राजीव गौड़ को कोर्ट में पेश करने को पुलिस हुई मुश्तैद, शहर भर में की मुनादी

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। सुखरो नदी में खनन कारोबारियों द्वारा मानकों के खिलाफ किये जा रहे खनन की फेसबुक लाइव करने गये राजीव गौड़ के खिलाफ हत्या के प्रयास और
एससीएसटी एक्ट के तहत दी गई रिपोर्ट पर राजीव गौड़ को गिरफ्तार करने में नाकाम रही पुलिस ने अब अदालत के आदेश पर राजीव गौड़ व उसके ड्राईवर के
खिलाफ अदालत से राजीव गौड़ के गिरफ्तार न होने पर कुर्की आदेश ले लिये है। जिसके तहत बुधवार को पूरे शहर और उसके निवास स्थान पर मुनादी कर
अदालती आदेश को चस्पा किया गया। पुलिस ने राजीव गौड़ को भगोड़ा घोषित करने हेतु रिपोर्ट अदालत में पेश की है। जहां अदालत ने राजीव गौड़ को अगले
महीने अगस्त की 7 तारीक को पेश होने का आदेश दिया है। पेश न होने पर राजीव गौड़ की कुर्की करने की बात कही गई है। इस आशय की मुनादी ढोल बजाकर
पुलिस गाड़ी से एलाउसमेंट करते हुए जहां पुलिस ने राजीव गौड़ के घर व उसके ड्राईवर के लिए लालबत्ती चौराहे पर की गई।
ज्ञातव्य हो कि मई माह में सुखरो नदी में रीवर टे्रनिंग का कार्य चल रहा था। 30 मई को सांय खनन क्षेत्र में उस वक्त बवाल हो गया था, जब स्वयं को
पत्रकार बताने वाले एक व्यक्ति ने खनन कार्य की लाइव रिपोर्टिंग शुरू कर दी थी। बलभद्रपुर निवासी राजीव गौड़ ने पुलिस को तहरीर दर्ज कराते हुए बताया था कि
30 मई को सांय करीब सात बजे वह नियम विरुद्ध हो रहे खनन की करवेज करने के लिए सुखरो नदी में गया। इस दौरान नदी में खननकारी महेंद्र बिष्ट, अजय
नेगी, ग्राम प्रधान सहित 20-25 अन्य लोगों ने उसके साथ ही उसके मित्र मुजीब नैथानी पर धारदार हथियार से हमला करने के साथ ही दोनों को जान से मारने की
धमकी दी। पुलिस ने राजीव गौड़ का मेडिकल कराने के साथ ही नामजद व अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। वहीं पट्टाधारक पदमपुर निवासी
विकास रावत व ग्राम बंठोली (श्रीकोटखाल) की ओर से पुलिस को दी गई तहरीर में कहा गया था कि राजीव गौड़ व मुजीब नैथानी उनके द्वारा सुखरो नदी में लिए
गए पट्टों के बाबत करीब एक सप्ताह से प्रति पट्टा पांच लाख रूपए की रंगदारी मांग रहे थे। खुद को पत्रकार बताते हुए उन्होंने पैसे न मिलने पर उनके विरुद्ध खबर
प्रचारित-प्रसारित करने की बात कह रहे थे। 30 मई को सांय सात बजे दोनों खनन पट्टों पर पहुंचे और वीडियोग्राफी करते हुए नापजोख करने लगे। जब उनसे इस
बाबत पूछा गया तो उक्त लोगों ने उनके साथियों व कर्मचारियों से जाति सूचक शब्दों का प्रयोग कर गाली-गलौच करना शुरू कर दिया। साथ ही राइफल व पिस्टल
से जान से मारने की नीयत से फायरिंग कर धारदार हथियार से हमले का भी प्रयास किया। पुलिस ने पट्टाधारक की तहरीर के आधार पर राजीव गौड़ व मुजीब
नैथानी के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया था, लेकिन पुलिस अभी तक राजीव गौड़ को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

कोटद्वार का पूरा पुलिस महकमा उतरा मुनादी करने
बुधवार को कोटद्वार का पूरा पुलिस महकमा मुनादी करने के लिए सड़कों पर उतर पड़ा। मुनादी करने के लिए सीओ अनिल जोशी, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मनोज
रतूड़ी, एसएसआई प्रदीप नेगी समेत कोटद्वार की अधिकांश पुलिस मुनादी करने के लिए शहर की सड़कों पर उतरी। पुलिस ने झण्डाचौक, लालबत्ती चौराहे व राजीव
गौड़ के निवास घर पर पुलिस की गाड़ी की से एलाउसमेंट किया। एक साथ इतने पुलिस कर्मियों के सड़क पर उतरने से लोग दहशत में आ गये। लोगों ने बताया
कि एक साथ सीओ, कोतवाल, एसएसआई समेत अन्य पुलिस कर्मियों के सड़क पर आने से ऐसा लगा कि कोटद्वार में कोई बड़ी घटना हो गई है। कोतवाल मनोज
रतूड़ी ने गाड़ी से एलाउसमेंट करते हुए कहा कि माननीय न्यायालय द्वारा उक्त घोषणा की जाती है कि अभियुक्त राजीव गौड़ पुत्र स्व. मंगतराम गौड़ निवासी
बलभ्रदपुर, अभियुक्त पपेन्द्र उर्फ भीर्म ंसह पुत्र राजेश सिंह निवासी पदमपुर के खिलाफ आईपीसी की धारा 384, 307 324, 506, एससीएसटी एक्ट के तहत
वांछनीय है। यदि यह दोनों अभियुक्त गिरफ्तार या माननीय न्यायालय में पेश नहीं होते है तो जल्द ही धारा 83 आईपीसी के तहत इनके घरों की कुर्की की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!