डीएम को ज्ञापन भेज की गोल्फ कोर्स को सार्वजनिक रूप से खोलने की मांग

Spread the love

अल्मोड़ा। विश्व विख्यात गोल्फ कोर्स को सेना के रक्षा भूमि के रूप में चिह्नित करने को लेकर जन जागरण मंच के अध्यक्ष खजान जोशी ने जिलाधिकारी को ज्ञापन भेज गोल्फ कोर्स को सार्वजनिक रूप से खोलने की माग उठाई है। कहा कि चारों ओर तारबाड़ करने से इसकी प्राकृतिक सुंदरता भी प्रभावित हो गई है। जन जागरण मंच के अध्यक्ष खजान जोशी ने जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया को ज्ञापन भेज कहा कि पर्यटन नगरी रानीखेत के समीप गोल्फ कोर्स भारत का सबसे बड़ा प्राकृतिक गोल्फ कोर्स है। परंपरागत रूप से इसका उपयोग आसपास के ग्रामीण चारागाह भूमि के रूप में करते थे बाद में द रानीखेत क्लब इसे गोल्फ के रूप में विकसित किया, लेकिन हाल के दिनों में सेना इसका इस्तेमाल कर रही है। पिछले कुछ वषरें से सेना ने पूरे स्थान को अपने कब्जे में ले लिया है और इससे रक्षा भूमि के रूप में चयनित किया गया है। कहा है कि गोल्फ कोर्स शहर का एक महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है। इससे पर्यटकों की आवाजाही बढ़ती है। इससे पूर्व में भी इस पर आवाजाही पर रोक लगा दी गई थी, जिससे पर्यटन व्यवसाय चरमरा गया था। अब वर्तमान में भी इसे बंद कर दिया गया है और अब लोगों को किसी भी समय प्रवेश की अनुमति नहीं मिल रही। बताया जा रहा है कि इसे स्थाई रुप से बंद कर दिया गया है साथ ही तार बाड़ लगाए जाने से पर्यटन स्थल की सुंदरता पर भी ग्रहण लग गया है। जन जागरण मंच के अध्यक्ष ने जिलाधिकारी से तत्काल मामले में ठोस कदम उठाए जाने की माग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!