फर्जी समूह बनाकर युवती से ऐंठ लिए 37 लाख 98 हजार रुपये

Spread the love
Backup_of_Backup_of_add

 

रुद्रपुर। ट्रांजिट र्केप में रहने वाले युवकों ने फर्जी समूह बनाकर युवती से रुपये डबल होने की बात 37 लाख 98 हजार 555 रुपये ठग लिए। जब उसने अपने पैसे वापस मांगे तो उसको जान से मारने की धमकी भी दी। पीड़ित ने पुलिस से शिकायत की, लेकिन मामला दर्ज नहीं हुआ। इसके बाद पीड़ित ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। ट्रांजिट र्केप निवासी अंजलि देवी ने बताया कि छह वर्ष पूर्व यहां के रहने वाले रिपन सरकार और गौर ढाली, विधान, दिनेश और अमरीश ने उसको चिट फंड के बारे में समझाया था। इसमें उन्होंने कहा था कि हरि स्वयं सहायता समूह के सदस्य बनकर अपना रुपया समूह में जमा कराएं। सभी सदस्य को जमा किए गए रुपये में तीन प्रतिशत मासिक ब्याज के हिसाब से हर साल ब्याज के साथ मूलधन वापस करेंगे। आरोप है कि उन लोगों ने आश्वासन दिया कि हर साल के हिसाब से जो भी रुपये जमा होगा अगले वर्ष में उस रुपये का मूलधन ब्याज जोड़कर मूलधन बन जायेगा, फिर अगले वर्ष से मूलधन एक साल का ब्याज का भी तीन प्रतिशत ब्याज मिलेगा। इससे रुपया ढाई वर्ष में डबल हो जाएगा और जरूरत पड़ने पर इसी ब्याज से लोन भी मिल सकेगा। उन्होंने बताया कि समूह रजिस्टर्ड है और खाता छह वर्ष के लिए ही खोला जाएगा। उसका आरोप था कि वह आश्वासन में आकर रुपया जमा करती रही। कुछ दिनों के बाद उन लोगों ने ट्रांजिट र्केप में रहने वाले न्यूटन तरफदार पुत्र श्यामल से मिलाया और कहा कि अब से न्यूटन तरफदार लोगों से रुपये एकत्र करने के लिए आएगा। वह न्यूटन को रकम देती रही। उसका कहना था कि अभी तक वह लगभग 37 लाख 98 हजार 555 रुपये जमा कराया। अन्य लोगों द्वारा करीब दो करोड़ रुपया जमा कराया। इसके बाद छह वर्ष बीतने के बाद जब उसने अपना रुपया मांगा तो न्यूटन ने कहा कि वह उनकी रकम जमा करवा चुका है। अंजलि देवी ने रिपन सरकार, गौर ढाली, विधान व्यापारी, अमरीश मण्डल, दिनेश व्यापारी से रकम मांगी तो उन्होंने रकम देने से इनकार कर दिया। इसके बाद उसको पता चला कि फर्जी समूह बनाकर उसके साथ धोखाधड़ी हुई। पीड़ित ने पुलिस को तहरीर दी। इसके बाद भी मामले में रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। जब उसने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया तो आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!