आसमान में छाये बादलों का गड़गड़ाहट के बरसना शुरू, तीन दिन तक जारी रहने की चेतावनी

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के अनुसार बीती शनिवार रात को 12 बजे के बाद आसमान में छाये बादल गडगडाहट के साथ बारिश बनकर बरसना शुरू हो गये जिसका सिलसिला रविवार दोपहर तक जारी रहा। इसके कारण ठंड बढ़ गई। मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक सोमवार और मंगलवार को भी बारिश का अनुमान है। मौसम में आएं अचानक बदलाव से तापमान में गिरावट आ गई। झमाझम बारिश ने ठंड का अहसास कराया। रविवार को लोग घरों से बाहर ही नहीं निकले। वहीं सड़के भी सूनसान नजर आई। सर्द हवाओं से ठंड बढ़ गई। ठिठुरते मौसम में लोग गर्म कपड़े पहन अथवा आग सेंक कर अपने आप को सर्दी से बचाने के प्रयास करने की कोशिश करते देखे गए। झमाझम बारिश होने से काश्तकारों के चेहरे खिल गए।
बीती शनिवार रात को करीब 12 बजे से शुरू हुई बारिश रविवार दोपहर तक जारी रही। बारिश के साथ चलने वाली शीत लहरों ने ठंड बढ़ा दी। अधिकतम और न्यूनतम पारा गिर गया। शनिवार रात को अचानक मौसम बदलने लगा और हवा चलने लगी। रात लगभग 12 बजे कोटद्वार में बारिश शुरू हो गई। जो रविवार दोपहर तक होती रही। पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बर्फबारी और मैदानी क्षेत्र में हवा चलने के बाद दिन में ठंड बढ़ गई। अब तक कम गर्म कपड़ों में बाहर निकल रहे लोगों ने जैकेट, टोपी, ग्लब्स आदि निकाल लिए। बदले मौसम का असर आम जनजीवन पर भी पड़ा। बाजार में दिन में चहल-पहल कम देखी गई। जनवरी के पहले सप्ताह में कोटद्वार और आसपास इलाकों में हवा के साथ रूक-रूक कर बारिश होती रही। इससे न्यूनतम तापमान में भी गिरावट के साथ-साथ ठंड भी बढ़ गई है। साथ ही आसमान में बिजली के चमकने के बाद लोग घबरा गए। ठंड बढ़ने से घरों में जहां कंबल और रजाई निकल आई है वहीं सड़क पर लोग गर्म कपड़ों में नजर आने लगे हैं। बाजारों में भी गर्म कपड़ों की बिक्री बढ़ गई है। ठंड से बचने के लिए ऊनी कपड़े के बिना बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है। ठंड की वजह से लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दिन भर रुक-रुक हो रही बारिश की वजह से ठंड काफी बढ़ गई है।

बारिश फसलों के लिए लाभदायक
कोटद्वार। क्षेत्र में रुक-रुककर हुई बारिश वरदान बनी है। ऐसे में खड़ी गेहूं की फसल को फायदा हुआ है। इससे पानी लगाने के रूप में किसानों को लाभ मिला है। कृषि जानकारों का कहना है कि बारिश से पैदावार में भी इजाफा होगा। हल्की बारिश किसानों के लिए वरदान साबित हुई है। तेज बारिश फसलों को नुकसान पहुंचा सकती थी। सोमवार रात बूंदाबांदी हुई हलकी बारिश गेहूं और सरसों की फसलों के लिए लाभदायक है, जबकि इस बारिश से अब तक गेहूं व सरसों की फसल को फायदा पहुंचा है। किसान विजय ध्यानी, संदीप नेगी, मोहन सिंह रावत ने कहा कि यह बारिश तो फसलों के लिए संजीवनी का काम करेगी। बारिश ने किसानों को राहत दिलाई है। उन्होंने बताया कि मौसम की पहली बारिश से खेतों में पानी की कमी दूर हो गयी है। धनिया, लहसुन, राई, मेथी, मूली, मटर, गेहूं, जौ के लिए ये बारिश काफी लाभदायक होगी।

बारिश में स्वास्थ्य के लिए बरतें सावधानी
कोटद्वार। इन दिनों मौसम में तेजी से बदलाव आ रहा है। दिन में पारा सामान्य है तो रात और सुबह के समय सामान्य से कम दर्ज किया जा रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की जरूरत है। जरा सी लापरवाही स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती है और आप बीमारी की जद में आ सकते हैं। मौसम में आ रहा यह बदलाव अन्य बीमारियों का भी कारण बन सकता है। इसलिए बदलते मौसम में सेहत का ख्याल न रखना भारी पड़ सकता है। चूंकि मौसम में तेज उतार चढ़ाव के अनुसार शरीर अपने आप को ढाल नहीं पाता और बीमारी का शिकार हो जाता है। सर्दी से गर्मी और गर्मी से सर्दी में बदलता मौसम लोगों के स्वास्थ्य पर असर डालता है। इसलिए जरूरी है कि इस मौसम में स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जाए। इलेक्ट्रो होमोपैथिक डॉ. रवि नेगी के मुताबिक बारिश स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। सूखी खांसी इत्यादि से छुटकारा मिल सकेगा। मगर, साथ ही दिल व छाती के रोगियों को सावधानी बरतनी होगी। क्योंकि बारिश से सर्दी बढ़ेगी। ऐसे में इन रोगियों को ज्यादा परेशानी होती है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है असर
कोटद्वार। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि बदलते मौसम में इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। ऐसे में सर्दी जुकाम और बुखार की परेशानी आम बात है। ऐसे मौसम में खानपान तथा रहन-सहन के मामले में खास ध्यान देने की जरूरत होती है। सर्दी होने पर गर्म पेय पदार्थों का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए। गर्मी होने पर खूब पानी और अन्य पेय पदार्थों का सेवन करना चाहिए। ऐसे मौसम में वायरल बुखार के मामले सबसे अधिक बढ़ते हैं। बड़ों के साथ बच्चे भी वायरल बुखार की चपेट में आ रहे हैं। इस मौसम में बच्चों तथा बुजुर्गों को एहतियात बरतने की जरूरत है। कभी सर्द तो कभी गर्म मौसम होने के कारण सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार जैसी बीमारियां लोगों को परेशान कर रही हैं। सबसे पहले बच्चे इनकी चपेट में आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!