षात्कार में आवेदको के दस्तावेजों की जांच के दौरान 1 होम स्टे के लिए व 4 वाहन आवेदकोें के दस्तावेज आवेदन अपूर्ण पाये गये। जिला पर्यटन विकास अधिकारी कुशाल सिंह नेगी ने आवेदकों को सुझाव देते हुए कहा कि वीरचंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना एवं दीन दयाल उपाध्याय होम स्टे योजना के तहत योजना की सुगमता पूर्वक लाभ लेने हेतु अपनी क्षमता के अनुसार बैंकों से ऋण ले। जिससे बैंक के साथ बेहतर समन्यवय एवं व्यवसायिक को गति मिल सकें। उन्होंने राज्य सरकार की इस महत्वकांक्षी योेजना का अधिक से अधिक लाभ उठाते हुए अपने ही क्षेत्रों में स्वरोजगार को बढ़ावा देने को कहा। जिससे लाभार्थी अपनी आर्थिकीय को मजबूत कर सकेंगें। उन्होंने कहा कि अब समस्त आवेदक आनलाइन ही आवेदन कर सकेंगे। इस अवसर में लीड बैंक अधिकारी भूपेश नौटियाल, नवार्ड बैंक के अधिकारी भूपेंद्र सिंह, आरसेटी बैंक के जेके जोशी, एआरटीओ वीरेंद्र विराटिया, उद्योग विभाग से माधव सिंह रावत उपस्थित थे। (फोटो संलग्न है)
कैप्शन01:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!