पौड़ी गढ़वाल: एकेश्वर ब्लॉक के भैड़गांव में 19, नैनीडांडा में मिले 14 कोरोना संक्रमित

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार।
जनपद पौड़ी गढ़वाल गांवों में कोरोना तेजी से फैल रहा है। जिन गांवों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना जांच के लिए सैंपलिंग की जा रही है, वहां लोग कोरोना संक्रमित पाये जा रहे है। एकेश्वर ब्लॉक के भैड़गांव में 19 लोग कोरोना संक्रमित पाये गये है। जबकि नैनीडांडा में 14, रिखणीखाल में 7, यमकेश्वर ब्लॉक के पटना मल्ला में 9 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेट कर दिया है। साथ ही उन्हें दवाईयों की किट उपलब्ध करवा दी है।
विगत 18 मई को स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना जांच के लिए भैड़गांव में शिविर लगाया गया था। शिविर में 88 लोगों ने कोरोना जांच कराई थी। जिसमें से 19 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग गांवों में कोरोना संदिग्ध लक्षण वाले लोगों को चिन्हित करने के लिए शिविर लगा रहा है। जनपद पौड़ी गढ़वाल के सीएमओ डॉ. मनोज शर्मा ने बताया कि पिछले 24 घंटे में पौड़ी गढ़वाल में 218 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। जिसमें दुगड्डा ब्लॉक के 38, एकेश्वर के 23, जयहरीखाल के 1, कल्जीखाल के 3, खिर्सू के 33, कोट के 17, नैनीडांडा के 14, पाबौ के 3, पौड़ी के 32, पोखड़ा के 1, रिखणीखाल के 9, थलीसैंण के 2, यमकेश्वर के 15 और अन्य जिलों व राज्यों के 16 शामिल है। बीतें 24 घंटे में 280 कोरोना संक्रमित ठीक हुए है। पौड़ी गढ़वाल में अभी तक 15826 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके है, जिसमें से 11628 कोरोना संक्रमित स्वस्थ हो चुके है। जिले में 4013 एक्टिव केस है। जिसमें से पौड़ी गढ़वाल में 3001, अन्य जिलों व राज्यों के 832 शामिल है। जबकि 180 लोगों ने स्वास्थ्य विभाग को गलत जानकारी दी है। जिले में 2689 कोरोना संक्रमित होम आइसोलेट में है। सीएमओ ने बताया कि अभी तक 185 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अनावश्यक घरों से बाहर न निकले, सामाजिक दूरी का पालन करें। समय-समय पर अपने हाथों को धोते रहे एवं सैनिटाइज करते रहें। मास्क अवश्य पहने, किसी भी प्रकार से घबराएं नहीं।

14 साल की बालिका समेत तीन की मौत
जयन्त प्रतिनिधि।
श्रीनगर।
पिछले 24 घंटे में कोविड अस्पताल श्रीकोट में 15 वर्षीय बालिका समेत 3 लोगों की मौत हो गई। दो मृतक रुद्रप्रयाग और एक चमोली जिले का है। कोविड अस्पताल के पीआरओ अरुण बडोनी ने बताया कि जाल तल्ला (रुद्रप्रयाग) की 15 वर्षीय बालिका 22 मई को जिला अस्पताल से रेफर होकर यहां आई थी। शनिवार रात साढ़े 11 बजे उसने कोविड आईसीयू में दम तोड़ दिया। गौचर (चमोली) के 63 वर्षीय व्यक्ति 12 मई को अस्पताल में भर्ती हुआ था। 22 मई को उसकी मृत्यु हो गई। तिमली (रुद्रप्रयाग) की 73 वर्षीय बुजुर्ग महिला की 23 मई की सुबह मौत हो गई। वह जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग से रेफर होकर आई थी।

कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के लिए हैल्प नंबर जारी
कोरोना संक्रमण से मृत व्यक्ति के परिजनों को अब भटकना नहीं पड़ेगा
जयन्त प्रतिनिधि।
श्रीनगर।
कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के बाद परिजनों को अंतिम संस्कार की व्यवस्थाएं जुटाने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। तहसील प्रशासन ने अंतिम संस्कार में प्रयोग होने वाली सामग्री की उपलब्धता व शव वाहन के संबंध में हेल्प लाइन नंबर जारी किए हैं। हेल्प लाइन संबंधी पोस्टर कोविड अस्पताल सहित प्रमुख स्थानों पर चस्पा कर दिए गए हैं। प्रशासन की ओर से सभी सेवाएं नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही हैं।
कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के लिए पीड़ित परिजनों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। परिजनों के समक्ष सबसे बड़ी समस्या कोरोना संक्रमित शव को अंतिम संस्कार के लिए मोर्चरी से श्मशान घाट तक ले जाने की हो रही है। शव के ले जाने के लिए शव वाहन ही नहीं मिल रहा है। हालांकि मानवीय पहलू को देखते हुए मेडिकल कॉलेज शव ले जाने के लिए एंबुलेंस उपलब्ध करवा रही है। इसके अलावा कई बार दाह संस्कार के लिए लकड़ी और कैरोसिन तेल की भी दिक्कत हो जाती है। इन सभी समस्याओं के निराकरण के लिए तहसील प्रशासन ने हेल्प लाइन नंबर जारी किए हैं। इस संबंध में कोविड अस्पताल, मोर्चरी, पौड़ी बस अड्डे के समीप व श्मशान घाट के प्रवेश द्वार पर फ्लैक्स लगाए हैं। इन फ्लैक्सों पर शव वाहन संचालक, लकड़ी-तेल से संबधित व्यक्ति व एसडीआरएफ का नंबर लिखा गया है। एसडीएम रविंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि पीड़ित परिजन इन नंबरों पर फोन कर लकड़ी, तेल व शव वाहन की व्यवस्था कर सकते हैं। यदि शव के अंतिम संस्कार के लिए पर्याप्त लोग नहीं हैं तो एसडीआरएफ अंतिम संस्कार में सहयोग करेगी। एसडीएम ने कहा कि प्रशासन का पूरा प्रयास है कि दु:ख की इस घड़ी में पीड़ित परिजनों का यथा संभव मदद कर सके।

सिरई व दवलकंडी गांव को बनाया कंटेनमेंट जोन
जयन्त प्रतिनिधि।
देवप्रयाग।
हिंडोलाखाल क्षेत्र के सिरई व दवलकंडी गांव में कोरोना संक्रमित मिलने पर प्रशासन ने दोनों गांवों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। प्रभारी तहसीलदार मदन लाल ने बताया कि सिरई में सात और दवलकंडी
गांव में 10 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। सुरक्षा की दृष्टि से दोनों गांवों को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। जबकि भरपूर पट्टी के बागी गांव को कंटेनमेंट जोन से हटा दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!