आफत की बारिश: रुद्रप्रयाग के गांव में अतिवृष्टि से तबाही

Spread the love

रुद्रप्रयाग। प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से तबाही मची हुई हे। अतिवृष्टि की वजह से कहीं संपर्क मार्ग टूट गए हैं तो कहीं पर घरों में मलब घुस गया है। प्रशासन की ओर से प्रभावित क्षेत्रों में दौरा कर राहत व बचाव कार्य किया जा रहा है। लेकिन, ग्रामीणों में रोष है कि राहत कार्यों में देरी की जा रही है। रविवार देररात में अतिवृष्टि की वजह से रुद्रप्रयाग जिले में गांव में तबाही मच गई है। अतिवृष्टि की वजह से घरों में मलबा घस गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, जिले के जखोली ब्लक के सिरवाडी क्षेत्र में बीती रात अतिवृष्टि से भारी नुकसान हुआ है। आधा दर्जन मकान में मलबा घुसा है। कई खेत तबाह हुए हैं।
प्रशासन की टीम मौके पर राहत व बचाव कार्य के लिए रवाना हो गई है। रुद्रप्रयाग विधायक भी मौके को रवाना हुए है। लेकिन, रुक-रुक हो रही बारिश से टीम को राहत कार्य के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी है।
राजधानी देहरादून में भी रविवार देर रात से हो रही बारिश से लोगों की मुसीबतें भी बढ़ गई हैं। सहस्त्रधारा रोड डीजी हेल्थ आफिस के पास कल रात एक गाड़ी स्विफ्ट पुल पार करते समय उफनते नाले के पानी मे बह गई। कार सवार चालक ने समझदारी का परिचय देते हुए स्वयं ही गाड़ी से सकुशल निकल कर संबंधित पुलिस चौकी पर गया। जीएसएस रोड स्थित संगम विहार में पुश्ता ढहने से भी नुकसान हुआ है लेकिन कोई जानमाल की हानि नहीं पहुंची है। विकासनगर में भी भारी बारिश की वजह से लोगों की मुसीबतें बढ़ गई हैं। कालसी व विकासनगर में भूस्खलन की वजह से लोग फंसे हुए हैं और राहत का कार्य जोरों से चल रहा है।
वहीं, पर्यटन नगरी मसूरी के पर्यटक स्थल र्केपटी फल में झरने का पानी उफान पर आ गया है लेकिन अभी तक नुकसान होने की कोई सूचना नहीं है। र्केपटी व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुंदर सिंह रावत ने बताया कि भारी बारिश के चलते झरने का पानी उफान पर है लेकिन अभी तक नुकसान नहीं हुआ है। कुछ दुकानों में हल्का फुल्का पानी घुस गया है। उन्होंने बताया कि इन दिनों कोरोना संक्रमण के चलते दुकानें बंद है इसलिए जनहानि के साथ ही किसी भी तरह का नुकसान नहीं हुआ है। लगातार बारिश होने से पानी बढ़ रहा है जिससे नुकसान होने की संभावना बन रही है। मसूरी के लक्ष्मण पुरी में नाला फटने के कारण एक मकान की छत क्षतिग्रस्त होने से भवन स्वामी का काफी नुकसान हो गया हालांकि जनहानि की कोई सूचना नहीं है टिहरी जिले के पर्यटक स्थल धनोल्टी में भारी बारिश की वजह से एक दुकान व एक मकान ढह गया। लेकिन गनीमत रही कि हादसे में किसी की भी जान नहीं गई है। राहत का काम जारी है। भारी बारिश को देखते हुए प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है।
बरसाती नदियां ऊफान पर
बीती रात भर से लगातार बारिश होने से देहरादून में बरसाती नदियां ऊफान पर हैं। रिस्पना और बिंदाल नदी ने तो कहर बरपा दिया। कई घरों में पानी घुस गया। र्केट विधानसभा क्षेत्र में श्रीदेव सुमन नगर वार्ड व गोविंद्गढ़ में नाला टूटने से अनेक मोहल्लों में बरसात का पानी भर गया है। वहीं, जीएमएस रोड स्थित लेन नंबर सात मोहित नगर में भी पुश्ता टूटने से कई घरों में पानी घुस गया है। कई इलाकों में बिजली की तारें टूट गई है। इससे आधी रात के बाद से दून के कई क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति भी बाधित है। साथ ही पानी की आपूर्ति भी नहीं हो सकी। बारिश से द दून स्कूल की दीवार गिर गई।
प्रदेश के आठ जिलों में भारी बारिश का अलर्ट
मौसम विभाग ने प्रदेश के आठ जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। विभाग ने अल्मोड़ा, उधमसिंह नगर, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी, और चमोली जिले में हल्की बारिश की संभावना जताई है। जबकि, देहरादून, पिथौरागढ़, बागेश्वर, नैनीताल, चंपावत,पौड़ी, हरिद्वार व टिहरी में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। अलर्ट को देखते हुए प्रशासन भी एक्शन मोड
में आ गया है।

टपकेश्वर में तमसा नदी
अपने पूर्ण प्रवाह में
टपकेश्वर महादेव मंदिर में वर्षों बाद सौरमास सावन के अंतिम सोमवार में तमसा नदी अपने पूर्ण प्रवाह में दिखी। मंदिर को आने वाले रास्तों ने भी नदी का रूप धारण कर लिया। घंटो तक श्रद्घालु बाहर रुके रहे जलस्तर कम होने पर उन्होंने मंदिरों के दर्शन किए। माता वैष्णो देवी गुफा योग मंदिर की सुरक्षा दीवार भी तेज प्रवाह में बह गई। मंदिर के संस्थापक आचार्य विपिन जोशी ने बताया कि कई साल बाद इस तरह नदी का जलस्तर बढ़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!