परमबीर सिंह के लेटर के बाद महाराष्ट्र में सियासी घमासान, बीजेपी ने मांगा देशमुख का इस्तीफा

Spread the love

मुंबई। मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के शनिवार को मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे को लेटर भेज गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगाए सनसनीखेज आरोपों के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ गया है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने महाराष्ट्र की उद्घव सरकार पर हमला बोलते हुए गृह मंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा मांगा है। राज्य में बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस, किरीट सोमैया, राम कदम समेत कई नेताओं ने एक सुर में अनिल देशमुख से तुरंत ही पद छोड़ने को कहा है। हालांकि, परमबीर सिंह के सभी आरोपों को खारिज करते हुए अनिल देशमुख का कहना है कि सचिन वाझे और एंटीलिया मामले में परमबीर सिंह खुद के फंसने का भी डर सता रहा है।
बीजेपी ने देशमुख से की इस्तीफे की मांग
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गृह मंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की है। उन्होंने चिट्ठी सामने आने के बाद प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि हम गृह मंत्री का इस्तीफा मांगते हैं। उन्होंने कहा, श्श्अगर वह नहीं देते हैं तो मुख्यमंत्री को उन्हें पद से हटा देना चाहिए। इस मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। लेटर में यह भी लिखा है कि मुख्यमंत्री को जानकारी दी गई थी, तो आखिर में उन्होंने कोई कार्रवाई क्यों नहीं की?श्श् वहीं, बीजेपी नेता राम कदम ने अंदेशा जताया है कि अन्य विभागों के मंत्रियों ने भी वसूली का आदेश दिया होगा। कदम ने कहा कि 16 महीने से महाराष्ट्र में ठाकरे की सरकार है, इस तरह 1600 करोड़ रुपये हो गए। कई जिले और कई शहर हैं, वहां से भी कई करोड़ रुपये के लिए कहा गया होगा। पुलिस डिपार्टमेंट एक डिपार्टमेंट है। उसी प्रकार 22 विभाग हैं तो क्या हर मंत्री ने अपने विभागों को वसूली करने के आदेश दिए हैं। सरकार जनता की रक्षा के लिए होती है, लेकिन तीन दलों की सरकार ने जनता का शोषण करने को कहा। इतना घिनौना काम कभी भी नहीं हुआ। अगर थोड़ी भी शर्म बची है तो जिम्मेदार मंत्री तुरंत इस्तीफा दे दें।
गृह मंत्री अनिल देशमुख ने खारिज किए सभी आरोप
मामला सामने आते ही अनिल देशमुख ने ट्वीट कर खुद पर लगाए गए सभी आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि सचिन वाझे का एंटीलिया और मनसुख हिरेन मामले में डायरेक्ट लिंक सामने आया है। परमबीर सिंह को डर है कि यह कनेक्शन उनके तक भी पहुंच सकता है। उन्होंने गलत आरोप लगाकर खुद को कानूनी कार्रवाई से बचाने की कोशिश की है। मालूम हो कि देश के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास से पिछले महीने विस्फोटक से लदी हुई स्कर्पियो गाड़ी बरामद हुई थी। कुछ दिनों के बाद में स्कर्पियो गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन की लाश मिली थी, जिसके बाद दोनों मामलों की जांच एनआईए कर रही है। एनआईए ने सचिन वाझे को गिरफ्तार किया है। वहीं, मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से परमबीर सिंह को भी हटा दिया गया।
पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने लेटर में जिस-जिस बात का जिक्र किया है, उससे हड़कंप मच गया है। परमबीर सिंह का आरोप है कि गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को हर महीने 100 करोड़ रुपये की मुंबई से वसूली करने का टारगेट दिया था। ये वसूली उन्हें शहर के विभिन्न रेस्टोरेंट्स, बार से करनी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि गृह मंत्री देशमुख ने वाझे को बताया कि मुंबई में तकरीबन 1750 बार, रेस्टोरेंट्स आदि हैं। यदि हर से 2-3 लाख रुपये हर महीने लिए जाएं तो यह 40-50 करोड़ रुपये हो सकता है। बाकी की रकम अन्य जगहों से जुटाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!