पिथौरागढ़ में खाई में गिरी कार, चार महिलाओं की मौत, दो पुरुष घायल, हल्द्वानी से पूजा को जा रहा था परिवार

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

पिथौरागढ। शनिवार की रात व रविवार का दिन कुमाऊं के लिए भारी रहा। नैनीताल में रात में दो हादसों में तीन की जान चली गई। डीडीहाट के पूनी गाव से बागेश्वर को जा रही एक कार थल से दस किमी दूर अस्कोट -कर्णप्रयाग मोटर मार्ग में पमतोड़ी के पास अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिर गई।
कार में सवार एक ही परिवार की तीन महिलाओं सहित एक रिश्तेदार महिला की मौत हो गई । मृतकों में एक नब्बे वर्षीय महिला भी शामिल है। परिवार के दो पुरु ष घायल हो गए। हादसे में सास, जेठानी, देवरानी सहित रिश्तेदार की मौत हो गई। दो भाई घायल हो गए।
मूलरूप से पूनी गांव निवासी वर्तमान में हल्द्वानी में बस चुके पूर्व शिक्षक चंदन सिंह बसेड़ा अपने दूसरे गांव साता में पूजा कर रविवार को अपने परिवार के साथ निजी कार यूपी 02ए -6409 से बागेश्वर को जा रहा थे। कार थल से लगभग नौ किमी की दूरी पर पमतोड़ी के पास अनियंत्रित होकर सौ मीटर गहरी खाई में गिर गई।
कार के परखच्चे उड़ गए। कार में सवार तुलसी देवी 53 वर्ष पत्नी चंदन सिंह बसेड़ा, आशा बसेड़ा 50 वर्ष पत्नी गोविंद सिंह निवासी पूनी गांव हाल निवासी हल्द्वानी, तारा देवी 50 वर्ष पत्नी बलवंत सिंह नगरकोटी निवासी मंडलसेरा बागेश्वर की मौके पर ही मौत हो गई।
देवकी देवी 90 वर्ष पत्नी धन सिंह बसेड़ा निवासी पूनी गांव हाल निवासी हल्द्वानी की थल गोचर अस्पताल में उपचार के दौरान मृत्यु हुई। कार चला रहे चंदन सिंह बसेड़ा 61 वर्ष पुत्र धन सिंह बसेड़ा, उसका छोटा भाई गोविंद सिंह बसेड़ा 57 वर्ष और उनकी मां देवकी देवी 90 वर्ष पत्नी धन सिंह बसेड़ा घायल हो गए। कार चला रहा चंदन सिंह कार के खाई में गिरने के दौरान वाहन से छिटक गया था और घायलावस्था में खाई से घिसट कर सड़क पर पहुंचा। उसी दौरान उसने बाइक से कहीं जा रहे नाचनी निवासी दो युवाओं को दुर्घटना के बारे में बताया। थल से पुलिस, युवा, एसडीआरएफ मौके पर पहुंंच गई। दो घायलों को खाई से निकाला।
थल निवासी समाज सेवी सुनील सत्याल तीनों घायलों को अपनी कार से गोचर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाए। जहां उपचार के दौरान 90 वर्षीय देवकी देवी ने दम तोड़ दिया। घायल दोनों भाईयों को प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया है। इस हादसे में सास, देवरानी, जेठानी सहित घायल गोविंद सिंह की बागेश्वर निवासी साली की मृत्यु हुई। परिवार साली को उसके घर पहुंचाने बागेश्वर जा रहा था। मृतका तुलसी देवी बागेश्वर के जूनियर हाईस्कूल में शिक्षिका थी।
सूचना मिलते ही थल थानाध्यक्ष हीरा सिंह डांगी, डीडीहाट कोतवाली के प्रभारी हिमांशु पंत , एसआइ बसंत टम्टा, जवान रमेश शर्मा, हैड कांस्टेबिल हरीश कुमार, गणेश राम, हेम चंद्र राणा, प्रदीप गिरी सहित स्थानीय समाज सेवी संजय बसेड़ा, गिरीश बसेड़ा, होशियार सिंह मेहता, लालू मेहता, मनोहर सिंह आदि भी मौके पर पहुंचे और खाई में उतर कर बचाव कार्य में जुटे। एसडीआरएफ भी राहत कार्य में जुटी। जिलाधिकारी डा़ आशीष चौहान ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए शवों के पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय से चिकित्सा टीम थल भेज दी है।
दुर्घटना के दौरान एसएसबी के जवान बल के वाहन से अल्मोड़ा से डीडीहाट को जा रहे थे । मौके पर वाहन से उतर कर राहत कार्य में जुट गए। स्थानीय युवा , एसएसबी, पुलिस और एसडीआरएफ को खाई से शवों को सड़क तक पहुंचाने में दो घंटे का समय लगा। खाई की सीधी ढलान से रेस्क्यू करना भी चुनौती बना था।
तीन साल बाद पूजा के लिए गांव आया था परिवार हल्द्वानी में बस चुका चंदन सिंह का परिवार तीन साल बाद पूजा के लिए गांव आया था। शनिवार को परिवार ने डीडीहाट के सिराकोट के मलयनाथ मंदिर में पूजा की । रविवार को अपने दूसरे गांव चौबाटी के साता के जगतमल मंदिर में पूजा अर्चना की। पूजा के बाद गोविंद सिंह अपनी साली को बागेश्वर छोडने परिवार के साथ जा रहा था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!