वन विभाग की नाक के नीचे चल रहा अवैध खनन

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। कोटद्वार नगर निगम क्षेत्र में खोह, मालन, सुखरौ नदी में अवैध खनन का कार्य जोरों पर चल रहा है। वन विभाग की नाक के नीचे खोह नदी में चल रहे इस अवैध खनन पर वन विभाग से लेकर स्थानीय प्रशासन तक आंखें मूंद रखी है। आलम यह है कि लैंसडौन वन प्रभाग का डीएफओ कार्यालय एवं आवास के ठीक नीचे दिन दहाड़े ही खुल्लेआम अवैध खनन चल रहा है। क्षेत्र की नदियों से प्रतिदिन हजारों टन उप खनिज क्षेत्र की सीमाओं से बाहर ले जाया जा रहा है। जिससे राज्य सरकार को प्रतिदिन लाखों का चूना लग रहा है। लेकिन इस ओर जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे है।
सरकार की ओर से बरसात के सीजन 1 जुलाई से 30 सितम्बर तक खनन पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। इसके बावजूद कोटद्वार क्षेत्र की मालन, सुखरो, खोह सहित अन्य नदियों में इन दिनों धडल्ले से अवैध खनन हो रहा है। खोह नदी में सिद्धबली पुल से ऊपर दिन-रात अवैध खनन चल रहा है। जबकि यहां से लैंसडौन वन प्रभाग का डीएफओ कार्यालय एवं आवास मात्र पांच सौ मीटर की दूरी पर स्थिति है। इसके बावजूद भी खोह नदी में धड़ल्ले से अवैध खनन चल रहा है। खोह नदी से खुलेआम हो रहा उपखनिज का अवैध खनन वन विभाग पर मिलीभगत का संदेह पैदा कर रहा है। इस अवैध खन की ओर से वन विभाग अंजान बैठा है। वहीं खनन विभाग भी इस खनन पर कोई भी कार्यवाही करने की जहमत नहीं उठा रहा है।
स्थानीय लोगों का कहना है कि प्रतिबंध के बावजूद भी नदियों में धड़ल्ले से अवैध खनन का सिलसिला चल रहा है, लेकिन वन विभाग और प्रशासन इस पर नकेल कसने में कामयाब नहीं हो पाया है। खोह नदी में दिन-रात अवैध खनन जारी है। हैरानी की बात यह है कि वन विभाग की नाक के नीचे ही गैर-कानूनी काम बेरोक-टोक चल रहा है। रात तो छोड़ों खनन माफिया दिन में भी अवैध खनन कर रहे है। खोह नदी के पास कई ट्रैक्टर-ट्रॉली खाली आते हैं। इसके बाद उपखनिज लोड करके चले जाते हैं। इस मनमानी पर लगाम लगती नहीं दिख रही है। पुलिस का रवैया इस मामले में सवालों के घेरे में है। उपखनिज से भरे डंपर कौड़िया चेक पोस्ट से होकर गुजरते है, लेकिन कोई रोकने वाला नहीं। चेक पोस्ट पर तैनात पुलिस उनसे पूछताछ तक नहीं करती। खनन माफिया इस प्राकृतिक संपदा का दोहन कर मालामाल हो रहे हैं, वहीं प्रशासन उस पर अंकुश लगाने में नाकाम है।
लैंसडौन वन प्रभाग के डीएफओ दीपक कुमार ने बताया कि सिद्धबली पुल के पास खोह नदी वन विभाग के अधीन है। अगर नदी में अवैध खनन किया जा रहा है तो उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में खोह नदी किनारे सुरक्षा दीवार का निर्माण कार्य चल रहा है। नियमानुसार नदी से पत्थर और उपखनिज का प्रयोग सुरक्षा दीवार बनाने के लिए किया जा सकता है। इसकी जांच की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!