शिकायत न सुनने वाले पुलिस अधिकारियों की अब खैर नहीं

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

– जनसंवाद संगोष्ठी में बोली पुलिस प्रमुख पी. रेणुका देवी
– जनप्रतिनिधियों और समाज सेवियों ने संगोष्ठी में उठाई थी समस्या
जयन्त प्रतिनिधि
कोटद्वार।
लगातार पुलिस की भूमिका पर सवाल उठते आए हैं। जनता अपनी समस्याओं को पुलिस को बताने में संकोच करती हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। शनिवार को कोटद्वार प्रेक्षागृह में आयोजित जनसंवाद संगोष्ठी में पहुंची पौड़ी पुलिस प्रमुख पी. रेणुका देवी ने कहा कि जनता की शिकायत न सुनने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
नगर निगम के प्रेक्षागृह में पुलिस की ओर से आयोजित जन संवाद संगोष्ठी में जनप्रतिनिधियों, समाज सेवियों ने अवैध शराब, स्मैक, गांजा, खनन की समस्या को प्रमुखता से उठाते हुए समस्याओं के निस्तारण की मांग की। जिसके बाद संगोष्ठी को संबोधित करते हुए एसएसपी पी. रेणुका देवी ने कहा कि समाज में पुलिस का भय है, लोग पुलिस स्टेशन आने में संकोच करते है, पुलिस को विश्वास में लेने में लोगों को दिक्कतें होती है, पुलिस लोगों का विश्वास जीतने का प्रयास कर रही है। लोगों की समस्याओं का निस्तारण करना पुलिस की प्राथमिकता है। जनता को पुलिस से डरने की आवश्यकता नहीं है, नि:संकोच शिकायत लेकर कोतवाली आये। उन्होंने कहा कि पहाड़ में चरस, गांजा, स्मैक का नशा फैल रहा है, पुलिस नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए लगातार कार्यवाही कर रही है। इस कारोबार पर जनता के सहयोग से ही रोक लगाई जा सकती है। कहा कि अभिभावकों को अपने बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखनी होगी। एसएसपी ने कहा कि कोतवाली में आने वाले हर फरियादी की शिकायत सुनी जाएगी। किसी को परेशान करना पुलिस का उद्देश्य नहीं है। शिकायत न सुनने वाले लापरवाह अधिकारी के खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। कहा कि नियम सभी के लिए एक समान है। सड़क दुर्घटनाओं पर रोक लगाने के लिए पुलिस प्रयास कर रही है। बिना हेलमेट, ट्रीपल राइडिंग, शराब पीकर वाहन चलाने, गलत तरीके से वाहन चलाने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के लिए हेलमेट जरूरी है। क्योंकि दुर्घटना में सिर पर गंभीर चोट लगने की वजह से कई लोगों की मौत होती है। पहले कोटद्वार में मात्र 20 प्रतिशत लोग ही हेलमेट पहनते थे, लेकिन पुलिस के बेहतर प्रयास और जनता के सहयोग से अब 60 प्रतिशत लोग हेलमेट पहन रहे है। उन्होंने कहा कि पुलिस मुख्य जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रयास कर रही है, जनता को भी अपने घर और व्यापारिक प्रतिष्ठानों में सीसीटीवी कैमरे लगाने चाहिए। सीसीटीवी की मदद से आपराधिक घटनाओं पर रोक लगाई जा सकती है। एसएसपी ने कहा कि खनन नियमावली में पुलिस को कोई अधिकार नहीं है, पुलिस इसमें केवल ओवरलोडिंग में ही चालान कर सकती है। खनन नियमावली में सारे अधिकार प्रशासनिक अधिकारी और खनन अधिकारी को दिये गये है। पुलिस राजस्व, वन विभाग के सहयोग से खनन के खिलाफ अभियान चलाती है।
एसएसपी पी. रेणुका देवी ने कोटद्वार पुलिस की सराहना करते हुए कहा कि कोटद्वार पुलिस बहुत अच्छा कार्य कर रही है। लूट और चोरी जैसी आपराधिक घटनाओं के खुलासे में पुलिस ने सराहनीय कार्य किया है। कहा कि हर थाने में महिला सेल स्थापित की गई है। एक महिला उपनिरीक्षक और चार महिला कांस्टेबलों की तैनाती की गई है। कोटद्वार में महिलाओं से जुड़े मामले अधिक होने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कार्यक्रम का संचालन जर्नाद्धन प्रसाद बुड़ाकोटी ने किया। इस मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक मनीषा जोशी, पार्षद गायत्री भट्ट, विपिन डोबरियाल, अमित नेगी, सुखपाल शाह, प्रवेंद्र रावत, अमित नेगी, नईम अहमद, सौरव नौडियाल, पंकज भाटिया, पूर्व प्रधान सुनीता देवी, गुड्डू चौहान, दीपक गौड़, सुधीर बहुगुणा, राजाराम अंथवाल, व्यापार संघ के अध्यक्ष महेन्द्र बिष्ट, गोपाल कृष्ण बड़थ्वाल, सीपी डोबरियाल सहित कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नरेन्द्र सिंह बिष्ट, वरिष्ठ उपनिरीक्षक प्रदीप नेगी, कलालघाटी चौकी प्रभारी कमलेश शर्मा, बाजार चौकी प्रभारी सुनील पंवार, उपनिरीक्षक संदीप शर्मा, महिला उपनिरीक्षक पूनम शाह, भावना भट्ट आदि मौजूद थे।

