अनिल देशमुख ने दिया इस्तीफा, अब दिलीप वालसे पाटिल होंगे महाराष्ट्र के नए गृहमंत्री

Spread the love

मुंबई, एजेंसी। मुंबई उच्च न्यायालय द्वारा 100 करोड़ रुपये के वसूली प्रकरण में सीबीआइ जांच का आदेश दिए जाने के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) के मुताबिक, सीएम उद्घव ठाकरे ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को भेज दिया गया है। दिलीप वालसे पाटिल के पास अब गृह विभाग का प्रभार होगा। दिलीप वालसे पाटिल के श्रम विभाग का प्रभार हसन मुश्रीफ को अतिरिक्त प्रभार के रूप में दिया जा रहा है और राज्य के आबकारी विभाग की देखरेख डिप्टी सीएम अजीत पवार करेंगे।
इधर, देशमुख के इस्तीफे के बाद भाजपा और आक्रामक हो गई है। भाजपा के वरिष्ठ नेता व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अब मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे की नैतिकता पर सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं। मुंबई उच्च न्यायालय ने सोमवार को महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर पूर्व पुलिस आयुक्त द्वारा लगाए गए 100 करोड़ रुपयों की वसूली के आरोपों पर सीबीआइ से प्राथमिक जांच कराने के आदेश दिए। यह फैसला आने के कुछ ही देर बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार से मिलने गए और उनसे कहा कि सीबीआई जांच जारी रहने तक उन्हें पद पर बने रहना उचित नहीं लगता, इसलिए अब वह मंत्री नहीं बने रहना चाहते।
पवार की सहमति मिलते ही देशमुख ने मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे को अपना इस्तीफा भेज दिया। देशमुख ने इस्तीफे में लिखा कि एडवोकेट ड. जयश्री पाटिल की याचिका पर फैसला सुनाते हुए उच्च न्यायालय ने सीबीआइ से प्राथमिक जांच कराने के आदेश दिए हैं। इसलिए नैतिक दृष्टि से मेरा पद पर बने रहना उचित नहीं लगता। अत: मैं पद से हटने का निर्णय कर रहा हूं। मुझे गृहमंत्री पद से मुक्त किया जाए। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने आरोप लगाया था कि गृहमंत्री देशमुख पुलिस अधिकारियों से प्रतिमाह 100 करोड़ रुपयों की वसूली करवाना चाहते हैं। इस प्रकरण की जांच के लिए परमबीर सहित कुछ और याचिकाएं उच्च न्यायालय में दायर की गई थीं। इन्हीं में से एक पर फैसला सुनाते हुए मुख्य न्यायाधीश दीपंकर दत्ता व न्यामूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ ने सीबीआई को इस मामले की प्राथमिक जांच के निर्देश दिए हैं। यदि प्राथमिक जांच में सीबीआइ को महवपूर्ण तथ्य मिलते हैं, तो सीबीआई बाकायदा केस दर्ज कर विस्तृत जांच शुरू करेगी। देशमुख के इस्तीफे के बाद महाराष्ट्र की उद्घव सरकार पर विपक्षी दल भाजपा का दबाव और बढ़ गया है। अनिल देशमुख पिछले डेढ़ माह के अंदर ही भाजपा के दबाव में इस्तीफा देनेवाले उद्घव सरकार के दूसरे मंत्री हैं। इससे पहले पूजा चव्हाण आत्महत्या प्रकरण में वनमंत्री संजय राठोड़ भी इस्तीफा दे चुके हैं।
देशमुख के इस्तीफे के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शिवसेनानीत महाविकास अघाड़ी सरकार को वसूली अघाड़ी सरकार बताते हुए मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे से पूछा है कि अनिल देशमुख ने तो नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया है, आपकी नैतिकता कहां है। उन्होंने उद्घव को संबोधित करते हुए कहा कि अब आप शासन करने के नैतिक अधिकार से वंचित हो गए हैं।
महाराष्ट्र में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने भी उद्घव सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इंटेलीजेंस कमिश्नर रश्मि शुक्ला की रिपोर्ट सामने आने के बाद ही पता चल गया था कि महाराष्ट्र में एक प्रकार का सिंडीकेट राज चल रहा था। ये सारी चीजें बाहर आने के बाद तुरंत देशमुख का इस्तीफा ले लेना चाहिए थे। लेकिन वह नहीं लिया गया। आखिरकार उच्चन्यायालय के हस्तक्षेप के कारण यह इस्तीफा देना पड़ा है। फडणवीस ने उद्घव ठाकरे पर भी हमला बोलते हुए सवाल किया कि मुख्यमंत्री मौन क्यों हैं ? यह पूरा प्रकरण बढ़ता गया, जटिल होता गया, परत दर परत खुलता गया, कई आश्चर्यचकित करने वाली चीजें बाहर आईं, लेकिन इस सारे घटनाक्रम के दौरान मुख्यमंत्री मौन रहे।
मुख्यमंत्री का पिछला बयान सचिन वाझे के बचाव में ही आया था, जब उन्होंने कहा था कि वाझे कोई लादेन थोड़ी है। तब से आज तक एक भी आधिकारिक बयान मुख्यमंत्री ने नहीं दिया है। फड़नवीस के अनुसार मुख्यमंत्री अपनी सरकार बचाने के लिए अलग-अलग तरह के समझौते लगातार करते जा रहे हैं। लेकिन ये समझौते एक तरह से महाराष्ट्र की इज्जत और अस्मिता के साथ हो रहे हैं। इस पर मुख्यमंत्री को जवाब देना पड़ेगा। फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र में पुलिस बल का उपयोग जिस प्रकार से निजी कामों व हफ्तावसूली के लिए होने लगा था, उसका हश्र इसी रूप में सामने आना था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!