पार्षद ने की वर्षों से जमे पुलिस कर्मयों के ट्रास्फर की मांग
कोटद्वार।
शनिवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी पी. रेणुका देवी की अध्यक्षता में नगर निगम के प्रेक्षागृह में जनसंवाद संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम के दौरान माहौल उस समय गरमा गया जब पार्षद विपिन डोबरियाल ने कहा कि कोटद्वार में पुलिस के कई कर्मचारी ऐसे है जिन्हें कई वर्ष यहां हो गये है। यह लोग ही अपराध को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोटद्वार में वर्षों से जमे पुलिस र्किमयों का स्थानान्तरण किया जाना चाहिए। पार्षद विपिन डोबरियाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि स्मैक और शराब का अवैध करोबार पुलिस करा रही है। उन्होंने कहा कि कोतवाली में वर्ष 2020 में एक शिकायत दर्ज कराई गई थी, लेकिन अभी तक उसका निस्तारण नहीं हो पाया है।

नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने में पुलिस नाकाम
कोटद्वार।
समाज सेवी गोपाल कृष्ण बड़थ्वाल ने कहा कि पुलिस प्रशासन कोटद्वार भाबर में नशे के कारोबार पर रोक नहीं पाया है। क्षेत्र में नशे का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। युवा पीढ़ी नशे का शिकार हो रही है। नशे के कारोबारियों पर सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सांय होते ही लालपुर रोड पर असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लग जाता है। सांय के समय इस क्षेत्र में पुलिस की गश्त होनी चाहिए। सीपी डोबरियाल ने कहा कि चेकिंग के दौरान हेलमेट के अलावा वाहन के आवश्यक दस्तावेजों की भी जांच होनी चाहिए। वरिष्ठ अधिवक्ता अरविन्द वर्मा ने कहा कि शहर के अंदर चालान न किये जाय। पुलिस कर्मी जनता के साथ सभ्य व्यवहार करें। उन्होंने कहा कि गलत गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जानी चाहिए और सभी को समान न्याय दिया जाना चाहिए।

खुल्लेआम चल रहा नशे का कारोबार
कोटद्वार।
पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य राजाराम अंथवाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि स्कूल, कॉलेजों और अन्य शिक्षण संस्थानों के पास खुल्लेआम नशे का अवैध कारोबार चल रहा है, शिकायत करने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही है। वहीं होटलों व ढाबों में धड़ल्ले से शराब बिक रही है। पार्षद सुखपाल शाह ने कहा कि झण्डीचौड़ पश्चिमी में जीप स्टैण्ड के पास पुलिस कर्मियों की डयूटी लगाई जाय। सांय के समय यहां पर असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लग जाता है। जिस कारण लोगों का वहां से गुजरना मुश्किल हो जाता है।

नशे को खत्म करने के लिए सभी को आगे आना होगा
कोटद्वार।
पार्षद अमित नेगी ने कहा कि पुलिस चौकी जाने में फरियादी घबराता है, इस दूरी को समाप्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में बच्चों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। नशा को समाप्त करने के लिए सभी लोगों को आगे आना होगा। सभी लोगों के सहयोग से ही समाज से नशा को समाप्त किया जा सकता है। पार्षद सौरव नौटियाल ने कहा कि दुर्गापुरी बाजार के बजाय निम्बूचौड़ और मोटाढांक पुल पर वाहनों की चेकिंग होनी चाहिए। बाजार में चेकिंग होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि पहले तो स्मैक का कारोबार शहर में चल रहा था, लेकिन अब स्मैक भाबर में भी पैर पसार रही है। नौनिहाल इसका शिकार हो रहे है। स्मैक के कारोबार पर रोक गलाने के लिए स्पेशन टास्क फोर्स का गठन किया जाना चाहिए।

सनेह क्षेत्र में नहीं होती पुलिस गश्त
कोटद्वार।
समाज सेवी अंजू पुंडीर ने आरोप लगाते हुए कहा कि सनेह पुलिस चौकी में कोई सुनवाई नहीं होती है। क्षेत्र में पुलिस गश्त भी नहीं करती है। जिस कारण क्षेत्र में स्मैक, शराब का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। सांय के समय सनेह क्षेत्र में शराब पीकर लोग उत्पात मचाते है। जिस कारण महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ती है। उन्होंने कहा कि जब महिलाएं शराब और स्मैक के खिलाफ आवाज उठाती है तो उनकी आवाज को दबाने का प्रयास किया जाता है। पूर्व प्रधान विजयपाल मेहरा ने कहा कि चिल्लरखाल चौराहा पर सीसीटीवी कैमरा लगाया और ग्रोथ सेंटर सिगड्डी में सांय पांच बजे कंपनियों की छुट्टी के समय पुलिस की गश्त लगाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि लोकमणिपुर सिगड्डी में चौकी प्रस्तावित थी, लेकिन अभी तक पुलिस चौकी नहीं खुल पाई है। पार्षद गायत्री भट्ट ने कहा कि सिताबपुर में दो शराब की दुकानें खुलने से नशेड़ियों का अड्डा बन गया है। यहां दो कांस्टेबलों की तैनाती की जानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!